Learn From Home : कोरोनाकाल को बनाये प्रोडक्टिव, बच्चों से कराएं ये 4 एक्टिविटीज

Learn From Home : कोरोनाकाल को बनाये प्रोडक्टिव, बच्चों से कराएं ये 4 एक्टिविटीज Learn From Home : कोरोनाकाल को बनाये प्रोडक्टिव, बच्चों से कराएं ये 4 एक्टिविटीज

SheThePeople Team

26 Aug 2021


Learn form Home: कोरोनाकाल में हम सभी अपने अपने घरों में बंद हैं। दूसरी लहर और वैक्सीनेशन के बाद भले ही सरकार ने लॉकडाउन से कुछ राहत देदी है, लेकिन स्कूल और कॉलेजों के खुलने पर अभी भी कुछ निर्णय नहीं आया है। ऐसे में घर पर पुरे दिन बैठे बच्चों का कीमती समय बर्बाद हो रहा है। इस समय को प्रोडक्टिव बनाने के लिए पेरेंट्स अपने बच्चों से कुछ स्पेशल एक्टिविटीज करवा सकते हैं, जो उनके बच्चो को क्रिएटिव बनाने में मदद करेगी।

Learn From Home : बच्चों से कराएं ये 4 एक्टिविटीज


1. डालें गार्डनिंग की आदत

स्कूल-कॉलेज-कोचिंग-ट्यूशन और नहीं पता क्या-क्या। हम सब जानते हैं कि आजकल पढाई को लेकर सब कितने सीरियस हैं। ऐसे में लॉकडाउन से पहले बच्चे कितने बिजी हुआ करते थे,अब जब कोरोना के कारण सब अपने-अपने घरों में हैं तो अपने बच्चों को पेड़-पौधें लगाने और गार्डनिंग करना सिखाएं।ये न सिर्फ एक अच्छी एक्टिविटी है बल्कि गार्डनिंग करने से बच्चों को पेड़-पौधे और उनसे जुड़े इंसेक्ट्स और अन्य जानवरों के बारे में भी जानकारी हासिल होगी।

2. रोज़ाना लिखें डायरी

पेरेंट्स को चाहिए कि वो अपने बच्चों को रोज़ के रोज़ डायरी लिखने कि आदत डलवाएं।रोज़ डायरी लिखने से बच्चों में लिखने की आदत डेवलप होती है। बच्चों को कहें कि वो कोरोना से जुड़े अपने विचारों को डायरी में लिखे। ये आदत आपके बच्चे को अपनी फीलिंग्स को कैसे एक्सप्रेस करते हैं ये सिखाती है। आपका बच्चा अगर रोज़ डायरी लिखेगा तो उसके विचारों और उसकी सोच में अच्छा ग्रोथ देखने को मिल सकता है।

3. किताब पढ़ने की आदत है जरुरी

लॉकडाउन के दौरान चूंकि आप घर से बाहर नहीं जा रहे हैं, ऐसे में आपके पास दिन में समय जरूर बच जाता होगा। इस समय में आप आराम से एक किताब पढ़ सकते हैं। इससे आपका मनोरंजन भी होगा और ज्ञान भी बढ़ेगा। किताब से सीखी गई बातों को बच्चों से भी शेयर करें।यही नहीं आप अपने बच्चों को भी कोई न कोई किताब पढ़ने की आदत जरूर लगवाएं।

4. नई रेसेपी करें ट्राई और बच्चों को सिखायें

घर में हैं तो यूट्यूब जैसे प्लेटफार्म से सीख कर नई रेसिपी बना सकते हैं। हां, अगर बच्चे खाना बनाने के लायक हैं तो उन्हें भी जरूर सिखाएं। बच्चों को सिखाएं कि कैसे खुद खाना बनाना हमें हेल्दी रखता है। यह हमें संयमित और क्रिएटिव भी बनाता है। बच्चों को ये सीखा दें कि अगर उन्हें जीवन में कामयाब होना है तो उन्हें खाना बनाना आना चाहिए। ये सिर्फ बच्चों के लिए नहीं बल्कि आपके लिए भी एक प्रोडक्टिव एक्टिविटी साबित हो सकती है।

 


अनुशंसित लेख