प्रीइजैक्युलेशन (pre ejaculation) जिसको कभी-कभी प्रीकम भी कहते हैं , यह एक साफ़ फ्लूइड (clean fluid) होता है जो एक पुरुष के असल इजैक्युलेशन (ejaculation) से पहले रिलीज़ करता है। कभी-कभी , ये Penis की टिप पे भी दिखाई देता है, लेकिन पुरुष इस पर इतना ध्यान नहीं देते। ये फ्लूइड मटर के आकार के ग्लांड्स की एक जोड़े द्वारा प्रोड्यूस किया जाता हैं। उसे Cowper’s glands कहा जाता है , जो urethra के पास होती है। इसको डिटेल में पढ़ने के लिए आइये जानते हैं प्रीकम (Precum) क्या होता है और क्यों होता है :

प्रीकम (Precum) क्या होता है और क्यों होता है ?

1 प्रीकम फ्लूइड urethra में बचे हुए यूरिन का एसिड लेवल कम कर देता है , जिसकी वजह से स्पर्म पे कोई असर नहीं पड़ता और वो आसानी से फ्लो हो जाते हैं।

2. Sexual intercourse करते टाइम प्रीकम आना बहुत ही नार्मल होता है। प्रीकम अपने आप ही आता है (non voluntary) और इसमें पुरुष को भी नहीं पता चलता।

3. हालाँकि, प्रीकम टेस्ट्स (testes) से नहीं आता , लेकिन उसमे जीवित स्पर्म (live sperm) हो सकते हैं। रिसर्च में पाया गया है कि अगर किसी इंसान ने पहले Sexual intercourse किया हो , तो प्रीकम urethra में बचे हुए सीमेन के अंदर स्पर्म हो सकते हैं।

क्या प्रीकम से प्रेग्नेंट होने का खतरा बढ़ सकता है ?

1. जी हाँ, प्रीकम से प्रेग्नेंट होने का खतरा काफी बढ़ जाता हैं।

2. अगर इंटरकोर्स करते टाइम प्रीकम वजाइना में चला जाये तो ये प्रेगनेंसी का कारण भी बन सकती है। कंडोम (Condom) का यूज़ करने से प्रेगनेंसी से बचा जा सकता हैं।

3. हालाँकि, प्रीकम से प्रेग्नेंट होने की सम्भावना कम होती है , लेकिन फिर भी ये पॉसिबल तो है ही। एक स्टडी में 41 % पुरुषों में वो प्रीकम था जिसमे जीवित स्पर्म (live sperm) थे जो चल भी रहे थे। इसका मतलब कि स्पर्म फॉलोपियन ट्यूब (fallopian tube) तक पहुँच सकता है जिसकी वजह से एग फर्टिलाइज हो सकता हैं।

4. अगर आप प्रेग्नेंट होने का नहीं सोच रहे तो, पुल- आउट मेथड को ना ही प्रेफ़र करे।आपके बिना जाने भी आपका स्पर्म आपकी पार्टनर की वजाइना में जा सकता है। 2017 की एक स्टडी में पाया गया कि 20 % पुल- आउट मेथड फेल ही होता है , जबकि condom में इसका परसेंटेज 13 और हार्मोनल बर्थ कण्ट्रोल पिल में 6 हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv