टी एंड सी | गोपनीयता पालिसी

संचालित द्वारा Publive

फ़ीचर्ड ब्लॉग

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता अभी भी चलाते है टेंपो, कहा "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।"

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता अभी भी चलाते है टेंपो, कहा "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।"
SheThePeople Team

24 Jul 2021

दीपिका कुमारी के पिता चलाते है टेंपो : स्टार भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी मौजूदा ओलंपिक में अपनी फॉर्म को बरकरार रखने की पूरी कोशिश कर रही हैं। शनिवार को उन्होंने मिश्रित तीरंदाजी स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में साथी तीरंदाज प्रवीण जाधव के साथ अपना नाम दर्ज कराया।

हालांकि, ज्यादातर लोग नहीं जानते कि एथलीट के पिता अभी भी झारखंड की राजधानी रांची से 15 किमी दूर एक गांव में अपना मिनी टेम्पो चला रहे हैं। जबकि कुमारी टोक्यो ओलंपिक में भारत को रिप्रेजेंट करने वाली एकमात्र भारतीय महिला तीरंदाज हैं।

दीपिका कुमारी के पिता चलाते है टेंपो : कहा "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।"


कुमारी के पिता, शिवनारायण महतो ने कभी भी अपने मिनी टेंपो को चलाना बंद नहीं किया और इससे मिलने वाली मजदूरी से अपना घर चलाना जारी रखा। तीरंदाज के पिता ने कहा, "कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।" उन्होंने कहा कि उनकी बेटी की यात्रा में टेम्पो की बहुत बड़ी भूमिका रही है। "मैं इस काम को जारी रखूंगा। मेरे बच्चे भी मुझे प्रोत्साहित करते हैं ”।

कुमारी ग्लोबल रैंकिंग में अपना स्थान फिर से हासिल करने और पिछले महीने वर्ल्ड कप स्टेज 3 में गोल्ड मैडल की हैट्रिक के बाद वर्ल्ड नंबर 1 के रूप में टोक्यो गईं। उसने 2019 में ओलंपिक कोटा वापस करने का आश्वासन दिया। शुक्रवार को शुरूआती गेम में वह इंडिविजुअल राउंड में 72 तीरों के रैंकिंग दौर में 663 के स्कोर के साथ नौवें स्थान पर रहीं।

उनका परिवार, अभी भी हर रोज आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहा है, फिर भी कुमारी की उपलब्धियों पर गर्व है। रांची मेडिकल कॉलेज में नर्स के रूप में काम करने वाली उनकी मां गीता महतो ने कहा, "हमें अपनी बेटी और दामाद (अतनु दास) पर बहुत गर्व है।" उसने अपनी शुभकामनाएं दीं और कहा कि उम्मीद है कि कुमारी और दास दोनों देश के लिए गोल्ड मैडल जीतेंगे।

दीपिका कुमारी की उपलब्धियाँ :


कुमारी राम चट्टी नाम के एक गाँव में पली-बढ़ी और उन्होंने 12 साल की उम्र में एक तीरंदाजी अकादमी में शामिल होने के लिए घर छोड़ दिया। आज, कुमारी एक टॉप लेवल की तीरंदाज है और उन्होंने अबतक ये अचीव किया है: विश्व कप के चरणों और फाइनल में कुल 32 मैडल, पांच विश्व चैंपियनशिप मैडल, छह एशियाई चैम्पियनशिप मैडल, एशियाई खेलों में एक ब्रॉन्ज़ और राष्ट्रमंडल खेलों में दो गोल्ड मैडल। उसने अब तक दो ओलंपिक - लंदन में 2012 के खेल और रियो डी जनेरियो में 2016 के खेलों में भाग लिया है।

फ़ीचर इमेज क्रेडिट: ANI
अनुशंसित लेख