मेंस्ट्रुअल कप छोटे सिलिकॉन के बने हुए कप होते हैं, जो वजाइना से पीरियड ब्लड इकट्ठा करने का काम करते हैं। इसे पीरियड्स के दौरान महिला की वजाइना में डाला जाता है। मेंस्‍ट्रुअल कप के बारे में अभी लोग बहुत कम जानते हैं। इसका इस्तेमाल भी कम किया जाता है लेकिन महिलाओं और लड़कियों के लिए मेंस्‍ट्रुअल कप काफी उपयोगी है।

आइए जानते हैं कि पेड्स और टैम्पोन से बेहतर क्यों है – मेंस्ट्रुअल कप

1. मेंस्ट्रुअल कप सेनेटरी पैड की तुलना में सस्ते पड़ते हैं। एक मेंस्ट्रुअल कप को आप कई बार इस्तेमाल में ला सकती हैं। Sterilize करके इसे दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। इसलिए इनपर खर्च कम पड़ता है‌।

2. कई बार महिलाओं को सबसे बड़ी चिंता होता है कि पैड को कहां फेंका जाएं। इसमें ऐसी कोई परेशानी नहीं होती है। आप इसे धोकर फिर से इस्‍तेमाल करने लग जाएं।

3. इसका सबसे बड़ा फायदा है कि ये वातावरण को दूषित नहीं करते। यह एनवायरमेंट फ्रेंडली (enviornment friendly) होते हैं।

 सेनेटरी पैड को बनाते समय उपयोग होने वाले केमिकल से वेजाइनल एरिया में इन्फेक्शन होने का डर बना रहता है। वहीं दूसरी तरफ मेंस्ट्रुअल कप सिलिकॉन से बना होता है, जिसमें इंफेक्शन का खतरा कम होता है।

और पढ़ें ‌- पीरियड्स के दर्द में आराम दिलाएं ये होम रेमेडीज़

4. सेनेटरी पैड को बनाते समय उपयोग होने वाले केमिकल से वेजाइनल एरिया में इन्फेक्शन होने का डर बना रहता है। वहीं दूसरी तरफ मेंस्ट्रुअल कप सिलिकॉन से बना होता है, जिसमें इंफेक्शन का खतरा कम होता है।

5. कप को बदलने की आवश्यकता 3 साल तक नहीं पड़ती। इस समय अवधि के भीतर, उचित सफाई और सही से प्रयोग के साथ इसका कई बार प्रयोग किया जा सकता है।

6. सेनेटरी पेड को हर 6 से 7 घंटे में बदलना पड़ता है। जबकि कप को एक बार इन्सर्ट करने के बाद कम से कम 12 घंटे तक इसे निकालने की जरूरत नहीं पड़ती है। यह लंबे समय तक ब्लड फ्लो को रोकने में सफल होता है।

7. मेंस्ट्रुअल कप्स आपकी वेजिनल हेल्थ के लिए बहुत अच्छे होते हैं। इसलिए ज़रूरी है कि महिलाओं को मेंस्ट्रुअल कप्स के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जागरूक किया जाए।

और पढ़ें ‌- क्या आप पीरियड्स से जुड़ी ये 6 बातें जानते हैं ?

Email us at connect@shethepeople.tv