हर बार जब आप कोई भी नंबर डायल करते हैं तब कोरोनोवायरस की कॉलर टयून सुनते हैं, ये आवाज़ जसलीन भल्ला की ही , जो दिल्ली की एक वॉयसओवर आर्टिस्ट हैं। हम सबको पता है की भारत में डिफ़ॉल्ट कॉलर टून्स को बदल कर ये रिंग टयून लगा दी गयी है।

image

“कोरोनॉयरस से आज पूरा देश लड़ रहा है, याद रहे हमे बिमारी से लाडना है, बिमार से नहीं (कोरोनोवायरस के खिलाफ पूरा देश लड़ रहा है, लेकिन याद रखें कि हमें बीमारी से लड़ना है, मरीज से नहीं)” यह मैसेज अब हमारी डेली लाइफ का एक हिस्सा बन चुका है।

एक पूर्व स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट, जसलीन पिछले दस वर्षों से विज्ञापन इंडस्ट्री (Advertising industry) में काम कर रही हैं।

“मैंने वास्तव में मार्च के अंतिम सप्ताह में एक प्रोडक्शन हाउस के लिए ये मैसेज रिकॉर्ड किया था, मुझे नहीं पता था कि यह एक पब्लिक कैंपेन के लिए था। अब जब भी मैं यह सुनती हूँ तो खुद पे गर्व महसूस होता है।”

एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, जसलीन ने पिछले दो महीनों में केवल दो बार घर से बाहर कदम रखा है। जब यह सब शुरू हुआ, तो उन्हें अपने मेल्स आने लगे और दोस्त भी तारीफ करने लगे। “शुरू में, कुछ दिनों के अंदर, दोस्तों ने मुझे मेमस भेजने भी शुरू कर दिये थे, और कहते थे ‘हम जानते हैं कि यह तुम्हारी आवाज़ है … लेकिन अब बस भी कर यार’। सबसे हसी वाली बात इसमें ये है की जब भी आप किसी को कॉल मिलते हैं तो आपको ये सुन्ना पड़ता है, तो ये मेरे लिए थोड़ा अजीब है। ” वॉइस ओवर आर्टिस्ट ने हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट में कहा।

जसलीन ने ग्रेजुएशन की पढ़ाई के तुरंत बाद काम करना शुरू कर दिया था। उन्होंने एक स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में शुरुआत की और विभिन्न चैनलों के साथ एक प्रोडूसर बन गईं।

और पढ़िए: कोरोना वारियर : शांति चौहान मुंबई में 5,500 माइग्रेंट फैमिलीज़ की मदद कर रही हैं

Email us at connect@shethepeople.tv