यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स (UTIs ) क्या है – यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स (UTIs ) वह इन्फेक्शन्स होते हैं जो यूरिनरी ट्रैक के एक हिस्से को प्रभावित करते हैं। यह इन्फेक्शन बैक्टीरिया से होता है और पूरे विश्व में साल भर में 150 मिलियन लोग इससे प्रभावित होते हैं। यह पुरुषों के मुक़ाबले महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलता है और सबसे ज्यादा ये 16 से 35 साल की उम्र में होता है।
कमसेकम 50 से 60 प्रतिशत महिलाओं को जीवन में एक बार यह इन्फेक्शन (UTIs ) होता है।

कम  इन्फेक्शन्स  के लक्षण –

  • यूरिन करते समय जलन होना
  • प्यूबिक बोन के ऊपर या पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • बार बार यूरिन आना और जलन होना

ज्यादा  इन्फेक्शन्स के लक्षण –

  • बुखार
  • जी मिचलाना
  • उलटी होना

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स (UTIs ) होने के कारण (urinary tract infection kya hai) –

80-85 प्रतिशत Escherichia कोलाई (ई। कोलाई) के कारण होता है। बार-बार सेक्स करने से बार-बार होने वाले यूटीआई के मुख्य जोखिम कारणों में से एक है। यूटीआई का कारण बनने वाले बैक्टीरिया आमतौर पर मूत्रमार्ग के माध्यम से ब्लैडर में प्रवेश करते हैं, संक्रमण रक्त या लिम्फ के माध्यम से भी हो सकता है।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स (UTIs ) को रोकना –

  • प्रतिदिन 2 से 3 लीटर के आसपास बहुत सारे तरल पदार्थ पीना।
  • ऐसे गर्भनिरोधक विधि का उपयोग करें जिसमें शुक्राणुनाशक शामिल नहीं है क्योंकि यह लैक्टोबैसिली को मार सकता है, जो योनि में एक लाभदायक बैक्टीरिया है। लैक्टोबैसिली को मारने से , इ कोलाई को अंदर जाने में आसानी होती है।
  • सेक्स के तुरंत बाद पेशाब करना।
  • आवर्तक यूटीआई के लिए, दोनों प्रत्येक संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का एक छोटा कोर्स ले रहे हैं या दैनिक एंटीबायोटिक दवाओं का एक लंबा कोर्स प्रभावी है। यूटीआई के इलाज के लिए उपयोग किए जाने वाले एंटीबायोटिक्स लेना पुनरावृत्ति से निपटने का सबसे विश्वसनीय तरीका है।
  • शोध बताती हैं कि क्रैनबेरी जूस पीने से यूटीआई वाले लोगों की संख्या में कमी आती है।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स क्या है

Email us at connect@shethepeople.tv