वर्किंग मोम होना कोई कमज़ोरी नहीं स्ट्रेंथ होती है। वर्किंग मोम होने का मतलब है कि आप काम और बच्चा साथ में मैनेज कर सकती हैं पर हमारे समाज में आज भी महिलाओं को काम या बच्चे में से एक चुन ने पर मजबूर किया जाता है। समाज के दिमाग पर ये सवार है कि वर्किंग मोम वो महिलाएँ होती हैं जो घर परिवार से ज्यादा करियर से प्यार करतीं हैं पर ये सोच सरासर गलत है और ऐसी कुछ बातें आज में आपको बताउंगी जो आपको एक वर्किंग मोम को कभी भी नहीं बोलनी चाहिए। वर्किंग मॉम से क्या न कहें –

1. बच्चे को दिन भर के लिए कैसे छोड़ सकती हो ?

हमारी आदत होती है कि जो हमारे मन में आता है हम उसे सामने वाले से कह देते हैं पर हमें ऐसी आदत डालने की जरुरत है कि बोलने से पहले हम सोचें कि ऐसा बोलने से सुन ने वाले पर क्या फर्क पढता है। एक स्ट्रांग वीमेन को बार बार सवाल करने से हो सकता है आप वर्किंग मोम का मनोबल तोड़ रहे हों।

2. तुम्हारे लिए करियर ज्यादा जरुरी है ?

जो महिलाएँ काम पर जाती हैं उसका मतलब ये बिलकुल भी नहीं होता कि उनको काम से ज्यादा प्यार है या बच्चे से कम प्यार है। पहली बात तो इन दो चीज़ों का आपस में तुलना करने का कोई मतलब ही नहीं बनता। करियर और बच्चा दो अलग चीज़ें हैं और इनको जोड़ना नहीं चाहिए ।

3. तुम्हारे पास पैसों की कमी है क्या?

जरुरी नहीं होता कि हर चीज़ पैसों के लिए ही की जाए। महिलाएँ काम इसलिए भी करती हैं क्योंकि उन मे इतनी काबिलियत होती है कि वो पैसे कमा सकतीं है अपनी दम पर और उन्हें किसी पर डिपेंड होने की ज़रूरत नहीं है। जॉब करने से अपने आप पर भरोसा बढ़ता है और विमेंस और स्ट्रांग बनती हैं।

4. तुम्हे बच्चा पालना नहीं आता

कुछ महिलाएँ नौकरी इसलिए भी करतीं हैं क्योंकि उनका हस्बैंड नहीं होता या उनको आर्थिक दिक्कते होतीं हैं इसलिए उनको हर मोड़ पर सवाल करने की जगह उनको और बढ़ावा देना चाहिए क्योंकि घर और काम दोनों मैनेज करना कोई आसान बात नहीं होती और हर कोई कर भी नहीं सकता।

5. तुम बच्चे के लिए काम नहीं छोड़ सकती

कई ऐसी महिलाएँ होती हैं जो बच्चा और काम अच्छे से मैनेज कर सकती हैं पर समाज के लोग उन को ऐसी परिस्तिथि में जान पूंछकर डालते हैं जहां वो काम करने की वजह से गलत दिखें और वो उन पर सवाल खड़े कर सकें। वर्किंग मॉम से क्या न कहें 

Email us at connect@shethepeople.tv