फ़ीचर्ड

जानिए ओवेरियन कैंसर के ये 9 लक्षण और इनके उपाय

Published by
Shilpa Kunwar

हमारे शरीर में बढ़ती उम्र के साथ कई तरह की बीमारियां घर कर जाते हैं। उन सब में ओवेरियन कैंसर या अंडाशय का कैंसर एक बड़ी प्रॉबलम बनती जा रही हैं। यह कैंसर महिलाओं में मृत्यु का बड़ा कारण है, जबकि काफी कम महिलाओं में इसका ईलाज तीसरी या चौथी स्टेज़ में हो पाता है। आईयें हम आपको इससे जुड़ी ज़रूरी बातें आराम से बताते हैं। ओवेरियन कैंसर

क्या है ओवेरियन कैंसर? (ovarian cancer)

यह कैंसर ओवरी से शुरु होता है। ओवरी महिलाओं में पाई जाने वाली प्रजनन ग्रंथियां हैं। ओवरी प्रजनन के लिए अंडों का उत्पादन करता है। ओवरी फैलोपियन ट्यूब्स से गर्भाशय में जाते हैं। जहां निषेचित अंडा प्रवेश करता है और भ्रूण विकसित होता है। अंडाशय महिलाओं में हारमोंस एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का मुख्य स्त्रोत है। ओवरी में किसी भी तरह के कैंसर का विकास ही ओवेरियन कैंसर है।

यह ज्यादातर ओवरी की बाहरी लेयर से पैदा होता है इसे ओवेरियन सिस्ट कहते है। कई मामलों में यह सिस्ट बिल्कुल सामान्य होती है लेकिन अगर यह परत सामान्य से ज्यादा मोटी है तो यह पीरियड्स पर असर डालती है। साथ ही, प्रेगनेंसी के लिए भी खतरनाक है। हालांकि यह बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन यह ज्यादातर मामलों में 50-60 साल की महिलाएं को होता हैं।

ओवेरियन कैंसर के प्रकार

1.सेक्स कॉर्ड-स्ट्रोमल ट्यूमर
2.जर्म सेल ट्यूमर
3.एपिथेलियल ओवेरियन कैंसर (ईओसी)
4.ओवेरियन लो मैलिगनेंट पोटेंशियल ट्यूमर (ओएलएमपीटी)

ओवेरियन कैंसर के लक्षण

इसके लक्षणों को पहचानना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि ज्यादातर शिकायत पेट दर्द से रिलेटेड होते हैं। जिन्हें रोज़ाना की प्रॉब्लम्स समझ कर इग्नोर कर दिया जाता है। कुछ अन्य लक्षण इस प्रकार हैं जैसे:-

1.कमर दर्द,
2.जांघों में दर्द,
3.पेट पर सूजन व दर्द,
4.यूरिनेशन,
5.अनियमित पीरियड्स,
6.उबकाई या ऊल्टी आने की स्थिति,
7.वजन घटना,
8.सांस फूलना थकान,
9.भूख की कमी

इससे बचने के उपाय

1.ब्रेस्टफीडिंग कराने से ओवेरियन और फैलोपियन ट्यूब के कैंसर का खतरा कम हो जाता है।
2.जिन महिलाओं को हिस्टरेक्टोमी या ट्यूबल लाइगेशन जैसी सर्जरी हो चुकी हो, उनको भी इस कैंसर का खतरा कम होता है।
3.फलों और सब्जियों का अधिक सेवन, धूम्रपान और शराब से दूरी, नियमित रूप से व्यायाम सेहत के लिए लाभदायक और कैंसर का खतरा भी कम रहता है।
4.गर्भनिरोधक गोलियां भी महिलाओं में इसके खतरे को कम करने में मदद कर सकती हैं।

Recent Posts

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

18 mins ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

1 hour ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

2 hours ago

रियल लाइफ चक दे! इंडिया मूमेंट : भारतीय महिला हॉकी टीम ने सेमीफइनल में पहुंच कर रचा इतिहास

गुरजीत कौर के एक गोल ने महिला टीम को ओलंपिक खेलों में अपने पहले सेमीफाइनल…

2 hours ago

मेरी ओर से झूठे कोट्स देना बंद करें : शिल्पा शेट्टी का नया स्टेटमेंट

इन्होंने कहा कि यह एक प्राउड इंडियन सिटिज़न हैं और यह लॉ में और अपने…

5 hours ago

नीना गुप्ता की Dial 100 फिल्म के बारे में 10 बातें

गुप्ता और मनोज बाजपेयी की फिल्म Dial 100 इस हफ्ते OTT प्लेटफार्म पर रिलीज़ हो…

5 hours ago

This website uses cookies.