Booster Dose: 40 से ऊपर के लोगों के लिए बूस्टर डोज की सिफारिश 

Booster Dose: 40 से ऊपर के लोगों के लिए बूस्टर डोज की सिफारिश  Booster Dose: 40 से ऊपर के लोगों के लिए बूस्टर डोज की सिफारिश 

SheThePeople Team

03 Dec 2021


Booster Dose:  कोरोना वायरस में जीनोमिक वेरिएशंस की निगरानी के लिए 28 लेबोरेटरीज के एक कंसोर्टियम ने केंद्र को ओमाइक्रोन के खतरे के बीच 40 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए कोविड -19 बूस्टर खुराक पर विचार करने की सिफारिश की है, जो चिंता का एक नया प्रकार है। अभी तक इंडिया में ओमाइक्रोन इन्फेक्शन के दो मामले सामने आए हैं। 

बूस्टर डोज की सिफारिश 

इंडियन SARS-CoV-2 जीनोमिक्स सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वीकली बुलेटिन में बूस्टर डोज की सिफारिश की गई थी, जो कोविड -19 की जीनोमिक वेरिएशंस की निगरानी के लिए सरकार द्वारा स्थापित नेशनल टेस्टिंग लैब्स का नेटवर्क है। INSACOG बुलेटिन में कहा गया है कि, "सभी शेष अनवैक्सिनेटेड जोखिम वाले लोगों का टीकाकरण और 40 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए बूस्टर खुराक पर विचार किया जा सकता है।" 

देश में महामारी की स्थिति पर लोकसभा में चर्चा के दौरान लॉमेकर्स द्वारा कोविड के टीकों की बूस्टर डोज की सिफारिश की गई। INSACOG ने कहा, आवश्यक पब्लिक हेल्थ मेजर्स को सक्षम करने के लिए, इस प्रकार की उपस्थिति का जल्दी पता लगाने के लिए जीनोमिक निगरानी महत्वपूर्ण होगी। इसने अफेक्टेड एरियाज की यात्रा की निगरानी की भी सिफारिश की, और बढ़ती टेस्टिंग के साथ-साथ प्रभावित क्षेत्रों के लिए महामारी विज्ञान लिंक के साथ कोविड -19 मामलों की संपर्क ट्रैकिंग को लागू किया गया है। 

INSACOG ने ओमाइक्रोन के बारे में क्या कहा 

INSACOG ने कहा कि, प्रिलिमिनरी एविडेंस बताते हैं की ओमाइक्रोन में रीइन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है, जो म्यूटेशन के कारण होने वाले स्ट्रक्चरल चेंज से एक्सपेक्टेड है, और इस प्रकार के मामलों की संख्या दक्षिण अफ्रीका के लगभग सभी प्रोविंस में बढ़ती हुई दिख रही है, जहां इसका पहली बार पता चला था। 

अमेरिका और ब्रिटेन ने पहले ही कुछ एज ग्रुप के लिए बूस्टर शॉट्स को मंजूरी दे दी है। टॉप अमेरिकी इन्फेक्टियस रोग स्पेशलिस्ट एंथोनी फौसी ने जोर देकर कहा कि, पूरी तरह से टीकाकरण वाले एडल्ट्स को खुद को बेस्ट पॉसिबल प्रोटेक्शन देने के योग्य होने पर बूस्टर की तलाश करनी चाहिए। 

भारत में संक्रमित पाए गए 2 रोगियों में से एक बैंगलोर का एक 46 वर्षीय फूली टीकाकरण वाला डॉक्टर है, जिसकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है उससे 21 नवंबर बुखार और शरीर में दर्द के लक्षण नजर आए थे। दूसरा पॉजिटिव पाया गया ओमाइक्रोन रोगी 66 वर्षीय दक्षिण अफ्रीका के नागरिक हैं जो नकारात्मक कोविड रिपोर्ट के साथ भारत आए थे।





अनुशंसित लेख