Side Effects of Green Tea: ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स

Side Effects of Green Tea: ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स Side Effects of Green Tea: ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स

SheThePeople Team

23 Oct 2021


Side Effects of Green Tea: यदि आप ग्रीन टी के प्रेमी हैं, तो आप दुनिया भर के 2 बिलियन लोगों में शामिल हो गए हैं, जो किसी भी दिन इस स्वस्थ हर्बल चाय के एक कप का आनंद ले रहे हैं। एक कप चाय के बिना कई लोगों के लिए सुबह बेजान हो जाती हैं और इससे भी ज्यादा उन लोगों के लिए जो किसी भी चीज़ से ज्यादा अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ग्रीन टी हेल्थ बूस्टर में कई साइड इफ़ेक्ट्स भी हैं? खैर, आपने बिल्कुल सही सुना! यह आर्टिकल ग्रीन टी के साइड इफ़ेक्ट को साझा करता हैं जिसे पीने या नहीं पीने का निर्णय लेने के लिए आपको जागरूक करेगा।

Side Effects of Green Tea: ग्रीन टी के 5 साइड इफ़ेक्ट्स


1. डाजीशियन परेशानी


ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा डाजीशियन सिस्टम की समस्याओं का कारण होती हैं। ग्रीन टी पीने से मतली, उल्टी, पेट दर्द, सूजन, अपच और पेट फूलना हो सकता हैं। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम पर ग्रीन टी का साइड इफ़ेक्ट्स से पेट दर्द होता हैं ।


2. सिरदर्द और चक्कर आना


ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा से सिरदर्द, चक्कर आना, जी मचलना और हल्का चक्कर आने का कारण बनती हैं। सिर दर्द शरीर में आयरन की कमी के कारण भी होता हैं, जो बहुत अधिक ग्रीन टी पीने से होता हैं।


3. शिशुओं में इंसोम्निया


यह संभावना है कि आपकी नींद हराम बहुत अधिक ग्रीन टी पीने का परिणाम है। इस समस्या से बचने का एक ही उपाय है कि ग्रीन टी पीने की सीमा को सीमित कर दिया जाए। चाय को दिन में बहुत देर से या रात को सोने से पहले न पियें। डॉक्टर द्वारा प्रेगनेंसी के दौरान और दूध पिलाते वक्त के दौरान ग्रीन टी पीने से बचे।


4. लूज़ मोशन


यह खासकर उन लोगों के लिए है जो ग्रीन टी पीने के लिए नए हैं। हरी चाय की कैफीन से डाजीशियन के साथ लूज़ मोशन या दस्त को ट्रिगर करती हैं। ग्रीन टी की मात्रा कम करें जो आप लेते हैं और सामान्य किस्म की हेअल्थी डिकैफ़िनेटेड ग्रीन टी के साथ बद लें। डायरियाँ ज्यादा हो जाए तो ग्रीन टी पीना बिल्कुल बंद कर दें।


5. ब्लड प्रेशर स्पाइक्स


ग्रीन टी में मौजूद कैफीन फेनोलिक के साथ मिलकर ब्लड प्रेशर में अचानक स्पाइक्स करता है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन एक हार्मोन की क्रिया को रोकता हैं इससे ब्लड प्रेशर में बढ़ता हैं और परिणामस्वरूप कार्डियक स्ट्रोक का खतरा होता हैं।

 

 


अनुशंसित लेख