टी एंड सी | गोपनीयता पालिसी

संचालित द्वारा Publive

Can families become toxic? क्या फैमिली टॉक्सिक हो सकते है

Can families become toxic? क्या फैमिली टॉक्सिक हो सकते है
SheThePeople Team

29 Dec 2021


Can families become toxic: हमने टॉक्सिक बॉयफ्रेंड या पति के बारे में सुना होगा, उसके बारे में पढ़ा भी होगा। लेकिन फैमिली टॉक्सिक हो सकती है, यह हमने बहुत कम सोचा होगा, क्योंकि परिवार का हमारे साथ जन्म से नाता होता है। वह लोग हमारे साथ जन्म से लेकर मरने तक साथ निभाते है। परंतु उनका बिहेवियर टॉक्सिक भी साबित हो सकता है। 

Can families become toxic: आइए जानते है, परिवार कैसे टॉक्सिक हो जाती है-


1. अनरियल उम्मीदें रखना


हर परिवार में अपने बच्चे से कुछ एक्सपेक्टेशन होती है। वो अपने पैरों पर खड़ा उतरे, ज़िन्दगी अच्छे तरीके से व्यतीत करें आदि। परंतु कई बार वो अपनी इच्छाओं का बोझ ज़्यादा बड़ा देते है। आप खुद पर ज़्यादा प्रेशर महसूस करने लगते है। इससे आप डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते है।


2. स्पेस ना मिलना


हर किसी की दूसरे के जीवन में दख़ल देने की सीमा होती है, भले ही वो आपके माता पिता क्यों न हो। अपने जीवन के फैसले लेने का आपको भी हक़ है। कई बार माता पिता उस सीमा को लांग देते है, जैसे की बार-बार आपका फ़ोन देखना, किस से बात कर रहे है, क्या बात कर रहे है? बात बात पर सवाल आदि करना। आप पर हर समय नज़र रखी जाना, ऐसा सब कुछ आपको दुखी और डिप्रेस्ड बना सकता है।


3.प्यार, इज्जत, दया फील न करना


इंसान को अपने परिवार से स्नेह, लाड़, प्रशंशा, हिम्मत, सुख-चैन मिलता है, और इसी की उम्मीद होती है, परंतु जब स्नेह की जगह आपको हर बार डाँट मिलें, दूसरों के साथ कम्पेयर किया जाएं , आपको नीचा दिखाया जाएं और यह रोज़ हो तो समझ जाएं, आप टॉक्सिक परिवार के साथ रह रहे है।


4. हद से ज़्यादा स्ट्रिक्ट होना


हर माँ बाप बच्चों के साथ सख्ती के साथ पेश आते है। उन्हें उनकी गलती पर डांटते है, धीरे धीरे बच्चे भी इस बात को समझ जाते है, परंतु अगर बच्चा डरा, सहमा लगने लगे ,गलती करने पर परिवार को बताने की बजाएं छुपाए, तो उसकी डर की वजह उसके टॉक्सिक पेरेंट्स हो सकते है।


5. आपकी इच्छाओं का सम्मान न करना


जब भी आप अपनी इच्छा व्यक्त करें उसे हँसी में ,मज़ाक में टाल देना, आपकी इच्छाओं का सम्मान न करना गलत है। बच्चे अक्सर गलत डिमांड्स करते है, परंतु उन्हें समझाना उस बात का हल है, न की मज़ाक-मज़ाक में बात टाल देना, यह टॉक्सिक हो सकता है।


अनुशंसित लेख