सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

SheThePeople Team

31 Jul 2021


साल 1994 में सुष्मिता सेन ने भारत के लिए पहला "मिस यूनिवर्स" खिताब जीता था। उस दिन से अब तक ना जाने कितने ही लोगों को उन्होंने अपने माइंडसेट और अपनी सोच से इंस्पायर किया है। फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को काफी यंग एज में एडॉप्शन के थ्रू अपनाना, सुष्मिता सेन के एक्शन्स हमेशा उनके शब्दों से बड़े रहे हैं। यही कारण है कि आज भी वो हर महिला को अपना बेस्ट बनने के लिए इंस्पायर करती हैं।

जानिए सुष्मिता सेन के महिलाओं को इंस्पायर करने के ये 12 कारण:

1. 1994 में उन्होंने सिर्फ 18 वर्ष की उम्र में भारत के लिए पहला मिस यूनिवर्स का खिताब जीत कर हर भारतवासी को गौरवान्वित किया था। अपने हाज़िरजवाबी अंदाज़ के कारण उन्होंने हर पूरे कम्पटीशन में काफी मच्योर परफॉरमेंस भी दिया था।

2. मिस यूनिवर्स कम्पटीशन में जाने से पहले किसी को ये उम्मीद नहीं थी कि सुष्मिता कम्पटीशन में ज़्यादा कुछ कमाल कर पाएंगी। लेकिन उन्होंने ना सिर्फ हर राउंड में अपना बेस्ट परफॉरमेंस दिया बल्कि अपने साथ कम्पीट कर रहे बाकी कंटेस्टेंट्स का भी हौसला बढ़ाती रहीं। उनके इस "वीमेन सपोर्टिंग वीमेन" एटीट्यूड ने काफी महिलाओं को इन्सपायर किया है।

3. मिस यूनिवर्स के फाइनल क्वेश्चन/आंसर राउंड में जब उनसे एक वुमन के एसेंस के बारे में पूछा गया था तो उन्होंने ना सिर्फ एक वुमन को भगवान का सबसे बड़ा गिफ्ट बताया था बल्कि इस बात पर भी रोशनी डाली थी कि कैसे एक महिला ही दुनिया में हर किसी को प्यार का मतलब समझाती है और एक बच्चे की ओरिजिन होती है। 

4. बॉलीवुड में पदार्पण के बाद उन्होंने अपने टर्म्स पर मूवीज चूज़ की और कई बार कई अनकन्वेंशनल रोल्स करके लोगों को चौंका भी दिया। ज़्यादातर उनकी फिल्मों में उन्होंने एक बोल्ड महिला का किरदार अदा किया है। उनकी बेस्ट फिल्में हैं चिंगारी, फ़िलहाल, मैं हूं ना, समय, इत्यादि।

5. 25 वर्ष की उम्र में 2000 में मदरहुड को एडॉप्शन के ज़रिये उन्होंने अपनाया था और अपनी पहली बेटी को गोद लिया था। एक सिंगल मदर के रूप में एडॉप्शन का प्रोसेस उनके लिए आसान नहीं था लेकिन हर लड़ाई में जीत हासिल करते हुए उन्होंने अपना ये सपना भी पूरा किया। साल 2010 में उन्होंने अपनी दूसरी बेटी को अडॉप्ट किया था। 

6. अपने बच्चों को सही परवरिश देते हुए अपने ड्रीम्स को भी पूरा किया है सुष्मिता ने। अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने ये भी बताया था कि कैसे उन्होंने अपने बच्चों के लिए किसी तरह का सैक्रिफाइस नहीं किया है और उनकी ये बात उन्हें सबसे अलग बनाती है।

7. अपने आप को ज़िन्दगी के हर मोड़ पर सेलिब्रेट करती हैं सुष्मिता और यही बात उन्हें हर महिला के एक इंस्पिरेशन बनाती है। 

8. सुष्मिता ने खुद की एक प्रॉफिटेबल ज्वेलरी लाइन खोली है दुबई में और वो एक कम्पलीट बिज़नेसवुमन हैं और उनकी ये स्टोरी आज हर अम्बिशयस वुमन के लिए एक मिसाल है।

9. अपने रिलेशनशिप और पर्सनल लाइफ को उन्होंने कभी सोसाइटी के नॉर्म्स के हिसाब से नहीं बल्कि खुद के हिसाब के चलाया है और इसके लिए वो हर महिला की प्रेरणा हैं। 

10. अपने करियर में सुष्मिता ने खुद से सारे फैसले लिए हैं और वेबसीरीज "आर्या" के ज़रिये एक बेहतरीन कमबैक करके ये प्रूफ भी किया है कि आप किसी भी एज में एक्टिंग को फिर से स्टार्ट कर सकते हैं।

11. अपने सोशल मीडिया के थ्रू वो हमेशा वर्कआउट के वीडियोज़ अपलोड करती हैं और इनके ज़रिये हर किसी को फिट रहने के लिए मोटिवेट करती हैं। 

12. उन्होंने हर महिला को ना सिर्फ सपने देखना सीखाया बल्कि उनपर विश्वास रखकर उन्हें पूरा करने का जज़्बा भी दिया है।


अनुशंसित लेख