हमारे देश में लड़को को हमेशा ही घर का राजा बेटा बनाकर रखा जाता है। ये काम खास कर लड़के की माँ करती हैं। आप सोच रहे होंगे की राजा बेटा बनाने में नुकसान क्या ? उनको राजा बेटा बनाने से आप उनकी गलतियां ढंकते जाते हैं। इस से वो और ज्यादा बिगड़ते जाते हैं और महिलाओं के प्रति उनका व्यव्हार अच्छा नहीं रहता है। इसलिए आज हम आपको बताएंगे लड़के को ” राजा बेटा ” बनाकर रखने के नुकसान के बारे में –

1. बेटे को गलती समझ नहीं आ पाती

कई माँ जब उनका बेटा गलती करता है तो उसको मानती ही नहीं हैं। उनको लगता है उनका बेटा तो बहुत सीधा है और उसने दूसरे की बातों में आकर गलती की होगी। एक्टर रतना पाठक ने कहा है कि “क्यों हम अपने लड़के को इतना बुरा बर्ताव करने देते हैं ये हमारा केसा प्यार है “?

2.रिलेशनशिप में प्रॉब्लम आना

जब ये राजा बेटा शादी करते हैं या रिलेशनशिप में आते हैं तो इनका व्यव्हार ऐसा ही रहता है जिस के कारण इनकी गर्लफ्रेंड और वाइफ को इनको चीज़ें सिखानी पड़ती हैं जिसके कारण कभी कभी रिलेशनशिप ख़राब भी हो जाता है।

3. वायलेंस – ” राजा बेटा ” के नुकसान

भारत में 31 प्रतिशत वाइफ शारीरिक, सेक्सुअल और इमोशनल वायलेंस का सामना करती हैं। ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि लड़को को आदत हो जाती है कि जैसे उनकी माँ उनके लिए हमेशा सैक्रिफाइस करती आयी है उनकी वाइफ भी करेंगी। इनको आदत होती है कि वाइफ सारे काम करेंगी, किचन सम्हालेगी और इनकी खुद कि कोई लाइफ नहीं हो सकती है।

4. महिलाओं पर कसूर डालना

राजा बेटा को खुद की गलती ना मानने की आदत हो जाती है। जब कोई वाइफ डाइवोर्स लेने का सोचती है या उसे उसके हस्बैंड से कुछ दिक्कत होती है तो हर कोई वाइफ में ही कमिया ढूंढने लगता है। सब यही सोचते हैं कि वाइफ की ही गलती होगी।

Email us at connect@shethepeople.tv