मिल्खा सिंह की पत्नी COVID-19 निमोनिया के कारण अस्पताल में भर्ती: 91 वर्षीय स्प्रिंटर मिल्खा सिंह की पत्नी निर्मल कौर, जो नेशनल  वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान हैं। रिपोर्ट्स केर अनुसार,  उन्होंने बुधवार को COVID-19 के लिए पॉजिटिव टेस्ट किया। इसके बाद उन्हें उसी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसके पति का इलाज चल रहा है। सिंह और कौर दोनों को COVID निमोनिया के सिम्पटम्स के साथ मोहाली के फोर्टिस अस्पताल ले जाया गया है।

अनुभवी ओलंपियन मिल्खा सिंह, जिन्हें फ्लाइंग सिख के नाम से भी जाना जाता है, ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। चूंकि उनकी हालत स्टेबल है, इसलिए बुधवार को एथलीट को इंटेंसिव केयर यूनिट वार्ड से बाहर शिफ्ट कर दिया गया। “कमजोर” होने के बावजूद सिंह में सुधार के क्लीनिकल सिम्पटम्स दिखाई दे रहे हैं। हालांकि, उनकी 82 वर्षीय पत्नी पर कड़ी नजर रखी जा रही है, अस्पताल ने एक बयान में कहा। वे एक ही रूम शेयर कर रहे हैं।

पिछले हफ्ते, कपल और उनके बेटे जीव मिल्खा सिंह की पत्नी कुदरत और पोते हरजाई ने आरटी-पीसीआर टेस्ट लिया था। कौर के टेस्ट नेगेटिव आए थे, जबकि सिंह के परिवार के अन्य सभी सदस्यों ने पॉजिटिव टेस्ट किया था। एडमिट होने के उसी दिन “कोविड निमोनिया” का डायग्नोज़ होने के बाद एथलीट को 24 मई को आईसीयू में भर्ती कराया गया था और तब से उनका फ़ूड इन्टेक काफी कम हो गया है। एनडीटीवी ने बताया कि महान एथलीट को 20 मई को हाउस हेल्प से इन्फेक्ट होने का शक है, जिन्होंने वायरस के लिए भी पॉजिटिव टेस्ट किया था।

इस बीच, उनकी बेटी मोना मिल्खा सिंह, जो एक इमरजेंसी रूम डॉक्टर के रूप में न्यूयॉर्क में COVID-19 रोगियों की देखभाल कर रही थी, बुधवार को चंडीगढ़ पहुंची और उनके भाई, एस गोल्फर जीव भी शनिवार को दुबई से वापस लौटे।

जीव मिल्खा सिंह ने अपने माता-पिता की स्थिति के बारे में जानकारी दी। “माँ और पिताजी ऑक्सीजन पर हैं। वे इस सिचुएशन से निकल जायेंगे , ”उन्होंने कहा।

एक सूत्र ने बताया कि दोनों ठीक हैं और अच्छे सचुरेशन लेवल्स बनाए हुए हैं, सिंह ने दो दिनों से कुछ भी नहीं लिया है, लेकिन वह टहलना चाहते हैं। हालांकि, व्यक्ति ने यह भी नोट किया कि वह सख्त निगरानी में है जबकि कौर भी इलाज के लिए अच्छा रिस्पांस दे रही है।

सिंह चार बार के एशियाई खेलों के गोल्ड मैडल विजेता और 1958 के कामनवेल्थ गेम्स के चैंपियन हैं, लेकिन दुनिया 1960 के रोम ओलंपिक में उनके सबसे महान प्रदर्शन को याद रखेगी, जब वह 400 मीटर फाइनल में चौथे स्थान पर रहे थे। फाइनल में उनका समय 38 साल तक राष्ट्रीय रिकॉर्ड बना रहा। उन्होंने 1956 और 1964 के ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया और 1959 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया। इस बीच, कौर को एक डेडिकेटेड एडमिनिस्ट्रेटर के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने खिलाड़ियों के कल्याण के लिए काम किया।

Email us at connect@shethepeople.tv