क्या Green Tea है नुकसानदेह ? जानिए ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स

क्या Green Tea है नुकसानदेह ? जानिए ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स क्या Green Tea है नुकसानदेह ? जानिए ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स

SheThePeople Team

14 Aug 2021


क्या Green Tea है नुकसानदेह -आजकल ग्रीन टी पीना खूब फैशन में है और इसे पीने के ढेर सारे फायदे भी हैं। ग्रीन टी आपके मोटापे पर लगाम लगाती है, स्किन को चमकदार बनाने से लेकर पाचन क्रिया के लिए भी फायदेमंद साबित होती है। हालांकि इसे पीने के कई गंभीर नुकसान भी हैं। किसी भी चीज़ को ज्यादा मात्रा में करने से उसका साइड इफ़ेक्ट जरूर होता है।

क्या Green Tea है नुकसानदेह ? जानिए ग्रीन टी के 5 साइड इफेक्ट्स


1.कैफीन ओवरडोज़ और स्लीपिंग प्रॉब्लम

ग्रीन टी में कैफीन पाया जाता है जो हमारे शरीर में मेलाटोनिन हॉर्मोन्स को बढ़ने से रोकता है। मेलाटोनिन हॉर्मोन एक स्लीपिंग हॉर्मोन है जो नींद के लिए जरुरी होता है। ग्रीन टी से दिमाग और शरीर फोकस में रहता है। ज्यादातर स्टूडेंट्स ग्रीन टी का सेवन करते हैं अपना कंसंट्रेशन बढ़ने के लिए। लेकिन एक्सेस अमाउंट में ग्रीन टी पीने से स्लीपिंग प्रॉब्लम हो जाती है और बॉडी में कैफीने की मात्रा भी बढ़ जाती है , जो अच्छी बात नहीं।

2.एनीमिया और आयरन की कमी का खतरा

ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं , जो हमारे शरीर में आयरन के अब्सॉर्ब्शन को रोकते हैं। इसका मतलब आयरनयुक्त चीज़ों से होने वाले नुट्रिएंट सप्लाई को ग्रीन टी रोक देता है। जिससे इंसान में आयरन की कमी हो जाती है। एक एनालिसिस में सामने आया है कि आयरन की कमी या एनीमिया से ग्रसित लोगों में ग्रीन टी के साइड इफ़ेक्ट काफी खतरनाक साबित हुए हैं।

3.घबराहट और चक्कर आना क्या Green Tea है नुकसानदेह

एक ओर कंसंट्रेशन और फोकस बढ़ाने के लिए ग्रीन टी लाभकारी है और मेटाबोलिज्म को भी फ़ास्ट करती है ,लेकिन ज्यादा अमाउंट में ग्रीन टी से चक्कर आने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन ब्लड सप्लाई को ब्रेन और नर्वस सिस्टम तक जाने से रोक देता है , जिससे मोशन सिकनेस की प्रॉब्लम हो सकती है। ऐसी सिचुएशन में सर चकराना, हाथ पेर का होश ना रहना , घबराहट और बेचैनी हो सकती है।

4.लिवर डिजीज से हो सकते हैं परेशान

ग्रीन में मौजूद सुप्प्लेंमेंट्स का या ग्रीन टी का जरुरत से ज्यादा कंसम्पशन लिवर फंक्शन को बुरी तरह डैमेज कर देता है और कई तरह के लिवर डिजीज का खतरा भी बना रहता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि कैफीन के कारण ही लिवर फंक्शन पर असर पड़ता है। ग्रीन टी के लिवर पर साइड इफ़ेक्ट को काम या खत्म करने के लिए रोजाना 4-5 कप ग्रीन टी से ज्यादा ना पिए।

5.प्रेगनेंसी में ग्रीन टी है रिस्की

प्रेग्नेंट महिलाओं को ग्रीन टी पीने से मना किया जाता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक दिन में 2 कप से ज्यादा ग्रीन टी प्रेगनेंसी में नुकसानदायक है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन और एंटीऑक्सिडेंट्स से miscarriage का खतरा होता है। वही न्यू मॉम्स को भी ग्रीन टी से दूर रहना चाहिए। ब्रेस्टफीडिंग करने वाली महिलाओं के बच्चों में दूध के जरिये कैफीन पहुँचता है , जो नवजात बच्चे के लिए नुकसानदेह है।


Disclaimer: यह सार्वजनिक रूप से एकत्रित जानकारी है। यदि आपको किसी विशिष्ट सलाह की आवश्यकता है तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें।

अनुशंसित लेख