Ways To Strengthen Your Relationship: अपने पार्टनर के साथ रिलेशनशिप स्ट्रांग कैसे बनाएं

Ways To Strengthen Your Relationship: अपने पार्टनर के साथ रिलेशनशिप स्ट्रांग कैसे बनाएं Ways To Strengthen Your Relationship: अपने पार्टनर के साथ रिलेशनशिप स्ट्रांग कैसे बनाएं

SheThePeople Team

31 Dec 2021


Ways To Strengthen Your Relationship: जब रिलेशनशिप स्ट्रांग होने लगता है, तो रिश्ते में सुकून, ख़ुशी अपने आप आ जाती है। रिश्ते खुद मजबूत नहीं होते, यह बनाएं जाते है, प्यार और सच्ची लगन के साथ। रिश्ते में प्यार हो तो सब कुछ मुमकिन है, बस उन्हें स्ट्रांग बनाने के लिए थोड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

Ways To Strengthen Your Relationship: अपने पार्टनर के साथ रिलेशनशिप स्ट्रांग करने के 5 तरीके


1. ट्रस्ट बनाएं


हर रिश्ते की बुनयाद विश्वास होता है। एक दूसरे पर विश्वास ही रिश्ते को आगे बढ़ाता है। सिर्फ़ यही नहीं संसार विश्वास पर चल रहा है। ऐसे में एक दूसरे पर ट्रस्ट ही रिश्ते को आगे बढ़ाता है, और मजबूत बनाता है। एक दूसरे की कहीं हुई बातों का यकीन करना ही एक मात्र माध्यम है।


2. एक दूसरे का सम्मान करें


दो व्यक्तियों की सोच, पसंद, न पसंद एक दूसरे से अलग होती है, ऐसे में उनकी इच्छाओं, फ़ैसले का सम्मान करना ज़्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है। आप भले ही क्लोस क्यों न हो पर जब तक आप एक दूसरे को सम्मान नहीं देते, एक दूसरे की चोइसस की समझकर कर रेस्पेक्ट नहीं करते, रिश्ता मजबूत नहीं बनता।


3. आपसी लड़ाईओ को तुरंत सुलझाना


अक्सर दो ख़्याल जब टकरा जाते है, तो लड़ाई होना लाज़मी है। ऐसे में एक दूसरों को ग़लत साबित करने की बजाय एक दूसरे को समझने की कोशिश करें। विचार अलग-अलग होने से कोई ग़लत साबित नहीं होता है। आपसी मतभेदो को तुरंत सुलझाने से, मन में किसी बात शंका न रहने पर रिश्ते में करवाहट नहीं आती।


4. पर्सनल स्पेस दें


व्यक्ति अपनी कुछ बातें अपने तक रखने में अच्छा महसूस करता है। काम करते समय उन्हें, शांति पसंद होती है, तो ऐसे में एक दूसरे को उनकी पर्सनल स्पेस देना न भूलें। जब व्यक्ति कम्फ़र्टेबल होने लगता है, तो रिश्ता और मज़बूत बनने लगता है। कभी कभी इंसान को ज़्यादा समय पार्टनर के साथ नहीं अपने साथ बिताना पसंद होता है।


5. अपनी बात भी रखे और उनकी भी सुनने


रिश्ते में दोनों की पूरी भागीदारी होती है। रिश्ता एक से नहीं दो से बनता है। ऐसे में अपनी बात रखते समय दूसरे के विचारों पर भी ध्यान दें। दूसरा क्या कह रहा है, उसकी भी सुने। अक्सर एक रिश्ते एक कम बोलता है, तो दूसरा ज़्यादा। ऐसे में दूसरे बात दब कर भी रह जाती है। जिससे रिश्ता कमज़ोर भी हो सकता है।


अनुशंसित लेख