“आज मैं जो कुछ भी हूँ अपनी माँ की वजह से हूँ और अपनी माँ को ही अपने जीवन की प्रेरणा मानती हूँ .” यह कहना है Swirlls Cakery की ओनर कीर्ति जिंदल का. उन्होंने सिंगापुर से बेकरी आर्ट्स में डिप्लोमा लिया और उसके बाद उन्होंने भारत आकर Swirlls Cakery की शुरुआत की जहां वो लज़ीज़ केक बनाकर अपने कस्टमर्स को खुश करती हैं . कीर्ति बेकिंग को लेकर काफी पैशनेट हैं .

image
  1. आपकी होम-शेफ बनने का सफर कब और कैसे शुरू हुआ ?

बेकिंग मेरे खून में है। जब मैंने 8 साल की उम्र में बेकिंग करना शुरू किया। मैं माइक्रोवेव बुकलेट्स से डिशेस देखकर ट्राई करती थी और मैंने कभी नहीं सोचा था कि यह मेरा करियर बन जाएगा।

यह सब तब शुरू हुआ जब मैं 17 साल की थी और मेरी माँ और मासी ने मुझे एक होममेड चॉकलेट वर्कशॉप लेने के लिए फाॅर्स किया। अब मैं सबकुछ एग्ग्लेस चाहती थी। फिर जब मै एमबीए  (MBA) कर रही थी तो वहाँ मैं अपने दोस्तों को अपने सभी डिज़र्ट का स्वाद चखाती थी और वे कहते थे, “तू प्रोफेशनल तौर पर यह ट्राई क्यों नहीं करती ?”

लेकिन 1 दिन मेरे एक दोस्त ने मुझे उसके लिए केक बनाने का ऑर्डर दिया। और मैंने वो पूरी मेहनत से पूरा किया। तभी मैंने ऑर्डर लेना शुरू किया। फिर मैं बेकिंग में अपने डिप्लोमा कोर्स के लिए सिंगापुर चली गयी। और जब मैं वापस आयी, तो मैंने अपने भाई और पापा की मदद से 2016 में “Swirlls Cakery” की शुरुआत की।

  1. आपका सिग्नेचर स्टाइल ऑफ़ कुकिंग क्या है ?

कुकिंग में मेरा सिग्नेचर स्टाइल बेकिंग है। मेरा सिग्नेचर केक है न्यूट्री क्रंच केक- बिना रिफाइंड फ्लौर, बिना वाइट शुगर, बिना तेल और बहुत सारे मेवों के साथ केक जो की हेअल्थी केक्स का एक बेस्ट एडिशन है।

  1. कोरोना वायरस और लॉकडाउन ने आपके काम को किस तरह प्रभावित किया है?

कोरोना वायरस और लॉकडाउन ने हमें ज़्यादा व्यस्त बना दिया है। कोरोना वायरस के कारण हमें बहुत ज़्यादा बिज़नेस मिला है क्योंकि अब लोग घर के बने हुए प्रोडक्ट्स को खाना चाहते हैं, जहां हम ज़्यादा सावधानी बरतते हैं, हर रोज़ सब कुछ साफ करते हैं और पर्सनली ऑर्डर डिलीवर करते हैं।

और पढ़ें:मिलिए “होम शेफ” और रुपाली किचन की संस्थापक रुपाली से

  1. पान्डेमिक के समय में लोग बाहर खाना बंद करके घर पर ही नयी डिशेस बना रहे है और अपने कुकिंग स्किल्स को आज़मा रहे है।  इसके बारे में आप क्या कहना चाहेंगी ?

आपको याद है कि मोदीजी ने क्या कहा था, “आत्म निर्भर बनो” तो लोग वही फॉलो कर रहे हैं। लेकिन उन्हें अभी भी अपने जन्मदिन के केक को सजाने के लिए एक केक स्पेशलिस्ट की आवश्यकता है। और मुझे बहुत खुशी है कि कम से कम लोग बेकिंग पर अपना हाथ आजमा रहे हैं और उन्होंने बहुत कोशिश करने के बाद यह जाना कि यह प्रोसेस इतना आसान नहीं है। और इस वजह से लोग हमें अधिक गंभीरता से ले रहे हैं।

“मैं अपनी खुद की विंटेज बेकरी खोलना चाहती हूं, जहां मैं लाइव बेकिंग कर सकती हूं और अपने कस्टमर्स को ताजी कुकीज और केक खिला सकती हूँ।”- कीर्ति जिंदल

  1. सोशल मीडिया का आपकी जर्नी में क्या रोल रहा है?

सोशल मीडिया कम्युनिकेशन का एक अनोखा जरिया है। जिन लोगों के पास आउटलेट नहीं है, सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां आप अपने प्रोडक्ट्स को एक्सहिबिट कर सकते हैं। मेरे इंस्टाग्राम पोस्ट पर मेरा मेनू अवेलेबल हैं। इंस्टाग्राम के कारण मेरे पास काफी अच्छा कस्टमर बेस है और यहाँ कस्टमर्स की अनलिमिटेड पहुंच है। यहां ग्राहक अपने प्रश्नों के लिए आसानी से संपर्क कर सकते हैं। यहां आप अपने रोज़ के काम को कहानियों के माध्यम से दिखा सकते हैं और इसमें बहुत सारे मार्केटिंग टूल्स हैं इसलिए इस प्लेटफ़ॉर्म का उतना ही उपयोग करें जितना आप कर सकते हैं।

  1. आपके अनुसार क्या कुकिंग का जेंडर से कोई लेना देना है ?

मुझे नहीं लगता की कुकिंग या बेकिंग का जेंडर से कोई लेना-देना है। यह आपकी रुचि और जुनून के बारे में है। मेरे पति को बेकिंग बहुत पसंद है। वो मुझे कुछ भी करने नहीं देते । वह बस मुझे रसोई से बाहर भेज देते है जब भी वह खराब मूड में होते है या खुद कुछ बेक करना चाहते हैं  वो खुद ही सब कुछ करते है।

  1. आपके काम को लेकर आपकी भविष्य की योजनाएं क्या हैं ?

मैं अपनी खुद की विंटेज बेकरी खोलना चाहती हूं, जहां मैं लाइव बेकिंग कर सकती हूं और अपने कस्टमर्स को ताजी कुकीज और केक खिला सकती हूँ।

और पढ़ें: मिलिए ऐतिकला’स किचन की संस्थापक श्रीमती विजया ऐतिकला से

Email us at connect@shethepeople.tv