गूलर के फायदे –हमारे घर के आस-पास बहुत से पेड़ लगे हुए हैं जो अपने औषधीय गुणों के कारण हमारी देखभाल करने में काफी सही साबित होते हैं। इनमें से एक गूलर भी है जो औषधीय गुणों की खान है और गांव जैसे क्षेत्रों में आसानी से पाया जाती है। गूलर को संस्कृत में उडुम्बर और पशु फल कहा जाता है। आयुर्वेद में, कई रोगों के इलाज के लिए गूलर का जड़, गूलर का फूल और गूलर के फलों का उपयोग किया जाता है। आइये जानते हैं गूलर से जुड़े और भी फायदों के बारे में

ये हैं गूलर के 5 फायदे (gular ke fayde)

1. गूलर का कच्चा फल कसैला और कठोर होता है। जबकि पका गूलर फल दिलचस्प, मीठा और मुलायम होता है। इसकी जड़ में ब्लीडिंग को रोकने और जलन को रोकने का गुण है। गूलर के कच्चे फलों की सब्जी बनाई जाती है और पके फलों को खाया जाता है।

2.गूलर के पके फल का रस 20 ग्राम की मात्रा में गुड़ या शहद के साथ खाने से खून आना बंद हो जाता है।

3.गूलर के फल को पीसकर पानी के साथ लेने से डायबिटीज़के रोगियों को काफी लाभ होता है। इसके अलावा, सब्जियों को बनाकर गूलर के फलों का उपयोग भी मधुमेह के रोगी को बहुत लाभ देता है।

4.जब निमोनिया होता है, तो गूलर के फल को पानी के साथ मिलाएं और इसे काढ़ा बना कर के निमोनिया के रोगी को पिलाएं। इस काढ़े के उपयोग से निमोनिया के रोगी को काफी राहत मिलती है।

5.पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग होने वाली महिलाओं में गूलर के पके फलों के रस में शहद मिला कर पीने से ज्यादा खून का बहाव रूक जाता है।

Email us at connect@shethepeople.tv