Indian Institute of Management, कलकत्ता (IIM-C) की हैड अंजू सेठ ने दिया इस्तीफ़ा। टीचिंग फैकल्टी से मतभेद के बाद उन्होंने अपने इस्तीफ़े की घोषणा की। उन्होंने यह इस्तीफा अपने कार्यकाल की समाप्ति से एक साल पहले दे दिया है। अंजू सेठ इस्तीफ़ा

अंजू ने अपना resignation letter केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय को भेज दिया। “हाँ, मैंने रविवार को अपने त्याग पत्र भेजा है। मैं अभी ठीक नहीं हूं। मैं निराश हूं क्योंकि मैं अपने सपने को अच्छे से पूरा नहीं कर पाई; यह वह नहीं है जो मैंने मांगा था, ”अंजू ने अपने फैसले के बारे में पूछे जाने के बाद कहा। अंजू ने होना इस्तीफ़ा देने से दो दिन पहले मेडिकल लीव ली थी।

अंजू सेठ ने क्यों दिया IIM कलकत्ता से इस्तीफ़ा ?

अंजू सेठ 2018 में IIM कलकत्ता की डायरेक्टर बनी थी। खबरों के मुताबिक कुछ शिक्षकों ने उनके व्यवहार के बारे में केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय से शिकायत की थी। अंजू ने आरोप लगाया कि फेकल्टी उनकी इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर की ड्यूटी में बाधा डाल रही है।

अंजू सेठ ने अपने पत्र में कहा कि उन्हें इंस्टिट्यूट का हिस्सा होने पर गर्व है और वह इंस्टिट्यूट के लिए अच्छा करना चाहती थी। उन्होंने कहा, “मुझे गर्व है कि मैंने अपनी पूरी कोशिश की और मैंने उन मुश्किलों को दूर किया है जो IIM-कलकत्ता को एक world-class इंस्टीटूशन बनने से रोक रहे थे। ”

उम्मीद है कि भविष्य में इंस्टिट्यूट “ट्रांसपेरेंसी और जवाबदेही की संस्कृति को कायम रखेगा,” अंजू ने कहा “मुझे कई समर्पित और प्रतिभाशाली लोगों के साथ काम करने का मौका मिला और भविष्य के लिए बहुत शुभकामनाएं।”

अंत में, उन्होंने यह कहकर अपना पत्र समाप्त कर दिया कि वह अपने कार्यकाल के दौरान आए किसी भी कड़वे लम्हे को मन में रखना नहीं चाहती। उसने यह भी कहा कि वह इंस्टिट्यूट के पूर्व छात्रों पर गर्व महसूस करती रहेगी। अंजू सेठ इस्तीफ़ा

 

 

Email us at connect@shethepeople.tv