फ़ीचर्ड

जानिये क्यों कुछ छोटे बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं

Published by
Nayan yerne

बच्चे के मुंह से पहला शब्द ‘मां’ सुनने पर जितनी खुशी एक मां को होती है उसे शब्दों में बयां कर पाना मुश्किल है। तोतली जुबान में बच्चे की मीठी-मीठी बातें, माता-पिता के कानों में मानो मीठा रस घोलती  है।  लेकिन कभी-कभी कुछ बच्चे देर से बोलना शुरू करते  हैं या बहुत कम बोलते  हैं। ऐसे में कई पेरेंट्स परेशान भी हो जाते है क्योंकि उन्हें बच्चे के मेंटल डेवलपमेंट के बारे में सही जानकारी नही होती। आइये हम आपको बताते हैं बच्चों का देर से बोलने के कारण ।

इन कारणों से कुछ बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं (bacchon ka der se bolne ke karan) –

1. बोलने की सही उम्र

बाल रोग विशेषज्ञों का ऐसा मानना है कि लगभग छ: महीने का शिशु अपनी मां के होंठों के हाव-भाव देखकर किलकारियों से अपने रिएक्शन देता है। अगर कोई उसके सामने चुटकी या ताली बजाएं या उसका नाम पुकारे तो झटपट उधर देखने लग जाता हैं।आठ या नौ महीने की आयु से ही बच्चा चीजों को नाम से पहचानने लगता हैं। जैसे-बॉल कहने पर बॉल की ओर देखना, पापा कहने पर पापा की तऱफ पलटकर देखना आदि। हो सकता है  कि कोई बच्चा एक वर्ष की उम्र तक भी ऐसे रिएक्शन न दे पाए लेकिन इसमे घबरानें वाली कोई बात नही है।

2. भाषा संबंधी विकास

सभी बच्चों के भाषा संबंधी विकास की गति एक समान न होने के कारण कुछ बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं या बहुत कम बोलते  हैं।ऐसे में चिंता करने के बजाय यदि धैर्य तथा सूझबूझ से काम लेते हुए स्पीच थेरेपिस्ट से सलाह ले कर उसके देर से बोलने के कारणों के बारे में पता लगाया जा सकता है और इस समस्या को सुलझाया जा सकता  हैं।

3. देर से बोलने की वजह

जो बच्चे जन्म के बाद देर से रोना शुरू करते हैं, वे बोलना भी देर से शुरू करते  हैं |मतलब जो बच्चा जन्म के समय खुलकर न रोएं या उसे रुलाने के लिए कोई कोशिश करना पड़े तो ऐसे बच्चे अक्सर देर से बोलना सीखते  हैं। इसके प्रेगनेंसी के समय मां के जॉन्डिस से ग्रस्त होने अथवा नॉर्मल डिलीवरी के समय बच्चे के मस्तिष्क की बांई ओर चोट लग जाने की वजह से भी बच्चे की सुनने की शक्ति कम हो जाती है। सुनने तथा बोलने का गहरा संबंध  है। जो बच्चा ठीक से सुन नहीं पाता वह बोलना भी शुरू नहीं कर पाता।  ये बच्चों का देर से बोलने के कारण में से एक बड़ा कारण है।

4. बच्चे के मस्तिष्क की बनावट

मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि लगभग आठ महीने के शिशु के मस्तिष्क में एक हजार ट्रिलियंस ब्रेन सेल कनेक्शंस बन जाते  हैं। यदि सुनने तथा बोलने की प्रेक्टिस के माध्यम से इन्हे सक्रिय न रखा जाए तो इनमें से बहुत से सेल हमेशा के लिए नष्ट हो जाते हैं।

5. बच्चा जितना सुनता है उतना बोलता है

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि लगभग छ: महीने का बच्चा 17 प्रकार की अलग-अलग आवाज़ो को पहचानने की क्षमता रखता है और यही आवाज़ आगे चलकर विभिन्न भाषाओं का आधार बनती हैं। यही वजह है कि जो माएं अपने शिशुओं से ज्यादा बातें करती  हैं। या उन्हे लोरी सुनाती हैं उनके बच्चे जल्दी बोलना सीख जाते  हैं।

ये हैं बच्चों का देर से बोलने के कारण । अगर आपका बच्चा देर से बोलना शुरू करता है तो घबराइए मत लेकिव डॉक्टर से ज़रूर मिलिए।

और पढ़िए :बच्चों की देखरेख में पिता को शामिल करना चाहती हैं ? अपनाइये ये 6 टिप्स

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

8 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

9 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

9 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

9 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

10 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

11 hours ago

This website uses cookies.