जानिए Nutrition की कमी से बच्चों में होने वाली इन 6 बीमारियों के बारे में

Published by
Nayan yerne

पोषण (Nutrition ) हर किसी के लिए बहुत जरूरी है। शरीर तभी स्वस्थ (healthy ) रह सकता है जब उसे सभी मिनरल, विटामिन और प्रोटीन तय मात्रा में मिलते रहें। इनमें से कोई भी चीज कम हो जाए तो शरीर को नुकसान पहुंचने लगता है। बच्चों के लिए पोषण का महत्व और बढ़ जाता है। दरअसल इसके अभाव में बच्चों के अंदर कई बीमारियां घर कर जाती हैं। आज हम आपको बताएंगे आखिर पोषण के अभाव में आपके बच्चे को कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं। Nutrition की कमी से होने वाली बीमारी

Nutrition की कमी से हो सकती हैं ये 6 बीमारियां (nutrition ki kami se hone wali bimari)

  1. लंबाई – वैसे तो लंबाई का बढ़ना आनुवांशिक होता है, लेकिन कई बार पोषण की कमी या कुछ अन्य कारणों से भी बच्चे की लंबाई छोटी रह जाती है।
  2. बेरीबेरी – यह बीमारी विटामिन बी-1 की कमी से होती है। यह बच्चे की मांसपेशियों, दिल और पाचन शक्ति आदि को प्रभावित करती है। बेरीबेरी के 2 प्रकार होते हैं। पहला आर्द्र (वेट) बेरीबेरी और दूसरा शुष्क (ड्राई) बेरीबेरी। आर्द्र बेरीबेरी हार्ट को प्रभावित करता है, जबकि शुष्क बेरीबेरी नर्व को कमजोर करता है।
  3. घेंघा – पोषण की कमी से कई बच्चों में घेंघा की समस्या भी सामने आती है। घेंघा यानि गोइटर रोग की स्थिति में गले में असामान्य सूजन हो जाती है। यह स्थिति थायरॉइड ग्रंथि से जुड़ी होती है। जब थायरॉइड ग्रंथि का आकार बढ़ जाता है, तो उसे घेंघा के नाम से जानते हैं। सूजन की वजह से सांस लेने में समस्या होती है। हालांकि यह समस्या बच्चों को बहुत कम आती है।
  4. स्कर्वी – यह रोग खाने में विटामिन-सी (जिसे एस्कोर्बिक एसिड भी कहा जाता है) की कमी से होता है। विटामिन-सी की कमी होने से शरीर में रक्त की कमी हो जाती है और बच्चा स्कर्वी का शिकार हो जाता है। इससे सबसे ज्यादा गर्भ में पल रहा शिशु प्रभावित होता है। डॉक्टरों के अनुसार महिला में विटामिन-सी की कमी रहने से पेट में पल रहे शिशु का दिमाग पूरी तरह विकसित नहीं हो पाता है। इसके अलावा कई बार इस बीमारी की वजह से छोटे बच्चों के शरीर में सूजन आ जाती है। वैसे तो स्कर्वी की शिकायत भी बहुत कम देखने को मिलती है, लेकिन जिन बच्चों की डाइट में फल और सब्जियों की मात्रा कम होती है, उनमें इस बीमारी के होने की आशंका बनी रहती है।
  5. रिकेट्स – इस बीमारी में बच्चों की हड्डियां मुलायम हो जाती हैं। कई बार हड्डियां इतनी कमजोर हो जाती हैं कि साधारण दबाव से टूट भी जाती हैं। यह बीमारी विटामिन-डी की कमी से होती है। दरअसल विटामिन-डी हड्डियों में कैल्शियम और फास्फोरस को absorbs करता है। ऐसे में विटामिन-डी की कमी होने पर शरीर में विटामिन-सी और फास्फोरस की कमी हो जाती है। 3 से 36 महीने तक के बच्चों में इस बीमारी के होने की आशंका ज्यादा रहती है।
  6. पिलाग्रा – इस बीमारी की वजह शरीर में विटामिन बी3 की कमी है। यह बीमारी पाचन क्रिया, त्वचा और नर्व को प्रभावित करती है। हरी सब्जियां न खाने वाले बच्चों को इस बीमारी के होने का ज्यादा डर रहता है। Nutrition की कमी से होने वाली बीमारी

Recent Posts

महिलाओं के राइट्स: क्यों सोसाइटी सिर्फ महिलाओं की ड्यूटीज से ही रहती है ऑब्सेस्ड?

आज भी सोसाइटी में कई लोगों का ये मानना है कि महिलाओं की सबसे पहली…

2 hours ago

रायसा लील: 13 साल में ओलिंपिक पदक जीतने के बाद सामने आया ये पुराना वायरल वीडियो

टोक्यो ओलंपिक्स में स्केटबोर्डिंग में इस साल ब्राज़ील की रायसा लील ने रजत पदक जीता…

3 hours ago

बंगाल की महिलाओं से जबरजस्ती पोर्न शूट कराया गया, मामला राज कुंद्रा से जुड़ा है

इन में से एक महिला ने कहा कि यह वीडियोस कई वेबसाइट पर पोस्ट की…

5 hours ago

क्यों टूटती हुई शादियों को नहीं मिलती है सोसाइटी की एक्सेप्टेन्स?

हमारे देश में सदियों से शादी को एक "पवित्र बंधन" माना गया है जिसका हर…

5 hours ago

हैप्पी बर्थडे कुब्रा सेठ, जानिए एक्ट्रेस कुब्रा सेठ के बारे में 5 बातें

कुब्रा सेठ इनके कक्कू के रोल के लिए फेमस हैं जो कि सेक्रेड गेम्स में…

5 hours ago

मुंबई: डॉक्टर ने ली थी टीके की दोनों खुराक फिर भी दो बार कोविड रिपोर्ट आई पॉजिटिव

मुंबई के एक 26 वर्षीय डॉक्टर की 13 महीनों में तीन बार पॉजिटिव रिपोर्ट आई…

6 hours ago

This website uses cookies.