मलाला युसुफ़ज़ई

मलाला युसुफ़ज़ई: 23 वर्षीय वीमेन’स राइट्स एक्टिविस्ट मलाला युसुफ़ज़ई ने ओरिजिनल प्रोग्रामिंग डेवेलोप करने के लिए एप्पल टीवी + के साथ एक मल्टी-ईयर पार्टनरशिप पर साइन किए।

नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ने एप्पल टीवी + के साथ एक मल्टी -ईयर प्रोग्रामिंग डील पर साइन किए हैं, जैसा कि सोमवार को स्ट्रीमिंग सर्विस ने बताया था।

पैक्ट में, सबसे कम उम्र की नोबेल पुरस्कार विजेता कथित रूप से वीडियो-ऑन-डिमांड सेवा के लिए मूल प्रोग्रामिंग विकसित करेगा। इसमें नाटक, हास्य, वृत्तचित्र, एनीमेशन और बच्चों की सीरीज शामिल होगी जो उसके “दुनिया भर के लोगों को प्रेरित करने की प्रवृत्ति” पर आधारित होगी।

इस सौदे के साथ, 23 वर्षीय वीमेन राइट्स एक्टिविस्ट ओपरा विन्फ्रे, स्टीवन स्पीलबर्ग, टॉम हैंक्स, विल स्मिथ, जेनिफर एनिस्टन, इदरीस एल्बा, मार्टिन स्कॉर्सेस, लियोनार्डो डिकैप्रियो और एप्पल पर डील से जुड़ी कई और प्रसिद्ध हस्तियों की पसंद में शामिल हो गई हैं।

मलाला एप्पल डील पर

रिपोर्टों के अनुसार, आई एम मलाला को-ऑथर ने इस डील पर साइन करने पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा, “मैं परिवारों को एक साथ लाने, दोस्ती करने, आंदोलनों का निर्माण करने और बच्चों को सपने देखने के लिए प्रेरित करने के लिए कहानियों की शक्ति में विश्वास करती हूं।” उन्होंने कहा कि वह “इन कहानियों को जीवन में लाने के लिए” बेहतर अवसर नहीं मांग सकती थीं और “वे महिलाओं, युवाओं, लेखकों, और कलाकारों को दुनिया को रिफ्लेक्ट करने में सहायता करती हैं क्योंकि वे इसे देखते हैं।”

मलाला का एप्पल के साथ जुड़ाव

2018 में, ऐप्पल मलाला फंड की एक पार्टनर बन गयी, जो कि अंतर्राष्ट्रीय, नॉन-प्रॉफिटेबल ऑर्गनाइज़ेशन है, जिसकी स्थापना लड़कियों की शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए और हर लड़की के 12 साल की सुरक्षित, मुफ्त, क्वालिटी एजुकेशन के अधिकार का समर्थन करने के लिए की गई है। इसने आठ देशों में स्थानीय अधिवक्ताओं, शिक्षकों और कार्यकर्ताओं के साथ संगठन के प्रयास का समर्थन किया जहां लड़कियों को अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, टेक जाइंट ने टेक्नोलॉजी, करिकुलम  और लड़कियों की शिक्षा का समर्थन करने के लिए पालिसी चैंजेस में रिसर्च के लिए भी सहायता की। मलाला युसुफ़ज़ई

इसके अलावा, इस पार्टनरशिप ने पार्टनरशिप के टर्म्स में वेंचर का एक्सपेंशन किया है। वास्तव में, ब्राजील में, एप्पल की 10 डेवलपर अकादमियों ने मलाला फंड के साथ पार्टनरशिप की है ताकि दुनिया भर में लड़कियों और महिलाओं की शिक्षा के अपलिफ्टमेंट में सहायता की जा सके।

मलाला और ऐप्पल इसके अलावा डिजिटल पब्लिशिंग असेंबली में एक साथ काम कर रही हैं, जिसका मतलब लड़कियों और युवा महिलाओं से है और 2018 से ऐप्पल न्यूज़ पर उपलब्ध है। मल्टी-लिंगुअल वर्चुअल प्लेटफॉर्म ने युवा से इंस्पायरिंग और ‘मच नीडेड टू नो’ कहानियां प्रकाशित की हैं जो 100 से अधिक देशों में महिलाएं पर आधारित हैं।

मलाला युसुफ़ज़ई (malala yousafzai) के बारे में

मलाला यूसुफजई लड़कियों की शिक्षा के लिए एक पाकिस्तानी एक्टिविस्ट है और ह्यूमन राइट्स एडवोकेसी के लिए जानी जाती है, खासतौर पर महिलाओं और बच्चों की शिक्षा के अधिकार के लिए।

उनका एक्टिविज्म उनके समय से शुरू हुई, जो उत्तर पश्चिम पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में अपनी मूल स्वात घाटी में थी, जहां स्थानीय तालिबान ने कई बार लड़कियों को स्कूल जाने से बैन कर दिया था। उनकी एडवोकेसी एक इंटरनेशनल आंदोलन में विकसित हुई है और अक्सर पाकिस्तान के ’सबसे प्रमुख नागरिक’ के रूप में प्रतिष्ठित होती है।

उनकी एक्टिविज्म के चलते उनसे बदला लेने के लिए  हत्या के प्रयास में, उन्हें 9 अक्टूबर, 2012 को एक तालिबानी गनमैन ने उन्हें गोली मार दी थी। हालांकि, वो बच गई और वह रूढ़िवादी मुस्लिम समुदायों द्वारा मज़ाक, बदनामी और आलोचना से लड़ती रही और 2013 से यूनाइटेड किंगडम में रह रही हैं, जहां उन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में अपनी हायर एजुकेशन को पूरा  किया।

इसके अलावा, मलाला ने 17 साल की उम्र में 2014 में नोबेल पीस प्राइज जीता और इस प्रतिष्ठित पुरस्कार की सबसे कम उम्र की प्राप्तकर्ता बन गई। मलाला युसुफ़ज़ई

Email us at connect@shethepeople.tv

post image
Malala-Yousafzai
post image
कृति सेनन ने सुशांत सिंह राजपूत की याद में इंस्टाग्राम पर कुछ तसवीरें पोस्ट की
post image
LAC पर कर्नल संतोष बाबू शहीद : मां ने कहा खुश हूं बेटा देश के काम आया
post image
आप विधायक आतिशी मार्लेना हुई कोरोना पॉजिटिव

हमारे बारे में

शीदपीपल.टीवी भारत का पहला महिला-केंद्रित मीडिया प्लेटफार्म है. हम महिलाओं की जर्नी, और उनकी कहानियों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित हैं. हम उन्हें एक ऐसे अद्बुद्ध नेटवर्क से जोड़ते हैं जो उन्हें सशक्त बनाता है,उन्हें प्रेरित करता है और उन्हें आगे बढ़ने का बढ़ावा देता है।

भारत में प्रत्येक गुज़रते साल के साथ महिलाएं ऑनलाइन आ रही हैं. उन्हें एक ऐसे प्लेटफार्म की ज़रुरत है जो उन्हें समझ पाए. हम उन महिलाओं से जुड़ते हैं जो नए विचारों और प्रेरणा के साथ दुनिया को समृद्ध करते हैं.

पुरस्कार विजेता पत्रकार शैली चोपड़ा द्वारा स्थापित, शीदपीपल.टीवी वो आवाज है जो भारतीय महिलाओं को आज चाहिए।