वजाइनल इचिंग – आजकल हर दूसरी महिला को वजाइना में इचिंग की समस्या आरही है ? क्या यह नार्मल है ? यह कई कारणों की वजह से हो सकती है। जैसे की फंगल इन्फेक्शन , एलर्जी ,ड्राई वजाइना , टाइट कपड़े , स्किन इन्फेक्शन या फिर STD सेक्सुअली ट्रांसमिटेड देसिज़ेस की वजह से । डॉ सुदेष्णा रे के द्वारा एक इंटरव्यू में बताया की कैसे आप इस इचिंग को रोक सकते हैं।

6 तरीके वजाइनल इचिंग को रोकने के –

1 ) बार बार न धोएं –

वजाइना को साफ़ रखना ज़रूरी है लेकिन क्या आप जानती हैं , हमारी वजाइना में बैक्टीरिया और फंजाई होते हैं जो खुद ही वजाइना को साफ़ करते हैं। तोह आप बार बार उसे न धोएं। ऐसा करने से वहां ड्राइनेस हो जाती है जो इचिंग का कारण बन सकता है।

2 ) इंटिमेट वाश के लगातार उपयोग से बचें –

हमें केमिकल वाले साबुन या वजाइनल क्लीनिंग वाश का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। उनमे बहुत केमिकल होते हैं जो वजाइना के संतुलन को ख़राब कर सकते हैं। आप बस साफ पानी या माइल्ड सोप से इसे धोएं।

3 ) परफ्यूम से बचें –

आपको परफ्यूम का परफ्यूम की खुशबू वाले सोप, लोशन ,इंटिमेट वाश इत्यादि का वहां इस्तेमाल से बचना है। परफ्यूम में बहुत सारे केमिकल्स होते हैं। जिसका इस्तेमाल कमसे काम करना चाहिए।

4 ) पैट ड्राई करें –

आप वजाइना को वाश करने के बाद उसे सिर्फ पैट ड्राई करें। और किसी भी तरह के कपड़े से रगड़कर न साफ़ करें।

5 ) अंडरगार्मेंट्स साफ़ रखें –

अपने अंडरगार्मेंट्स को सूखा और साफ़ रखें। उन्हें अच्छे से धोएं और ध्यान रखें की उनमे साबुन न रह जाये। और अपने कपड़ों को धुप में सुखाएं। ऐसा करने से जर्म्स ख़तम हो जाते हैं। सूती कपड़े पहन ने का प्रयास करें।

6 ) खुद डॉक्टर न बनें –

कई बार हमें बहुत थोड़ा ही इन्फेक्शन होता है। लेकिन हम डॉक्टर के पास न जाकर खुद ही घर पर इलाज़ करते हैं। जिससे कई बार स्थिति और भी बिगड़ जाती है। इसलिए डॉक्टर को दिखाएं ताकि सही समय पर वह आपको सही सलाह दे पाएं।

Email us at connect@shethepeople.tv