फ़ीचर्ड

क्या है Sex Positivity? जानिए इससे जुड़े 5 मिथ्स

Published by
Ritika Aastha

सेक्स पॉजिटिविटी एक आईडिया है जिसका मतलब सब सेक्स से रिलेटेड मैटर जब तक वो हेल्दी और कॉनसेन्सुअल है तब तक वो पॉजिटिव है। इसलिए किसी को भी इसके लिए शेम नहीं किया जाना चाहिए। ये एक मूवमेंट है जो हमारे समाज में फैले पैट्रिआर्की और उससे जुड़े तमाम सोच को चुनौती देता है। इस मूवमेंट के तहत सेक्सुअलिटी और रेकॉग्नीशन ऑफ़ सेक्सुअलिटी के प्रति लोहगों के नज़रिये को बदलने की मांग की जा रही है। हर मूवमेंट की तरह इससे भी कई सारे मिथ्स जुड़े हैं। जानिए ऐसे ही 5 मिथ्स सेक्स पॉजिटिविटी के बारे में:

1. ये सिर्फ महिलाओं के लिए है

सदियों से महिलाओं को सेक्स लाइक करने के कारण शेम किया जा रहा है। इस कारण महिलाओं में खुद अपनी बॉडी को लेकर डर बैठ जाता है और वो अपनी ज़्यादातर ज़िंदगी अपने बॉडी को समझे बिना निकाल देती हैं। इसके बिलकुल विपरीत मर्दों को यही सिखाया जाता है की असली मर्दानगी का मतलब है ज़्यादा से ज़्यादा सेक्स की डिमांड करना। सेक्स पॉजिटिविटी इन दोनों सोच के बीच के गैप को भरने के लिए इंट्रोड्यूस किया गया है इसलिए ये सोचना बिलकुल गलत है की ये सिर्फ महिलाओं के लिए है।

2. इसका मतलब है ज़्यादा से ज़्यादा सेक्स

ऐसा बिलकुल भी नहीं है की सेक्स पॉजिटिविटी का मतलब है ज़्यादा से ज़्यादा सेक्स। इसका सेंट्रल आईडिया है कंसेंट के बारे में इनफार्मेशन और अपनी खुद की सेक्सुअलिटी को लेकर ओपन होना। कुछ लोगों के लिए इसका मतलब ज़्यादा सेक्स हो सकता है और कुछ लोगों के लिए इसका मतलब सेक्स से कम्पलीट एब्सटेनेंस लेना।

3. सेक्स पॉसिटिविटी का कोई पॉइंट नहीं है

इसका इंट्रोडक्शन इसलिए हुआ है ताकि हम सेक्स और सेक्सुअल चोइसस के प्रति बनाए गए स्टिग्मा को ब्रेक कर सके। आज भी लोगों को सेक्स के लिए शेमिंग और जजमेंट से गुज़ारना पड़ता है जो गलत है। रोज़ ऐसे जजमेंट से ना सिर्फ आपकी सेक्सुअल लाइफ ख़राब होती है बल्कि आपका मेन्टल हेल्थ भी बिगड़ सकता है। इसलिए सेक्स पॉजिटिविटी बिलकुल भी पॉइंटलेस नहीं है और इसे अपनाना आज की सबसे प्रमुख ज़रूरत है।

4. इससे बेशर्मी फैलती है

हमारी सोसाइटी में जिस तरह सेक्स एक टैबू है उसी तरह इससे जुड़ी हर चीज़ लोगों की अनकम्फर्टेबलनेस का कारण बन जाती है। ऐसे में सेक्स पॉजिटिविटी से बेशर्मी फ़ैलाने वाली बात भी बहुत कॉमन है जिसमें कोई सचाई नहीं है। सेक्स पॉजिटिव होने की सबको ज़रूरत है ताकि किसी को उनके सेक्स चोइसस के लिए नीची नज़रों से ना देखा जाए।

5. सेक्स पॉसिटिविटी का मतलब है कैसुअल सेक्स हमेशा अच्छा है

अगर आपकी सेक्स लाइफ सेफ और कॉनसेन्सुअल है पर इससे आपको इमोशनल पेन होता है तो ये गलत है। सेक्स पॉजिटिविटी का मतलब ये बिलकुल भी नहीं है की कैसुअल सेक्स हमेशा एक अच्छी बात है और इस कारण आप प्रोटेक्शन और कंट्रासेप्शन यूज़ करना बंद कर दें क्योंकि अगर ऐसा करेंगे तो आपके हेल्थ को तो नुक्सान होगा ही इसके साथ ही साथ आप एक अनप्लैन्ड प्रेगनेंसी का भी शिकार हो सकते हैं। इसलिए जब भी सेक्स करें तो वो कॉनसेन्सुअल और प्रोटेक्टेड ही होना चाहिए।

Recent Posts

टोक्यो 2020 में भारत का पहला मैडल: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने जीता सिल्वर मैडल

मीरा ने महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में सिल्वर मैडल जीता और चीन की झिहू…

7 mins ago

शमिता शेट्टी ने बड़ी बहन शिल्पा शेट्टी को मुश्किल वक़्त में किया सपोर्ट

शमिता ने शिल्पा की नयी फिल्म हंगामा 2 का पोस्टर शेयर करते हुए इंस्टाग्राम पर…

27 mins ago

क्या तारक मेहता का उल्टा चश्मा की मुनमुन दत्ता शो छोड़ने वाली है? जाने क्या है सच

मुनमुन ने अपने एक यूट्यूब वीडियो में 'भंगी' शब्द का इस्तेमाल किया था,तभी से वो…

39 mins ago

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता अभी भी चलाते है टेंपो, कहा “कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।”

तीरंदाज के पिता ने कहा, "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।" उन्होंने…

1 hour ago

सागरिका शोना सुमन और राज कुंद्रा केस से जुड़ीं 10 जरुरी बातें

सगारिका शोना सुमन का राज कुंद्रा से क्या कनेक्शन है? सगारिका ने आरोप लगाएं हैं…

1 hour ago

राज कुंद्रा पोर्न केस के बाद शिल्पा शेट्टी ने किया राज कुंद्रा कंपनी से रिज़ाइन

शिल्पा विआन इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर की पोजीशन पर थीं और पोर्न मूवी बनाने और डिस्ट्रीब्यूट…

2 hours ago

This website uses cookies.