सेक्सरसाइज, ये शब्द सुनते ही आपके दिमाग में चल रहा होगा कि ज़रूर कोई सेक्स से जुड़ी एक्सरसाइज होगी। जी हां, ये वही है। सेक्सरसाइज एक ऐसा एक्सरसाइज है जिसे करने से आपके सेक्शुअल परफोर्मेंस और फंक्शन में काफी सुधार आएगा और वो बदलाव आपके साथ-साथ आपके पार्टनर को भी खुश रखेगा।

image

हमारे सेक्शुअल परफोर्मेंस में सबसे ज्यादा अहम रोल हमारे फिज़िकल फिटनेस का होता है। अगर आप फिज़िकली फिट हैं तो आपके लिए सेक्स करना और आसान हो जाता है और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन (Erectile dysfunction) का रिस्क भी काफी कम हो जाता है। ऐसे एक्सरसाइज क्रोनिक इलनेस (Chronic Illness) जैसे डायबिटीज़, शुगर जैसी बीमारियों को जो सेक्शुअल समस्याओं से आपके बॉडी से दूर रखता है। कोई भी व्यक्ति सेक्सरसाइज (Sexercise hindi) शब्द को बड़े लेवल की एक्सरसाइज या सेक्स में इंप्रूवमेंट लाने के लिए की जाने वाली एक्सरसाइज के लिए उपयोग कर सकता है।

सेक्सरसाइज करने के फायदें

दिल को बनाता है मज़बूत

सेक्सरसाइज (Sexercise hindi) हमारे दिल की सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है। ये ब्लड प्रेशर के रिस्क को कम करता है साथ ही दिल से जुड़ी बीमारियों से भी निज़ात दिलवाता है। 2020 की एक स्टडी में पता चला है कि जो लोग हफ्ते में 2 बार सेक्स करते हैं उनका हार्ट अटैक से मरने का रिस्क 27 प्रतिशत तक घट जाता है।

– प्रदान करता है एक हेल्थी इम्यून सिस्टम

रेगुलर सेक्स करने से आपका इम्यून सिस्टम भी अच्छा वर्क करता है औऱ स्वस्थ रहता है।

– इमोश्नल हेल्थ रहेगा सही

सेक्स या सेक्सरसाइज (Sexercise hindi) डिप्रेशन और स्ट्रेस को दूर रखने में मदद करती है जिससे आपका इमोश्नल हेल्थ भी सही रहेगा।

-आपको खुद से प्यार होने लगेगा

जो लोग अपने सेक्स लाईफ से सटिस्फाई रहते है वो खुद को और भी पसंद करने लगते है।

-रिलेशनशिप भी बनेगा हेल्थी

आपके पार्टनर के साथ एक स्ट्रॉग और हेल्थी सेक्शुअल कनेक्शन बनने से आपका रिश्ता और भी मज़बूत बनेगा और प्यार लंबें समय तक बना रहेगा।

-अच्छी नींद आती है

कई लोग सेक्सरसाइज (Sexercise hindi) के बाद काफी सुकुन की नींद सोते हैं।

-स्ट्रेस मेनेजनेंट में है कारगर

सेक्स काफी अच्छा सेल्फ-केयर टूल है जो आपके स्ट्रेस को कम करने में काफी हद तक मदद करता है।

सेक्सरसाइज़ (Sexercise hindi) के साथ-साथ आप इऩ एक्सरसाइज को करके भी अपनी सेक्शुअल परफोर्मेंस को बेहतर बना सकते हैं-

-स्विमिंग
-वॉल्किंग
-ऐरोबिक एक्सरसाइज़
-पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज़
-योगा
-भार उठाना

पढ़िए- एंडोमेट्रियोसिस क्या है? जानिए इसके लक्षण और कारण

Email us at connect@shethepeople.tv