महिलाओं के राइट्स: क्यों सोसाइटी सिर्फ महिलाओं की ड्यूटीज से ही रहती है ऑब्सेस्ड?

Published by
Ritika Aastha

क्यों नहीं करती सोसाइटी महिलाओं के राइट्स के बारे में बात? आज भी सोसाइटी में कई लोगों का ये मानना है कि महिलाओं की सबसे पहली ड्यूटी होती है अपनी फैमिली के तरफ और एक महिला का सबसे बड़ा जॉब है एक अच्छी माँ और पत्नी बनना। ये वहीं लोग हैं जो ड्यूटीज के नाम पर महिलाओं से सदियों से अनपेड वर्क करवा रहे हैं। सबसे कमाल की बात तो ये है कि इन सब के बीच महिलाओं के राइट्स के बारे में कोई कभी कुछ बोलता है और अगर इन राइट्स का किसी ने उलंघन किया भी तो सोसाइटी को इससे ज़्यादा फर्क नहीं पड़ता है। आखिर क्यों है सोसाइटी को महिलाओं की ड्यूटीज से ओबसेशन?

डोमेस्टिक अनपेड वर्क है बहुत बड़ा कारण

सदियों से महिलाओं को घर के चार-दीवारी के अंदर रखना लोगों को पसंद आता है। ऐसे में मर्दों की हिम्मत इतनी बढ़ चुकी है कि वो महिलाओं को घर से बाहर ना निकलने देने के साथ-साथ उनसे हद से ज़्यादा डोमेस्टिक वर्क करवाते हैं और वो भी अनपेड। यही कारण है कि महिलाओं के पास अपने राइट्स के लिए लड़ने के लिए किसी तरह की फाइनेंसियल सपोर्ट नहीं होती है और ना चाहते हुए भी वो अनन्याय सेहती हैं। आज भी ये बहुत ही कम मर्द एक्चुअली डोमेस्टिक वर्क में इक्वलिटी का प्रदर्शन करते हैं।

महिलाओं की ड्यूटीज को लिया जाता है ग्रांटेड

महिलाओं को बचपन से ही उनकी ड्यूटीज का सही तरह से पालन करने के बारे में इस कदर समझा दिया जाता है कि वो जीवन भर इन ड्यूटीज को पूरा करने में अपना जी-जान लगा देती हैं। अगर कोई महिला वर्किंग है तो भी इस बात से किसी को ख़ासा फर्क नहीं पड़ता है और उससे यही एक्सपेक्ट किया जाता है कि वो अपने करियर को बैलेंस करते हुए अपने घर के तरफ अपनी हर ड्यूटी को पूरा करेगी। ये ज़रूरत से ज़्यादा काम कोई अप्रिशिएट भी नहीं करता है और एक समय के बाद लोग इन सब को ग्रांटेड लेने लगते हैं।

बच्चों के कारण भी बढ़ता है बोझ

महिलाओं के ऊपर बच्चों को इस दुनिया में लाने की बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी प्रकृति ने पहले से दे रखी है। ऐसे में हालत और ज़्यादा इसलिए बिगड़े हुए है क्योंकि मर्दों के दिमाग को बचपन से ऐसे ही कंडीशन किया गया है कि महिलाएं ही बच्चों की सही परवरिश कर सकती है और इसलिए ये बहुत ज़रूरी है कि वो घर पर रहें। इसके साथ-साथ डोमेस्टिक हेल्प के लिए भी सोसाइटी महिलाओं को ड्यूटीज के नाम पर ज़रूरत से ज़्यादा काम करवाकर पैसे बचाती है।

महिलाओं को नहीं पता अपने राइट्स के बारे में

ज़्यादातर महिलाओं को भी अपने से रिलेटेड राइट्स के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है। इस बात का सीधा सम्बन्ध इस बात से है कि महिलाओं को उनके राइट्स को लेकर कोई जल्दी अवगत करता नहीं है वरना वो अनपेड डोमेस्टिक हेल्प की भूमिका निभाना बंद कर सकती है और ये बात सोसाइटी के बर्दाश्त के बाहर है। महिलाओं का सही से एड्युकेशन ना पाना भी बहुत बड़ी वजह है कि उनके महिलाओं के राइट्स के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है। इस परिस्थिति को बदलने की ज़रूरत है वरना समाज में इक्वलिटी स्थापित नहीं हो पाएगी।

महिलाओं के राइट्स

Recent Posts

Tapsee Pannu & Shahrukh Khan Film: तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान कर रहे साथ में फिल्म “Donkey Flight”

इस फिल्म का नाम है "Donkey Flight" और इस में तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान…

2 days ago

Raj Kundra Porn Case: शिल्पा शेट्टी के पति ने कहा कि उन्हें “बलि का बकरा” बनाया जा रहा है

पोर्न रैकेट चलाने के मामले में बिज़नेसमैन राज कुंद्रा ने शनिवार को एक अदालत में…

2 days ago

हैवी पीरियड्स को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी, जाने क्या हैं इसके खतरे

कई बार महिलाओं में पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो से काफी सारा खून वेस्ट हो…

2 days ago

झारखंड के लातेहार जिले में 7 लड़कियां की तालाब में डूबने से मौत, जानिये मामले से जुड़ी ज़रूरी बातें

झारखंड में एक प्रमुख त्योहार कर्मा पूजा के बाद लड़कियां तालाब में विसर्जन के लिए…

2 days ago

झारखंड: लातेहार जिले में कर्मा पूजा विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां तालाब में डूबी

झारखंड के लातेहार जिले के एक गांव में शनिवार को सात लड़कियां तालाब में डूब…

2 days ago

This website uses cookies.