किसी “राजा बेटा” को डेट करना या उससे शादी करना शायद आपको थोड़ी मुश्किल सिचुएशन में लाकर खड़ा कर सकता है। उसकी फर्स्ट प्रायोरिटी आपसे पहले उसकी माँ हो ,शायद वो आपको हर काम में अपनी माँ के साथ कंपेयर करे और आपसे अपनी माँ की तरह बनने की उम्मीद करें। उसकी माँ की उपस्थिति कई बार आपके ऐसे निर्णयों को प्रभावित कर सकती है जो आपको एक कपल के रूप में लेने चाहिए। How to deal with Maa ka ladla in Hindi

एक ऐसे आदमी के साथ रिलेशन में रहना जो “माँ का लाडला” है ,कई बार आपके रिलेशनशिप के बैलेंस को खराब भी कर सकता है। कई सिचुएशन में शायद आपको left out या suffocated महसूस होने लगे ,क्योंकि आपको उतनी एहमियत नहीं मिल रही है जितनी मिलनी चाहिए।

यह है “माँ के लाडले” को डील करने के कुछ तरीके :

माँ और आपके बीच बैलेंस बनाने को कहे :

सबसे पहले तो आप अपने पार्टनर से बात करें ,और उसे बताये की आप उनसे कितना प्यार करती है। एक कपल होने के नाते आपको प्राइवेट स्पेस का पूरा हक़ है। उन्हें अपनी माँ और आपके बीच बैलेंस बनाने को कहे। उनसे नरम तरीके से बात कर के कहे कि इन इन मुद्दों पर ,इस टाइम पर आपकी माँ हम दोनों के बीच नहीं आनी चाहिए। माँ और पत्नी के बीच एक बॉउंड्री स्टैब्लिश करने को कहे।

घर के काम खुद करने की आदत लगवाए :

अक्सर ये देखा गया है की जो लड़का “माँ का लाडला ” होता है ,उससे घर के कोई काम नहीं करवाए जाते है। उसे कभी अपने जूते पॉलिश करने की ज़रूरत नहीं पड़ती क्योंकि यह उसके लिए पहले से ही कर दिया जाता है। लेकिन ये एक empowered पार्टनर की पहचान नहीं है। घर के काम करना एक बेसिक चीज़ नहीं जो लड़का लड़की दोनों को आनी चाहिए ,इसलिए आदमियों का घर के थोड़े बहुत काम करने में कुछ गलत नहीं है।

उनसे पत्नी और माँ दोनों के बीच इज़्ज़त और समानता बनाने को कहे :

अगर आपका पार्टनर हर बात पर अपनी माँ की राय या इजाज़त लेता है ,चाहे वो आप दोनो के बीच की पर्सनल बात ही क्यों न हो। इससे निपटने के लिए ,अपने पार्टनर को रिश्तों में समानता और आपसी समझ के महत्व के बारे में समझाये। उनसे पत्नी और माँ दोनों के बीच इज़्ज़त और समानता बनाने को कहे।

माँ से तुलना करना बंद करने को कहे :

अक्सर आपका पार्टनर आपके बनाये हुए खाने की तुलना अपनी माँ के खाने से करेगा और आपसे अपनी माँ की तरह बनने की उम्मीद करेगा। उससे कहे की हर इंसान एक जैसा नहीं होता ,इसलिए मुझे अपनी माँ जैसा बनने के लिए न कहे। हर इंसान की अपनी खासियत और कमियां होती है। तुलना करने के बजाये आपके एफर्ट्स और प्यार को देखने को कहे।

अपनी माँ से प्यार करना ,उन्हें अपना आइडियल मानने में कुछ गलत नहीं है। लेकिन किसी भी रिश्ते में इतना भी अँधा नहीं होना चाहिए कि कोई और ठीक न लगे। अपनी माँ की इज़्ज़त करें उन्हें प्यार करें ,उनका ख्याल रखे लेकिन याद रखे हर औरत आपकी माँ की तरह नहीं हो सकती।How to deal with Maa ka ladla in Hindi

Email us at connect@shethepeople.tv