भारत में पेरेंट्स को बॉयफ़्रेंड के बारे में बताना आसान काम नहीं होता क्योंकि यहाँ कन्ज़रवेटिव किस्म के लोग रहते हैं। ऊपर से हमारे पेरेंट्स को ये यकीन ही नहीं होता कि हम अपने लिए सही इंसान चुन सकते हैं। ऐसे में अगर आप पेरेंट्स को अपने पार्टनर के बारे में बताने निकले हैं तो आपको अच्छी तैयारी कर लेनी चाहिए ताकि उनके सामने कोई गड़बड़ ना हो जाए और वो सीधे आपकी चॉइस को रिजेक्ट ना कर दें। (पेरेंट्स को बॉयफ़्रेंड के बारे में कैसे बताएँ)

यहाँ जानिए कि पेरेंट्स को बॉयफ़्रेंड के बारे में कैसे बताएँ

1. बोलने की प्रैक्टिस करें

जब आपके पेरेंट्स बेहद खुले विचारों के ना हों तो उन्हें अपने रिलेशनशिप के बारे में बताना आसान नहीं होता। आपका डरना स्वभाविक है। घबराहाट में आप कुछ गलत ना बोल जाएँ इसलिए पहले से प्रैक्टिस कर लीजिए। इसके लिए किसी दोस्त या क्लोज़ रीलेटिव का सहारा लीजिए। अपने बॉयफ़्रेंड के बारे में बताते समय आपका कॉन्फ़िडेंट होना ज़रूरी है वरना हो सकता है आपके पेरेंट्स आपको सीरियसली ना लें। आप मिरर या अपने भाई- बहन के सामने रिहर्सल कर सकते हैं।

2. लिख कर बताएँ

यदि आपको बोलने में समस्या होती है तो लिख कर अपनी भावनाएँ व्यक्त करें। इससे फ़ायदा ये होता है कि आप आराम से समय लेकर अपने रिलेशनशिप को बेस्ट तरीके से डिसक्राइब कर सकते हैं। जो बात बोलने में हिचक महसूस होती है, उसे लिखने में दिक्कत कम होती है। इसमें भी आप अपने बड़े भाई-बहन की मदद ले सकते हैं अगर वो सपोर्टिव हों।

3. क्लोज़ पेरेंट को पहले बताएँ

दोनों पेरेंट्स एक जैसे नहीं होते और हमारा उन दोनों से रिश्ता भी एक जैसा नहीं होता। जो भी पेरेंट आपके ज़्यादा क्लोज़ हों या ज़्यादा लिबरल हों, उन्हें पहले बताएँ। एक पेरेंट को पहले से कन्विन्स कर लेंगे तो दूसरे को बताने में आसानी होगी। दोनों को एक साथ शॉक देंगे तो उन्हें समझाना मुश्किल हो सकता है। यदि एक को पहले से पता होगा तो वो दूसरे को संभाल सकता है।

4. सही समय चुनें

बॉयफ़्रेंड के बारे में बताने के लिए सही समय का चुनाव करें। जब पेरेंट्स का मूड अच्छा हो, तभी उनसे बात करें। अगर उनका मूड खराब हो या वो बिज़ी हों तो इस विषय पर बात बिल्कुल ना करें वरना आपको इग्नोर किया जा सकता है या आप डाँट खा सकते हैं। लेकिन सही समय का बहाने की तरह इस्तेमाल ना करें। एक दिन तो आपको बताना ही होगा। इसलिए टालने की कोशिश ना करें।

5. एक बार में पूरी बात कहिए

बात करने से पहले आपको जितनी तैयारी करनी है कर लीजिए। एक बार आप पेरेंट्स से सामने आ जाएँ उसके बाद बिना घबराए पूरी बात कह दीजिए। इधर-उधर की बातों में टाइम वेस्ट मत करिए, सीधे पॉइंट पर आइये। अपनी बात को पोलाइट मैनर में कहिए, रूड मत होइए।

6. अपने बॉयफ़्रेंड के बारे में डिसकस करें

पेरेंट्स को बॉयफ़्रेंड के बारे में बताइये। उन्हें बताइये कि आपने बॉयफ़्रेंड में क्या पसंद किया। उनका फ़ैमिली बैकग्राऊंड, उनकी एजुकेशन इत्यादि सब बताइये। उनकी अच्छी क्वालिटीज़ पर फोकस करिए। बेहतर होगा कि आप उनकी फ़ोटो भी दिखा दें। आपके पेरेंट्स के पास यकीनन बहुत सारे सवाल होंगे, उनका आराम से और ऑनेस्टी से जवाब दें। ज़रूरत से ज़्यादा डीटेल ना दें। पहली बार में ऐसी बातें ना शेयर करें जो आपके पेरेंट्स को नापसंद हो सकती हैं। (पेरेंट्स को बॉयफ़्रेंड के बारे में कैसे बताएँ)

7. उन्हें समझने का टाइम दीजिए

हो सकता है कि आपके पेरेंट्स को इस तथ्य को एक्सेप्ट करने में थोड़ा समय लगे। वो आपसे नाराज़ या दुखी हो सकते हैं। अगर उन्होंने गुस्से में आपके रिश्ते को ना बोल दिया है, तो उनके शांत हो जाने पर दोबारा बात करें। आप अपना टेंपर लूज़ ना करें। आपके और आपकी पेरेंट्स की सोच में फ़र्क है, इस बात को समझें।

Email us at connect@shethepeople.tv