Disadvantages of Eating Non-Vegetarian Food: मांसाहारी भोजन के नुकसान क्या है? 

Disadvantages of Eating Non-Vegetarian Food: मांसाहारी भोजन के नुकसान क्या है?  Disadvantages of Eating Non-Vegetarian Food: मांसाहारी भोजन के नुकसान क्या है? 

SheThePeople Team

06 Oct 2021


मांसाहारी भोजन के नुकसान क्या है? मांसाहारी अपने भोजन और व्यंजनों के दीवाने हैं और वे मांसाहारी खाना रोज़ खाना पसंद करते हैं। मांसाहारी भोजन को काफी सवस्थ और उनमें उच्च मात्रा में प्रोटीन होता है जो शरीर के लिए बेहद जरूरी माना जाता है। प्रोटीन की कमी कि वजह से कहीं परेशानियां हो सकती हैं जैसे वीकनेस, ध्यान लगाने में दिक्कत आदि। लेकिन मांसाहारी भोजन आम धारणा जितना सेहतमंद और स्वस्थ नहीं है। मांसाहारी भोजन के कई सारे नुकसान भी हैं जो आपको यहां बताए गए हैं। 

मांसाहारी भोजन के 5 नुकसान: Disadvantages of Eating Non-Vegetarian Food 


1. पाचन समस्या

मांसाहारी भोजन अक्सर कई पाचन समस्याओं का कारण है। मांसाहारी भोजन में मौजूद उच्च मात्रा में प्रोटीन को पचाना, डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए मुश्किल काम होता है। मांसाहारी भोजन से कब्ज और एसिडिटी की समस्याओं से भी हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप और परेशानियां भी हो सकती हैं। शाकाहारी भोजन खाने वाला व्यक्ति, मांसाहारी भोजन खाने वाले की तुलना में ज्यादा लंबा जीवन जीते हैं। 

2. वजन बढ़ना 

पशु आधारित भोजन वजन बढ़ने और मोटापे का कारण बन सकता है। मांस प्रोटीन में उच्च होता है और अक्सर जल्दी वजन बढ़ाने का एक कारण भी है। जो लोग मांस कहते हैं उनका वजन उन लोगों की तुलना में तेजी से बढ़ता है  जो लोग मांस का सेवन नहीं करते हैं। मांसाहारी खाने वालों की शरीर में जरूरत से ज्यादा प्रोटीन होता है जिसकी वजह से कई बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। 

3. कैंसर

ज्यादा मात्रा में रेड मीट का सेवन करने से ब्रेस्ट, किडनी जैसे कई प्रकार के कैंसर हो सकते हैं। रेड मीट जेसे बीफ, लैंब, पॉर्क को ग्रुप 2A कार्सिनोजेन (carcinogen) के रूप में क्लासीफाइ किया है जिसका मतलब है कि यह कैंसर का कारण बनता है। रेड मीट में कई प्रकार के केमिकल्स भी होते हैं जो कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं।सभी प्रकार के कैंसर में से, पेट के कैंसर का रेड मीट के साथ सबसे ज्यादा संबंध है। इसलिए रेड मीट का सेवन कम से कम रखना चाहिए। 

4. हार्मोनल असंतुलन

हाइड्रोजीनेटिड और सैचयूरेटीड फेट से भरपूर भोजन, जो आमतौर पर रेड मीट और प्रोसेस्ड मीट में पाया जाता है उनसे परहेज रखना चाहिए। यह फेट एस्ट्रोजेन को बढ़ा सकता है और बड़ी मात्रा में मांस का सेवन करने से शरीर में ज्यादा कोलेस्ट्रॉल होता है जिसके कारण हार्मोनल असंतुलन हो सकता है। 

5. ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी 

ज्यादा मात्रा में मांसाहारी खाने का सेवन, ब्लड प्रेशर और हार्ट प्रॉब्लम के जोखिम का कारण बन सकता है। रेड मीट में जो  कोलेस्ट्रॉल मौजूद होता है वो आर्टरीज को बंद करने का एक कारण है जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ता है और दिल का दौरा पड़ने का खतरा भी बढ़ जाता है।

 


अनुशंसित लेख