Types Of Self Care: इमोशनल, स्पिरिचुअल, सोशल, शारीरिक और मानसिक

Types Of Self Care: इमोशनल, स्पिरिचुअल, सोशल, शारीरिक और मानसिक Types Of Self Care: इमोशनल, स्पिरिचुअल, सोशल, शारीरिक और मानसिक

Monika Pundir

31 May 2022

आप खुद को डिस्ट्रेस करने के जितने भी कोशिश करें, वे तब तक विफल होंगे जब तक आप सेल्फ केयर प्रैक्टिस न करें। मैडिटेशन (मेंटल केयर)  तब तक काम नहीं करेगा जब तक आपका शारीरिक स्वास्थ्य ठीक हो।

सेल्फ केयर क्या है?

सेल्फ केयर शब्द एक कॉन्शियस कार्य का वर्णन करता है जो एक व्यक्ति अपने खुद के शारीरिक, मानसिक और इमोशनल स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए करता है।

सेल्फ केयर के कई रूप हो सकते हैं। आप हर रात पर्याप्त नींद लें या ताजी हवा के लिए कुछ मिनटों के लिए बाहर निकलें, यह सब सेल्फ केयर के रूप हैं। जब आप अपने मन और शरीर की देखभाल के लिए कदम उठाए हैं, तो आप अपना जीवन को सबसे होलिस्टिक तरीके से जी पाते हैं।

दुर्भाग्य से, बहुत से लोग सेल्फ केयर को प्रायोरिटी के बजाय एक लक्ज़री के रूप में देखते हैं। कुछ लोग तो सेल्फ केयर को स्वार्थ समझते हैं। इसके कारण वे थके हुए और बीमार महसूस कर रहे हैं।

सेल्फ केयर के विभिन्न प्रकार 

सेल्फ केयर केवल आराम करने के तरीके खोजने के बारे में नहीं है। यह मानसिक, शारीरिक, इमोशनल, सोशल और स्पिरिचुअल रूप से अपना ख्याल रखने के बारे में है। अपने स्वास्थ्य और कल्याण की देखभाल करने के लिए, इनमें से प्रत्येक क्षेत्र को संतुलित करना ज़रूरी है। 

शारीरिक सेल्फ केयर 

यदि आप अपने शरीर को एफ्फिसेंटली चलाना चाहते हैं तो आपको अपने शरीर की देखभाल करने की आवश्यकता है। ध्यान रखें कि आपके शरीर और आपके दिमाग के बीच एक गहरा संबंध है। जब आप अपने शरीर की देखभाल कर रहे होते हैं, तो आप बेहतर महसूस करेंगे।

शारीरिक सेल्फ केयर में शामिल है कि आप अपने शरीर को कैसे एनेर्जाइस कर रहे हैं, आप कितनी नींद ले रहे हैं, आप कितनी फिजिकल एक्टिविटी या व्यायाम कर रहे हैं, और आप अपनी शारीरिक जरूरतों की कितनी अच्छी देखभाल कर रहे हैं। रेगुलर चेकअप करवाना, और निर्धारित दवा लेना, ये सभी अच्छी शारीरिक आत्म-देखभाल का हिस्सा हैं।2

सोशल सेल्फ केयर 

अक्सर, दोस्तों के लिए समय निकालना कठिन होता है और जब जीवन व्यस्त हो जाता है तो अपने रिश्तों को नेग्लेक्ट करना आसान होता है। आपकी भलाई के लिए क्लोज संबंध महत्वपूर्ण हैं।

आपको कुछ समय अपने दोस्तों को समर्पित करने या अपने रिश्तों पर काम करने के लिए ज़रूर निकलने चाहिए। हर किसी की सोशल जरूरतें थोड़ी अलग होती हैं। यह पता लगाना ज़रूरी है कि आपकी ज़रूरतें क्या हैं और फिर आपको उसके लिए समय निकलना है।

मानसिक सेल्फ केयर

जिस तरह से आप सोचते हैं और जिन चीजों से आप अपने दिमाग को भर रहे हैं, वे आपके साइकोलॉजिकल वेल बीइंग को बहुत प्रभावित करते हैं। मेन्टल सेल्फ केयर में ऐसे काम करना शामिल है जो आपके दिमाग को तेज रखते हैं, जैसे पहेलियाँ, या किसी ऐसे विषय के बारे में सीखना जो आपको पसंद है। आपको किताबें पढ़ने या ऐसी फिल्में देखने को मिल सकती हैं जो आपको प्रेरित करती हैं।

स्पिरिचुअल सेल्फ केयर

अपनी आत्मा को पोषित करने के लिए धर्म को शामिल करना आवश्यक नहीं है। इसमें कुछ भी शामिल हो सकता है जो आपको दुनिया की गहरी समझ विकसित करने में मदद करता है। चाहे आप ध्यान का आनंद लें, किसी धार्मिक सेवा में भाग लें, या प्रार्थना करें, स्पिरिचुअल सेल्फ केयर महत्वपूर्ण है।

इमोशनल सेल्फ केयर 

बुरे स्थिति से निपटने जैसे क्रोध, चिंता और उदासी, से निपटने के लिए इमोशनल सेल्फ केयर ज़रूरी है। चाहे आप अपने साथी या करीबी दोस्त से बात करें कि आप कैसा महसूस करते हैं, या आप लेसर के लिए अलग समय निर्धारित करते हैं जो आपकी भावनाओं को मैनेज करने में आपकी सहायता करते हैं, भावनात्मक आत्म-देखभाल को अपने जीवन में शामिल करना महत्वपूर्ण है।

सेल्फ केयर आपके होलिस्टिक वेल बीइंग के लिए बहुत ज़रूरी है, इसलिए खुद के लिए कुछ समय ज़रूर निकालें।

अनुशंसित लेख