Advertisment

Online Trolls के खिलाफ भारत में कर सकते हैं इन कानून का इस्तेमाल

डिजिटल युग में ऑनलाइन ट्रोलिंग एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है, जिससे व्यक्तियों को परेशानी और नुकसान हो रहा है। आइये इस आर्टिकल में जानते हैं भारत के उन कानूनों के बारे में जिनका उपयोग ऑनलाइन ट्रोलर्स के खिलाफ किया जा सकता है।

author-image
Priya Singh
New Update
laws

These laws Can Be Used In India against Online Trolls: डिजिटल युग में ऑनलाइन ट्रोलिंग एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है, जिससे व्यक्तियों को परेशानी और नुकसान हो रहा है। भारत में, इस खतरे से निपटने के लिए विभिन्न कानूनी प्रावधान मौजूद हैं। ये कानून व्यक्तियों को ऑनलाइन उत्पीड़न से बचाने के लिए एक रूपरेखा प्रदान करते हैं। यह सुनिश्चित करते हुए कि अपराधियों को जवाबदेह ठहराया जाए। आइये इस आर्टिकल में जानते हैं भारत के उन कानूनों के बारे में जिनका उपयोग ऑनलाइन ट्रोलर्स के खिलाफ किया जा सकता है।

Advertisment

Online Trolls के खिलाफ भारत में कर सकते हैं इन कानून का इस्तेमाल

1. सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 (धारा 67)

आईटी अधिनियम की धारा 67 इलेक्ट्रॉनिक रूप में अश्लील सामग्री प्रकाशित करने या प्रसारित करने पर दंड से संबंधित है। यह अनुभाग उन मामलों में प्रासंगिक है जहां ट्रोलर्स व्यक्तियों को परेशान करने के लिए अश्लील, नग्न या स्पष्ट यौन सामग्री साझा करते हैं। इस धारा के तहत दोषसिद्धि पर कारावास और जुर्माना हो सकता है, जो ऑनलाइन उत्पीड़न के लिए एक निवारक के रूप में काम करेगा।

Advertisment

2. भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) धारा 354डी - स्टाकिंग

आईपीसी की धारा 354डी स्टाकिंग करने के अपराध को संबोधित करती है, जिसमें ऑनलाइन स्टाकिंग करना भी शामिल है। यह प्रावधान उन मामलों के लिए विशेष रूप से प्रासंगिक है जहां ट्रोलर्स  लगातार व्यक्तियों को ऑनलाइन स्टाक करते हैं और उन्हें परेशान करते हैं, जिससे भय या असुविधा होती है। यह लगातार ऑनलाइन उत्पीड़न से निपटने के लिए एक मजबूत तंत्र प्रदान करते हुए कारावास और जुर्माने का प्रावधान करता है।

3. भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) धारा 507 - अज्ञात संचार द्वारा आपराधिक धमकी

Advertisment

आईपीसी की धारा 507 उन ऑनलाइन ट्रोलर्स के खिलाफ लगाई जा सकती है जो व्यक्तियों को डराने और धमकाने के लिए गुमनामी का इस्तेमाल करते हैं। यह आपराधिक धमकी के लिए सज़ा को बढ़ाता है जब अपराधी अपनी पहचान छुपाता है। यह ऑनलाइन ट्रोलिंग के मामलों में महत्वपूर्ण है जहां गुमनामी अक्सर अपराधियों को प्रोत्साहित करती है।

4. भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) धारा 499 - मानहानि

ऑनलाइन ट्रोलिंग में अक्सर किसी की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के इरादे से अपमानजनक बयान शामिल होते हैं। आईपीसी की धारा 499 मानहानि को परिभाषित करती है और धारा 500 इसके लिए सजा निर्धारित करती है। मानहानिकारक ट्रोलिंग के शिकार लोग इन प्रावधानों के तहत कानूनी सहारा ले सकते हैं, जिसमें कारावास या जुर्माना शामिल है।

5. यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) अधिनियम, 2012

POCSO अधिनियम बच्चों को ऑनलाइन शोषण सहित यौन शोषण के खिलाफ व्यापक सुरक्षा प्रदान करता है। इसमें नाबालिगों पर निर्देशित विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन उत्पीड़न और ट्रोलिंग को शामिल किया गया है। इस अधिनियम के तहत अपराधियों को कारावास सहित कठोर दंड का सामना करना पड़ता है, इस प्रकार बच्चों को हानिकारक ऑनलाइन गतिविधियों से बचाया जाता है।

india laws ऑनलाइन ट्रोलिंग Online Trolls
Advertisment