आईआईएम-कलकत्ता: भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) कलकत्ता के 61 छात्रों का शुक्रवार, 2 अप्रैल को परीक्षण किया गया जिसमें से कोरोनावायरस पॉज़िटिव विद्यार्थियों को परिसर के अंदर आइसोलेशन कैंप में रखा गया है।
छात्रों के लिए दो भवन चिन्हित किए गए हैं, जिनके लक्षण मार्च के अंत से शुरू हुए हैं, जिसमें हर एक कमरे में एक संलग्न शौचालय है।संस्थान ने कोलकाता के शीर्ष अस्पतालों के साथ टाई अप किया है और तीन डॉक्टर घरेलू देखभाल के नियमित मार्गदर्शन के प्रभारी हैं।

अप्रैल की शुरुआत से, 570 से अधिक छात्रों ने IIM-C परिसर छोड़ दिया है, जबकि लगभग 335 छात्र अभी भी परिसर में हैं। हालांकि, IIM-C में 61 छात्र COVID लक्षणों का अनुभव करने के कारण आईसोलेशन में हैं।

IIM-C की COVID-19 समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर प्रशांत मिश्रा ने कहा कि सभी छात्रों में बहुत हल्के लक्षण हैं और किसी को अस्पताल में भर्ती नहीं होना पड़ा है। सभी आपातकालीन उपाय तैयार किए गए हैं और ऑक्सीजन सिलेंडर, एम्बुलेंस किसी भी आने वाली समस्या से लड़ने के लिये तैयार रखे गए हैं।

IIM-C के पास महीनों तक छात्रों के प्रवेश के लिए कुछ सख्त नियम थे। छात्रों को कैंपस में प्रवेश के लिए RT-PCR नकारात्मक रिपोर्ट लाना अनिवार्य था। जब जनवरी के मध्य में 900 छात्रों ने परिसर में प्रवेश किया, तो उन सभी को वायरस के लिए नकारात्मक परीक्षण किया गया।

आईआईएम-सी के कोविड संबंधी सलाहों का उल्लंघन किया

संभावना यह है कि कुछ छात्रों ने परिसर में यात्रा करते समय वायरस के संपर्क में आये हो और इससे हो सकता है कि यह दूसरों को फैल गया हो। सूत्रों के अनुसार, छात्रों द्वारा होली के उत्सव के कारण संक्रमण की स्थिति सबसे अधिक संभावित बताया जाता है। छात्रों ने कथित तौर पर सभी आईआईएम-सी के कोविड संबंधी सलाहों का उल्लंघन किया।

सूत्रों ने कहा कि कोई ऐसा व्यक्ति रहा होगा जो कोविड पाजिटिव रहा होगा और यह छात्रों में फैल गया।

भारतीय प्रबंधन संस्थान, कलकत्ता के अधिकारियों ने कहा कि हर संभव सावधानी बरती जा रही है। राज्य के स्वास्थ्य और नागरिक विभागों से संपर्क किया गया है और उनकी सलाह लेकर स्थिति को संभाला जा रहा है।

अपने छात्रों को वायरस से बचाने के लिए परिसर में स्वच्छता अभियान शुरू किया गया है।

2 अप्रैल को, सात छात्रों ने कोरोनावायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण किया; 4 अप्रैल को 6 , 5 अप्रैल को 12 और 6 अप्रैल को 19 रिपोर्ट किया गया, जिससे यह ब्रेकआउट का सबसे बुरा दिन था। इसके बाद, अन्य मामले भी सामने आए और 30 छात्र अभी भी अपने परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv