पेरिमेनोपॉज का अर्थ – मेनोपॉज के आसपास का समय होता है। इस दौरान महिला का शरीर प्राकृतिक रूप से मेनोपॉज के लिए तैयार हो रहा होता है। पेरिमेनोपॉज को मेनोपॉज ट्रांजिशन (menopause transition) भी कहा जाता है। इस दौरान शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल (hormonal) बदलाव आते हैं। और शरीर में एस्ट्रोजन (estrogen) हॉर्मोन का स्तर बढ़ता और घटता रहता है। साथ ही, मासिक धर्म की अवधि भी लंबी या छोटी हो सकती है। Perimenopause in hindi

image

कई हद तक पेरिमेनोपॉज महिलाओं में सामान्य होता है। यदि फिर भी आप पेरिमेनोपॉज को लेकर चिंतित हैं तो नीचे इससे जुड़ी बाकी जानकारी जरूर पढ़ें।

पेरिमेनोपॉज से जुड़ी जरूरी बातें । Perimenopause in hindi

  • पेरिमेनोपॉज में ओवयुलेशन (ovulation) काफी अप्रत्याशित हो सकता है। पीरियड्स के बीच का अंतराल लंबा या छोटा हो सकता है।
  • पीरियड्स हल्के या हैवी हो सकते हैं। संभव है कि पीरियड्स स्किप भी हो जाएं।
  • पेरिमेनोपॉज के दौरान मूड स्विंग (mood swings) , डिप्रेशन (depression) , चिड़चिड़ापन बढ़ सकता है। शरीर में अचानक आने वाली गर्माहट की वजह से नींद में बाधा पड़ती है, जिसकी वजह से नींद खराब हो जाती है।
  • पेरिमेनोपॉज के दौरान लापरवाह हो, सेक्स के समय कॉन्डम (condom) लगाना न छोड़ें। जब तक 12 महीनों तक पीरियड्स आना बंद नहीं हो जाते, तबतक गर्भधारण से बचने के लिए कॉन्डम का इस्तेमाल जरूरी है।
  • पेरिमेनोपॉज के दौरान अचानक से गर्माहट का अहसास होना सामान्य बात है। इसकी तीव्रता, लंबाई भिन्न हो सकती है। पेरिमेनोपॉज के दौरान अचानक से बॉडी में गर्माहट होने की वजह से नींद में समस्या आती है। इससे आपको रात में पसीना भी आ सकता है।
  • यदि लगातार सात दिनों तक पीरियड्स में बदलाव रहता है या मासिक धर्म का साइकिल लंबा चलता है तो महिला जल्दी पेरिमेनोपॉज में पहुंच जाती हैं। यदि इसमें 60 दिनों का अंतराल या पीरियड्स के बीच इससे अधिक गैप होता है तो पेरिमेनोपॉज देर से आता है।
  • मेनोपॉज़ के लक्षणों में से एक बेहद ही स्टॉन्ग लक्षण होता है योनी में ड्राईनेस (vaginal dryness)। असल में इस दौरान एस्‍ट्रोजन हॉर्मोन कम होने लगते हैं, जिससे योनि के ऊतक पतले हो जाते हैं, जिससे सूखापन आ सकता है।
Email us at connect@shethepeople.tv