पीरियड्स आमतौर पर हर महिला के जीवन की एक आम प्रक्रिया है। आज भी पीरियड्स को एक taboo के रूप में माना जाता है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को उनके कामों और कर्तव्यों को करने से रोका जाता है। आज हम बात करेंगे कुछ Menstruation myths के बारे में।

image

1. पीरियड्स के दौरान एक्सरसाइज करना सही नहीं

एक रिपोर्ट के अनुसार हर हफ्ते 150 मिनट या कम से कम 75 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें। क्योंकि यह पीरियड्स में होने वाले पेट दर्द को कम करता है।

2. पीरियड्स के दौरान बाल न धोएं

पीरियड के दौरान बाल न धोने के पीछे सिर्फ हमारा भ्रम ही एक कारण है। मेडिकल साइंस में ऐसा कुछ नहीं कहा गया है कि पीरियड के दौरान बाल धोने नहीं चाहिए। महिलाएं जब चाहें तब बाल धो सकती हैं।

3. पीरियड्स में पूजा नहीं करनी चाहिए

लोगों का मानना है कि इस दौरान महिलायें अशुद्ध होती है और वो जिस भी चीज़ को छूती है वो भी अशुद्ध हो जाती है। लेकिन यह भी सोचने वाली बात है कि भगवान् जो कि सर्वोपरि हैं वो किसी स्त्री के छूने से कैसे अशुद्ध हो सकते है।

और पढ़ें ‌- जानिए वजाइना से जुड़े 8 Myths

4. पीरियड के दौरान अचार छूने से अचार खराब हो जाता है 

ऐसी मान्यता काफी समय से है लेकिन यह बिल्कुल गलत है।दरअसल अचार तब खराब होता है जब कोई गीले हाथों से उसे छू ले।

5. पीरियड्स के दौरान स्विमिंग नहीं करनी चाहिए 

लोग मानते हैं कि पीरियड्स के दौरान स्विमिंग के लिए नहीं जाना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं है। पानी में पैड की जगह टैम्पॉन का ही उपयोग करके आप स्विमिंग कर सकते हैं क्योंकि यह काफी ज्यादा कंफर्टेबल होता है।

6. पीरियड्स के दौरान महिला प्रेगनेंट नहीं हो सकती

हालांकि पीरियड्स के दौरान गर्भ धारण करने के गुंजाइश कम होती है। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है कि महिला पीरियड के समय प्रेगनेंट नहीं हो सकती।

7. पीरियड्स पूरे एक हफ्ते चलना ही चाहिए

शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन की मात्रा के हिसाब से खून और प्रोटीन की मोटी या पतली परत बनती है, अगर परत मोटी है तो पीरियड में खून ज़्यादा बहता है, अगर पतली है तो कम और इसी पर डिपेंड करता है कि पीरियड्स साइकिल एक हफ्ते का होगा या उस से कम।

8. पीरियड मिस मतलब महिला प्रेगनेंट

यह सच है कि प्रेगनेंसी के दौरान पीरियड्स नहीं होते हैं लेकिन पीरियड्स नहीं होने के पीछे सिर्फ यही एक कारण नहीं है। मतलब प्रेग्नेंट होने के अलावा भी कई कारण हैं जब पीरियड्स नहीं होते या मिस हो जाते हैं. जैसे- स्ट्रेस, खराब डाइट और हॉर्मोनल चेंजेस।

पढ़िए : पीरियड्स के आस पास की शर्म कब ख़त्म होगी ?

Email us at connect@shethepeople.tv