Shahid Kapoor & Mira Rajput Relationship Tips: शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की 6 रिलेशनशिप टिप्स

Shahid Kapoor & Mira Rajput Relationship Tips: शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की 6 रिलेशनशिप टिप्स Shahid Kapoor & Mira Rajput Relationship Tips: शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की 6 रिलेशनशिप टिप्स

SheThePeople Team

05 Oct 2021

Shahid Kapoor & Mira Rajput Relationship Tips- शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की जोड़ी ऐसी है जिसे बॉलीवुड में सब बेहद पसंद करते हैं। यह दोनों एक दूसरे के साथ बहुत क्यूट लगते हैं और इन्होंने 2015 में शादी करली थी। इनको देखकर कई लोग अरेंज मैरिज में बिलीव करने लगे हैं और मानने लगे हैं कि यह भी सक्सेसफुल हो सकती हैं। इसलिए आज हम आपको बताएंगे शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की 6 रिलेशनशिप टिप्स -

Shahid Kapoor & Mira Rajput Relationship Tips


1. एक दूसरे की रेस्पेक्ट करो


शाहिद कपूर और मीरा राजपूत हमेशा से ही एक दूसरे को रेस्पेक्ट करते आए हैं। हर इंसान अलग अलग होता है और उसको वैसे ही रेस्पेक्ट करना जरुरी होता है। यह एक दूसरे के व्यक्तित्व की कदर करते आए हैं।

2. पार्टनर को प्रायोरिटी पर रखना


शाहिद और मीरा हमेशा एक दूसरे को प्रायोरिटी पर रखते हुए आए हैं। यह जानते भी हैं कि इनको दोनों के लिए यह सबसे इम्पोर्टेन्ट हैं। ऐसा एक बार शाहिद ने एक इंटरव्यू में भी कहा था।

3. एक दूसरे को टाइम देना


किसी भी रिलेशनशिप में एक दूसरे को टाइम देना बहुत जरुरी होता है। हर किसी कि लाइफ में बहुत कुछ होता है जैसे कि पढाई, काम और करियर। लेकिन इन सब से वक़्त निकालकर एक दूसरे को वक़्त देना बेहद जरुरी होता है।

4. एक दूसरे को सपोर्ट करना


कपल्स में सबसे जरुरी होता है एक दूसरे को सपोर्ट करना और खुश रखना। इससे आप एक दसूरे के साथ ग्रो करते हैं और ऐसा ही होना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक दूसरे के स्पेस में घुसे पर उनके स्पेस से बाहर रहकर ही उनको सपोर्ट करें।

5. साथ में डिसिशन लेना


किसी भी रिलेशनशिप में एक दूसरे को साथ में रखना और एक दूसरे के लिए साथ में सोचना जरुरी होता है। कपल का हर एक डिसिशन का फर्क दोनों पार्टनर पर पड़ता है।

मीरा का कहना है कि इन्होंने पढ़ा है कि ‘पिताजी को दाई के रूप में न मानें, उन्हें माता-पिता की तरह व्यवहार करें। इन्होंने कहा कि कब माँ को ब्रेक चाहिए और कब पिता को बच्चे को समय देना है ये सब बांटलें। जब पिता माँ की जगह पर बच्चे के पास होते हैं तो माँ बनने की कोशिश न करें सिर्फ पिता की तरह ही बर्ताव करें। पिता अलग होता है इसलिए वो अलग तरीके से ही वर्ताव करेगें।

अनुशंसित लेख