माता-पिता बच्चे कि ज़िन्दगी में सबसे बड़ी भूमिका निभाते है।  अगर आप नए पेरेंट्स हैं तो ज़ाहिर सी बात है आप भी ये सोचते होंगे कि अच्छे पेरेंट्स कैसे बने। पिता और माँ हमारे मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और कैरियर के विकास में सबसे बड़े हिस्सेदार होते है। वे हमारे ईश्वर और पहले शिक्षक होते है। हमारे माता-पिता हमारी जड़ें हैं जो हर कदम पर हमारा साथ देते हैं।  ? तो आइये जानते हैं कि आप अपने बच्चों के अच्छे पेरेंट्स कैसे बने :

1. अपने बच्चों के प्रति स्नेह व्यक्त करें:

बच्चे अपने माँ-बाप के प्यार को लंबे समय तक याद रखते है। जब आप उन्हें प्यार करते है तो वे सुरक्षित महसूस करते है। इसलिए, अपने बच्चों को अपना प्यार दिखाने में संकोच न करें। उन्हें बताए की आप उनसे कितना प्यार करते है, उन्हें गले लगाए।

2. अपने बच्चों को एक सुरक्षित और स्वस्थ वातावरण प्रदान करें:

जिस वातावरण में आपके बच्चे बड़े होते हैं, उनके चरित्र और कल्याण पर उसका सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है। इसलिए, आपका घर ऐसे वातावरण में होना चाहिए जहां शांति और सुरक्षा हो, और जहां वे अच्छे लोगों से मिलें।

3. अपने बच्चों के सामने अपने जीवनसाथी से लड़ाई न करें:

कई बार कपल्स में झगड़े होना आम बात है, लेकिन बच्चों को इसका गवाह नहीं बनाना चाहिए। अपने बच्चों के सामने बहस करने से बचें, क्योंकि इससे उनके फीलिंग्स पर असर पड़ सकता है। इसकी वजह से उन्हें चिंता, भय और यहां तक ​​कि डिप्रेशन का भी सामना करना पड़ सकता है। ज़ाहिर सी बात है कोई भी माता पिता ये नहीं चाहेंगे कि उनके बच्चे उनकी वजह से डिप्रेशन में जाये।

4. उनकी सराहना, वाहवाही, प्रशंसा करें:

जब भी आपके बच्चे प्रशंसा के योग्य कुछ करें तो अपने बच्चों की प्रशंसा करने करने से पीछे ना हटे। । उन्हें बताएं कि आपको उन पर गर्व है। इसके उनका हौसला बढ़ेगा।

5. अपने बच्चों की तुलना न करें:

सबसे आम गलतियों में से एक जो अक्सर माता-पिता करते हैं, वह अपने बच्चों की तुलना उनके भाई-बहन या अन्य बच्चों से करने कि है । ऐसा कभी न करें क्योंकि इससे बच्चे कि फीलिंग्स को गंभीर नुकसान हो सकता है। प्रत्येक बच्चा यूनिक होता है, इसलिए दूसरों से उनकी तुलना करना उनके लिए अनुचित है।

6. सभी के साथ समान व्यवहार करें:

यदि आपके 1 से ज़्यादा बच्चे हैं, तो कभी भी अपने किसी एक बच्चे का पक्ष ना ले। यह भाई-बहनों के बीच विद्रोह, आत्मसम्मान में कमी, असुरक्षा और ईर्ष्या का कारण हो सकता है। इसलिए अपने सभी बच्चों के साथ समान व्यवहार करें।

और पढ़िए : क्या आपके बच्चे एक दूसरे से जलते हैं ? पढ़िए क्या कर सकती हैं आप

7. अपने बच्चों को खुद अपनी समस्याओं को हल करने दें।

अगर आप चाहते हैं कि आपके बच्चे स्वतंत्र और आत्मनिर्भर हों, तो जब वे समस्याओं का सामना करें, तो उन्हें खुद सँभालने दे। उन्हें अपने दम पर चीजों का पता लगाने की अनुमति दें। ज्यादा जरूरत हो तो आप सुझाव या सलाह दे और उन्हें मोटीवेट करे।

8. अपने बच्चों के साथ हैंगआउट करें :

आप बच्चों के साथ समय बिताए। उनके साथ कोई भी गेम खेल सकते हैं, फिल्में देख सकते हैं, या उनके साथ टाइम स्पेंड करने की एक नियमित तिथि रख सकते हैं।

9. अपने बच्चों के सामने अपशब्दों का इस्तेमाल न करें:

यदि आप अच्छे माँ-बाप बनना चाहते है और अपने बच्चों को भी अच्छे संस्कार देना चाहते है तो सबसे पहले अपने आप खुद को अच्छा इंसान बनाये। अपने बच्चों के साथ कभी भी गलत शब्दों में बात न करें, ऐसे शब्द जिन्हें आप अपने बच्चों के मुंह नहीं सुनना चाहते।

10. जरूरत पड़ने पर माफी मांगें:

माता पिता भी इंसान होते है, कोई अवतार नहीं हैं और वो भी गलतियां कर सकते हैं। इसलिए अगर आपने अपने बच्चो को किसी ऐसी चीज के लिए डांटा हो, जो उन्होंने नहीं की हो या उन्होंने घर का नियम ना तोड़ा हो, विनम्र होकर माफी मांगे। यह उन्हें खुद कि गलतियों को एक्सेप्ट करना सिखाएगा।

इस आर्टिकल में हमने जाना कि अच्छे पेरेंट्स कैसे बने।

और पढ़िए : बच्चों को अच्छी डेंटल हैबिट कैसे सिखाये ? जानिए ये 6 टिप्स

Email us at connect@shethepeople.tv