Pollution Effect On Pregnancy: पॉल्यूशन का प्रेग्नेंट महिलाओं पर क्या असर होता है? पढ़िए डिटेल में

Pollution Effect On Pregnancy: पॉल्यूशन का प्रेग्नेंट महिलाओं पर क्या असर होता है? पढ़िए डिटेल में Pollution Effect On Pregnancy: पॉल्यूशन का प्रेग्नेंट महिलाओं पर क्या असर होता है? पढ़िए डिटेल में

SheThePeople Team

12 Apr 2022


एयर पॉल्यूशन व्यक्ति की सेहत से लेकर प्रेगनेंसी तक तो एफेक्ट कर रहा है। ऑक्सीजन, हवा मनुष्य के जीने का साधन है इसी से ज़िन्दगी है पर आज मनुष्य की गलती की वजह से उसका जीवन खतरे में है। व्यक्ति की ज़िन्दगी प्रदुषण के काले धुएं में घिरती जा रही है। अब हालत यह है उसका अस्तित्व, जन्म तक पर संकट बन गया है। गर्भावस्था में प्रदूषण के संपर्क में आने से पेट में पल रहे शिशुओं पर प्रभाव पड़ने की संभावना है इसकी जानकारी टेक्सास A&M यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन से मिली है। आईए जानते है स्टडी क्या कहती है-

टेक्सास A&M विश्वविद्यालय का अध्ययन जिसे एसोसिएट प्रोफेसर, डॉ नताली जॉनसन, कारमेन लाउ, जोनाथन बेहलेन, डीवीएम अन्य लीड कर रहे थे, वह 'एंटीऑक्सीडेंट्स' जर्नल(पत्रिका) में पब्लिश हुई है। इस अध्ययन से पता चला है कि वायु प्रदूषण के संपर्क में जन्म के समय आने से कम वजन, समय से पहले जन्म, और अस्थमा के खतरे से जोड़ता है।

स्टडी किस ग्राउंड बेसिस पर थी?

2019 में विश्व स्तर पर, वायु प्रदूषण के कारण, कथित तौर पर 6.6 मिलियन से अधिक लोगों की मृत्यु हुई जिसमें 20 प्रतिशत नवजात बच्चो की मौत भी शामिल है। इन नवजात की मौत का कारण समय से पहले जन्म और जन्म के समय कम वजन था। शोधकर्ताओं और पब्लिक हेल्थ सेक्टर के कैंडिडेट्स ने इन आंकड़ों के पीछे के कारण को पूरी तरह से समझने के लिए वायु प्रदूषण के जोखिम के हानिकारक प्रभावों की जांच करना शुरू कर दिया है।

स्टडी से क्या पता चला?

टेक्सस A&M द्वारा उसी पर किए गए अध्ययन से पता चला है कि प्रदूषण का प्रभाव मुख्य रूप से भ्रूण के विकास और विकास की गति पर पड़ता है। जीन पर उनके प्रभाव की मात्रा का अभी तक पूरी तरह से अध्ययन नहीं हुआ है ना ही समझ नहीं आया है। जीन पर प्रदूषकों के प्रभावों को जानने के लिए, NRF 2 जीन की कमी के साथ पशु मॉडल बनाए गए जो सबसे आम है। एक्सपोजर के बाद प्रदूषकों का प्रभाव नवजात संतानों के फेफड़े और वजन पर देखा गया।

NRF2 जीन क्या है?

NRF2 जीन शरीर में पाया जाने वाला वह जीन है जो हमारे इम्यून फंक्शन को कंट्रोल करता और स्ट्रेस रिस्पांस देता है हालांकि , शिशुओं में NRF2 के प्रभावों का बड़े पैमाने पर अध्ययन नहीं किया गया है। "भ्रूण के विकास में NRF2 की भूमिका है या नहीं समझने के लिए और गर्भावस्था के दौरान, शिशुओं में NRF2 जीन के साथ और बिना प्रदूषण के प्रभावों और बिना NRF2 जीन और प्रदुषण के साथ" - इनके बीच अंतर देखने के लिए यह अध्ययन किया गया था।

शोध टीम को मेजर डिफरेंस यह देखने को मिला ने NRF 2 की कमी वाले गर्भवती पशु मॉडल में संतान के प्रदूषक कण मिले जो आकार और बनावट के आधार पर मोटे, (व्यास में 2.5 माइक्रोन से कम), अल्ट्राफाइन पार्टिकल्स (माइक्रोन के 1/10वें हिस्से से कम) है। शोध के अनुसार फाइन और अल्ट्रा फाइन कणों को स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा खतरा है।

इसने रेस्पिरेटरी डिजीज के खतरे को काफी बढ़ा दिया है। NRF2 की कमी वाले और NRF2 जीन वाले मॉडल के बीच महत्वपूर्ण अंतर यह था कि NRF2 की कमी वाले मॉडल में जन्म के समय कम वजन था। यह इस बात की तरफ इशारा करता है कि गर्भावस्था के दौरान NRF2 जीन प्रेगनेंसी के समय इम्पोर्टेन्ट व प्रोटेक्टिव रोल निभाता है। शोध के दौरान शिशु के फेफड़े और जिगर के इम्यून मेकर में महत्वपूर्ण अंतर भी पाया गया।


अनुशंसित लेख