“मैं ये क्यों बार बार कर रही हूं?”
” क्यों ये मेरे साथ ही हो रहा है?”
आप ये सवाल बार-बार खुद से करती होंगी जब आपकी लाईफ में प्रॉब्लम्स की बाढ़ आ जाती होगी या फिर कोई बात आपके मकसद को पूरा होने से रोकती होगी। हालांकि, ऐसा ना हो इसकी आप पूरी कोशिश करती होंगी लेकिन हर बार उसी प्वाइंट पर खुद को खड़ा पाती होंगी। अगर इन बातों से आप रिलेट कर पा रही है तो हो सकता है कि आप खुद को sabotage कर रही हैं। Self-sabotage एक ऐसा बिहेवियर है जो आपके सोच को और आपको हमेशा पीछे की ओर खींचता है और आपको वो करने से रोकता है जो आप करना चाहती हैं।

आखिर Self-sabotage का पता कैसे करें?
लीज़ा मंगलदास के अनुसार आपके पास खुद को sabotage करने के बहोत सारे उपाय हैं। कुछ तरीकें आसान है लेकिन कुछ में पहचानना मुश्किल हो जाता है। कुछ इन तरीकों से आप खुद को sabotage करते हैं, जैसे

– कुछ गलत होने पर दूसरों को दोषी ठहराना।
कभी-कभी कोई घटनाएं बिना किसी वजह के और बिना किसी गलती के भी घट जाती हैं। इसलिए जब कुछ गलत होने पर आप उससे कुछ सिखने के बजाएं दूसरों को दोषी ठहराते हैं तो आप खुद को sabotage कर रहें होते हैं।

-कुछ सही न चलने पर खुद को उससे दूर करना
इसमें कोई बुराई नही है कि आप खुद को उन परिस्थितियों से दूर कर लें जिसमें आप अच्छा महसूस न कर रहें हो। लेकिन परेशानियों और सिचुएशन को फेस करना आपको और मजबूत बनाता है। आपको सिखाता है कि किस करह आपको वैसी गलतियों से बचना चाहिए।

बात-बात पर दोस्तों और पार्टनर से लड़ाई करना
टाईम मेनेजमेंट में परेशानी
-अपनी एबिलिटी पर शक करना।
-उनको डेट करना जो आपके लिए सही नही हैं।
-अपने आपको नीचा दिखाना बार-बार

इन सब से बचने के लिए जरूरी है कि आप ये तरीकें अपनाएं
-बिहेवियर को पहचानें
-जो बात आपको परेशान करती है उसके बारें में समझें
-फेल होने पर या कोई हार मिलने पर खुद को कम्फर्टेबल होना सिखाएं।
-अपनी फीलिंग्स किसी के साथ शेयर करें
-पहचानें की आप क्या पाना चाहते हैं।

पढ़़िये- क्या आप अकेलापन महसूस कर रहे हैं ?

Email us at connect@shethepeople.tv