दुनिया भर में लाखों महिलाएं मातृत्व प्राप्त करने के बाद घर पर रहने के लिए अपनी जॉब छोड़ देती हैं। लेकिन क्या समाज या उनका परिवार इन प्रयासों की तारीफ करता है? क्या लोग उन सभी चीजों को स्वीकार करते हैं जो महिलाएं, अपने बच्चों के लिए प्रोफेशनल लेवल पर छोड़ देती है? नहीं। हमारे समाज में, हम बस कमाने वाले पेशों को ही महत्व देते है। इसलिए कॉर्पोरेट, डॉक्टर या एकाउंटेंट होने के नाते आप समाज में सम्मानित और प्रतिष्ठित होते है, घर में रहने वाले माता-पिता नहीं।

image

वास्तव में, बहुत से लोग मानते हैं कि बच्चों को पालने के लिए अपने जीवन के वर्षों को समर्पित करना कोई काम नहीं है। क्या घर पर रहने वाली एक माँ कुछ कार्य नहीं करती? माँ बनना एक फुल टाइम जॉब है

एक हाउसवाइफ की तुलना में एक ब्रेडविनर को अधिक महत्व दिया जाता है

पुरुषों के लिए यह कहना काफी आसान है कि महिलाओं को घर पर रहना चाहिए और बच्चों की परवरिश करनी चाहिए और उन्हें पैसा कमाना चाहिए। लेकिन क्या उन्हें इस बात का कोई अंदाजा है कि सत्ता के पदानुक्रम को स्थापित करने में यह कैसे भूमिका निभाता है? क्या पुरुषों ने कभी सवाल किया है कि उनकी तनख्वाह का उनके हक़ से क्या लेना-देना है? पुरुष समाज में एक श्रेष्ठ स्थिति का आनंद लेते हैं क्योंकि एक गृहिणी की तुलना में एक ब्रेडविनर को अधिक महत्व दिया जाता है। बहुत से लोग घर और बच्चों की देखभाल को फुल टाइम नौकरी नहीं मानते हैं।

माएँ बस चाहती है कि उनके प्रयासों और कड़ी मेहनत को किसी भी प्रोफेशन की तरह स्वीकार किया जाये। क्योंकि काम काम है, आखिरकार, भले ही आप इसके लिए भुगतान करें या न करें।

अपने बच्चों की देखभाल के लिए वेतन मांगना स्वार्थी है

हमारे समाज ने हमें यह विश्वास दिलाया है कि महिलाएँ बच्चों की देखभाल करने के लिए बाध्य हैं। आप उन्हें इस दुनिया में लाते हैं, इस प्रकार आप उन्हें खिलाने और उनकी देखभाल करने के लिए जिम्मेदार हैं। यही कारण है कि यह एक फुल टाइम नौकरी होने के बावजूद, दिन के अंत में कोई पे चैक नहीं आता है। ऐसे कई लोग हैं जो यह तर्क देंगे कि अपने बच्चों की देखभाल के लिए वेतन मांगना स्वार्थी है। लेकिन उन्हें तब जवाब देना चाहिए कि ऐसा क्यों है कि समाज घर पर रहने वाले माँओं के साथ अलग तरह से व्यवहार करता है? लोग यह क्यों नहीं स्वीकार करते हैं कि ये माताएँ भी कड़ी मेहनत करती हैं, और इस तरह किसी भी व्यक्ति के बराबर हैसियत रखती है जो अपने काम के लिए वेतन कमाता है? कड़वा सच यह है कि हम पैसे को प्यार और देखभाल से अधिक महत्व देते हैं। हमारे लिए, एक नौकरी केवल सम्मानजनक है अगर आप मोटी रकम कमाती है। कल्पना कीजिए, कुछ ऐसा करने के बारे में, बिना पैसे के कमाए। वो है फुल टाइम पेरेंटिंग।

चूंकि पैसे की भाषा वह है जिसे हर कोई समझता है, इसलिए लोगों को घर रहने वाले माता-पिता के मूल्य के बारें में सिखाना महत्वपूर्ण है। मदरहुड एक बड़ी लागत के साथ आता है और महिलाएं इसे खुशी से अदा करती है। बदले में वे बस चाहती है कि उनके प्रयासों और कड़ी मेहनत को किसी भी प्रोफेशन की तरह स्वीकार किया जाये। क्योंकि काम काम है, आखिरकार, भले ही आप इसके लिए भुगतान करें या न करें।

कड़वा सच यह है कि हम पैसे को प्यार और देखभाल से अधिक महत्व देते हैं। हमारे लिए, एक नौकरी केवल सम्मानजनक है अगर आप मोटी रकम कमाती है। कल्पना कीजिए, कुछ ऐसा करने के बारे में, बिना पैसे के कमाए। वो है फुल टाइम पेरेंटिंग।

हर इंसान अपने काम के लिए सम्मान का अधिकार रखता है।बहुत से लोग जो सोचते हैं कि घर में रहने वाले माताएँ बेरोजगार हैं और यह गलत है।

यह लेख यामिनी पुस्टेक भालेराव ने अंग्रेजी में ओपिनियन सेक्शन में लिखा है। 

पढ़िए : डांस मेरी ज़िन्दगी है, मदरहुड मेरी ताक़त है: स्मिती पांडे

Email us at connect@shethepeople.tv