Self-dependent Women: जानिए क्यों होना चाहिए महिलाओं को सेल्फ डिपेंड

जब उसी परिवार की कोई महिला सेल्फ डिपेंड बन जाती है तो पूरा परिवार भी सेल्फ डिपेंड हो जाता है क्योंकि महिला किसी भी स्थिति में अपने परिवार को पूरा सपोर्ट करती है चाहे वह फाइनेंशली हो, इमोशनली हो, या फिजिकली।

Swati Bundela
07 Dec 2022
Self-dependent Women: जानिए क्यों होना चाहिए महिलाओं को सेल्फ डिपेंड

Self-dependent Women

आजकल की इस आधुनिक दुनिया मे वैसे तो हर किसी को सेल डिपेंड(self depend) होना ही चाहिए। पर हमारे यहां की पुरानी रीति-रिवाजों के अनुसार महिलाएं हमेशा से ही घरेलू रहीं हैं। और अपनी फैमिली पर फाइनेंशली डिपेंड रही है ।बदलते वातावरण में यह चीज बदलती नजर आ रही है।इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि एक महिला को सेल्फ डिपेंड होने की कितनी आवश्यकता है। और उसे क्यों सेल्फ डिपेंड होना चाहिए।

5 reasons why women should be self dependent -

1. मिलेगा सम्मान

वैसे तो महिला घर पर रहे या बाहर उसकी भूमिका हमेशा से ही जरूरी रही है। घर पर रहकर भी वह घर के हर सदस्य  का ध्यान रखती है फिर भी उसे इतना सम्मान नहीं मिल पाता जितना सम्मान उसे मिलना चाहिए, पर जब वही महिला खुद फाइनेंशली सेल्फ डिपेंड बनती है तब वह घर में बराबरी की हकदार हो जाती है जिस वजह से उसका ना केवल घर में बल्कि समाज में भी सम्मान बढ़ जाता है।

2. बढ़ेगा कॉन्फिडेंस

जैसे कि देखने को मिलता है कि हर घर में हर महिला खुद से ज्यादा दूसरों के लिए काम करती है। अपनी फैमिली के लिए कई बार अपनी ड्रीम्स को भी सैक्रिफाइस करते है। पर इसके बावजूद भी उसे अपनी छोटी छोटी चीजों के लिए दूसरों से या घर के मर्दों से पैसे मांगने की जरूरत पड़ती है। पर जब वही महिला सेल्फ डिपेंड बन जाती है और फाइनेंशली इंडिपेंडेंट होती है, तो उसे किसी भी चीज के लिए किसी के आगे हाथ फैलाने की कोई जरूरत नहीं होती जिस वजह से उसका खुद का आत्मसम्मान बहुत बढ़ जाता है।

3. फैमिली को सपोर्ट

आपने यह बात तो सुनी होगी की एक महिला से ही परिवार का निर्माण होता है। जो सही भी है, उसी तरह जब उसी परिवार की कोई महिला सेल्फ डिपेंड बन जाती है तो पूरा परिवार भी सेल्फ डिपेंड हो जाता है क्योंकि महिला किसी भी स्थिति में अपने परिवार को पूरा सपोर्ट करती है चाहे वह फाइनेंशली हो, इमोशनली हो, या फिजिकली।

4. समझती है एजुकेशन के मायने

आज भी इंडिया में यह बात आपको आसानी से सुनने मिल जाती है कि जब आप एक लड़के को पढ़ाते हैं तो आप एक परिवार को पढ़ाते हैं पर जब आप किसी लड़की को पढ़ाते हैं, तो आप दो परिवारों को शिक्षित करते हैं। यही बात साबित करती है कि पढ़ी-लिखी और सेल्फ डिपेंड महिला एजुकेशन के मायने समझती है और वह अपने बच्चों को भी एजुकेट करने में पीछे नहीं हटती।

5. लाइफ होगी बेटर

यह बात तो सही है कि एक सेल्फ डिपेंड महिला की लाइफ में चैलेंज ज्यादा होते हैं, पर उसकी लाइफ किसी भी घरेलू महिला के मुकाबले ज्यादा अच्छी होती है। उसे खुद के लिए स्टैंड लेना आता है, उसे कोई दबा नहीं सकता, डरा नहीं सकता। वह अपनी लाइफ के डिसिजन खुद ले सकती है।

आज की इस दुनिया में महिला को सेल्फ डिपेंड जरूर होना चाहिए। क्योंकि यह मॉडर्न जमाने की मांग है। आप सेल्फ डिपेंड बनकर अपनी लाइफ को बहुत बैटर बना सकते हैं। और साथ ही साथ अपना फ्यूचर खुद डिसाइड कर सकते हैं।

Read The Next Article