प्रेगनेंसी के बाद का समय नई माँ के लिए काफी मुश्किल समय हो सकता है। उसके शरीर में होने वाले बदलावों के लिए कमजोरी महसूस करना, वजन बढ़ना और हार्मोनल चेंजेस जैसे बदलाव जो माँ को मानसिक रूप से भी प्रभावित करते हैं। वजन कम करने के लिए माताओं की अपेक्षा करना बहुत सामान्य है, और डिलीवरी के बाद भी, कुछ किलो हैं जो आप कम करना चाहती है। डॉक्टर सलाह देते हैं कि मोटापे की समस्या से बचने के लिए आप जल्द ही अपने एक्स्ट्रा वेट को कम करें।

image

वजन कम न करें क्योंकि आप चाहते हैं कि आप अपने पुराने कपड़ों में दोबारा फिट हो जाएं, पर इसलिए अपना वज़न काम करें क्योंकि यह ज़्यादा वजन आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है।

आज जानिये पोस्ट -प्रेगनेंसी वेट को कम कैसे करे

डाइटिंग से बचें

यह सोचने में अजीब लग सकता है पर यह सच है। माताओं को पहले से ही अपनी नई ज़िम्मेदारियों से डरा दिया जाता है और डाइटिंग करने से तनाव बढ़ता है। यह तनाव वास्तव में अधिक वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। आप जो कुछ भी कर सकते हैं, वह अपने लिए एक स्वस्थ भोजन योजना तैयार करें और भूखे रहने से बचने के लिए रेग्युलर टाइम पर खाएं। एक बैलेंस डाइट आपको अपने वजन घटाने की जर्नी में भी मदद करती है।

और पढ़ें: कोरोनावायरस में प्रेगनेंसी : कुछ बातें जो महिलाओं को पता होनी चाहिए

ब्रेस्टफीडिंग

यह अभी भी एक बहस है कि क्या ब्रेस्टफीडिंग वजन घटाने में मदद करता है, लेकिन कुछ डॉक्टरों का मानना ​​है कि यह वास्तव में मदद करता है। यह न केवल मां के लिए अच्छा है, बल्कि बच्चे को तेजी से बढ़ने में मदद करता है। ब्रैस्टमिल्क  में कई पोषक तत्व और विटामिन होते हैं जो नवजात शिशु के डेवेलोपमेंट में मदद करते हैं। यह एक और कारण है जो डॉक्टरों ने नई माताओं को वजन कम करने की सलाह दी है ताकि भविष्य में ये एक्स्ट्रा वेट उसे और उसके बच्चे को दूसरी प्रेगनेंसी में एफेक्ट न करें। इसके अलावा, नवजात शिशु को आपके एक्स्ट्रा वेट के कारण खतरा हो सकता है।

फिजिकल एक्ससेरसाइज

फिजिकल एक्ससेरसाइज किसी भी तरह का वजन कम करने के लिए काफी आसान तरीका है। फिजिकल एक्ससेरसाइज न केवल वजन घटाने के लिए बल्कि स्वस्थ दिमाग रखने के लिए भी महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आप उन अभ्यासों में भाग ले रहे हैं जो आपको वजन कम करने में मदद करेंगे और आपके शरीर को मजबूत भी बनाएंगे।

सुपर फूड्स” का सेवन करें

यह आवश्यक है कि नई माँ के आहार में सिर्फ कार्बोहाइड्रेट और वसा के बजाय पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल हों। जंक फूड से बचना निश्चित रूप से उस एक्स्ट्रा वेट को काम करने की प्रक्रिया में मदद करेगा। सालमोन, सार्डिन, दूध और दही कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए। मछली ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर होती है जो बच्चे की मदद भी करती है। हड्डियों को मजबूत बनाए रखने के लिए डेयरी उत्पादों में पाया जाने वाला कैल्शियम आवश्यक है।

किसी भी स्ट्रिक्ट डाइट या एक्ससेर साइज  से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें और यह सुनिश्चित करें कि आप अपने शरीर को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहे हैं।

और पढ़ें: प्रेगनेंसी के लिए ये पाँच चीज़ें होतीं हैं मानो वरदान!

Email us at connect@shethepeople.tv