Sex Education: आज के ज़माने में बच्चे को सेक्स एजुकेशन देना क्यों ज़रूरी है?

Published by
Yasmin Ansari

सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है ? हमारी सोसाइटी में लोगो का मानना है कि सेक्स एजुकेशन देने की ज़िम्मेदारी सिर्फ़ पेरेंट्स की हैं , लेकिन ऐसा नहीं हैं। सेक्स एजुकेशन के लिए हमे प्रॉपर चैनल की ज़रूरत होती हैं। बच्चे सिर्फ़ पेरेंट्स के पास नहीं रहते ,वो स्कूल , रिश्तेदार, दोस्त सबसे इंटरैक्ट करते हैं। इसलिए उन्हें सेक्स के बारे में सही एजुकेशन देने की ज़िम्मेदारी पूरे समाज की हैं। 

सेक्स एजुकेशन किसे कहते है ?

क्या आपको पता हैं सेक्स एजुकेशन होता क्या हैं ?सेक्स एजुकेशन का मतलब सिर्फ़ “सेक्स” से नहीं है, बल्कि इसका कनेक्शन आपके सेक्सशुअल हेल्थ और सेक्सशुअल प्रोब्लेम्स के साथ भी हैं। कम जानकारी की वजह से बहुत से लोगों को सेक्सशुअल प्रोब्लेम्स फेस करनी पड़ती है। जबकि बॉडी के बाकी parts की तरह सेक्सशुअल हेल्थ भी हमारी हेल्थ को इफ़ेक्ट करती हैं।

सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है?

सेक्सशुअल हेल्थ सिर्फ़ हेल्थ रिलेटेड इशू नहीं हैं

सेक्स एजुकेशन बचपन से ही मिलनी चाहिए। इससे टीनएजर बच्चे गुड और बेड रिलेशन की पहचान , इंटिमेसी , attitude की इम्पोर्टेंस को समझते हैं। World Health Organization ने सेक्सशुअल हेल्थ को ना केवल हेल्थ रिलेटेड इशू बताया हैं , बल्कि सेक्सशुअल हेल्थ को फिजिकल, इमोशनल, मैन्टल और सोशल एस्पेक्ट्स से रिलेटेड भी बताया हैं।

चाइल्ड सेक्सशुअल एब्यूज को कम किया जा सकता हैं

सेक्स एजुकेशन ना मिलने के कारण छोटे बच्चो को पता ही नहीं होता के उनके साथ जो हो रहा हैं वो गलत हैं। Department of Women and Child Development के अकॉर्डिंग करीब 53% बच्चे चाइल्ड एब्यूज का शिकार होते हैं। अगर उन्हें स्कूल और पेरेंट्स द्वारा गुड टच बैड टच के बारे में बताये , धीरे – धीरे सेक्स एजुकेशन दे ,तो ऐसी प्रोब्लेम्स को कम किया जा सकता हैं।

Menstrual cycle के बारे में अंडरस्टैंडिंग

लड़कों और लड़कियों दोनों को menstrual cycle के बारे में समझने की जरूरत है। ताकि लड़कियां इसे नेचुरल चेंज के रूप में एक्सेप्ट कर सकें और लड़को को बताना इसलिए ज़रूरी हैं ताकि वो पीरियड्स का मज़ाक उड़ाने के बजाये लड़कियों के प्रति सिम्पथी, सेंसिटिविटी और केयर करे। सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है

sexual diseases के बारे में अवेयर करता है

सेक्स के बारे में अवेयरनेस फैलाने से sexual diseases  जैसे HIV से बचा जा सकता हैं। WHO के अनुसार, दुनिया में 12 से 19 वर्ष की एज ग्रुप के 34 प्रतिशत लोग HIV से संक्रमित है। सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है

सेक्स एजुकेशन यूथ को रेस्पोंसिबल बनाता है

सेक्स एजुकेशन यूथ को रेस्पोंसिबल बनाता है ,सेफ सेक्स को बढ़ावा मिलता है। वो उत्सुकता में सेक्स करने के बजाये उससे होने वाले पॉसिबल आउटकम के बारे में सोचते हैं। इस अवेयरनेस की वजह से उन्हें किसी नेगेटिव सिचुएशन को फेस नहीं करना पड़ता।

रेप जैसे सीरियस क्राइम को रोकने में मदद मिलेगी

रेप , ज़बरदस्ती सेक्सशुअल रिलेशन बनाना जैसी प्रॉब्लम का बहुत बड़ा कारण सेक्स एजुकेशन का ना मिलना हैं। अगर बच्चो को शुरू से ही सेक्स के लिए ठीक नॉलेज मिलेगी तो ऐसे घिनौने जुर्म काफी हद तक कम हो सकते हैं।

सेक्स एजुकेशन सिर्फ़ फैमिली नहीं दे सकती।  इसके लिए फैमिली , स्कूल , रिलेटिव सबको पहल करनी होगी। सोसाइटी को ओपन होना होगा।स्कूलों में सेक्स एजुकेशन के टॉपिक पर खुल के बात करने की ज़रूरत हैं, भारतीय परिवारों को ये समझने की ज़रूरत हैं की इस बारे में बात करना संस्कारो के खिलाफ बिल्कुल नहीं हैं। इन कारणों की वजह से सेक्स एजुकेशन ज़रूरी है। सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है

 

 

Recent Posts

Tapsee Pannu & Shahrukh Khan Film: तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान कर रहे साथ में फिल्म “Donkey Flight”

इस फिल्म का नाम है "Donkey Flight" और इस में तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान…

2 days ago

Raj Kundra Porn Case: शिल्पा शेट्टी के पति ने कहा कि उन्हें “बलि का बकरा” बनाया जा रहा है

पोर्न रैकेट चलाने के मामले में बिज़नेसमैन राज कुंद्रा ने शनिवार को एक अदालत में…

2 days ago

हैवी पीरियड्स को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी, जाने क्या हैं इसके खतरे

कई बार महिलाओं में पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो से काफी सारा खून वेस्ट हो…

2 days ago

झारखंड के लातेहार जिले में 7 लड़कियां की तालाब में डूबने से मौत, जानिये मामले से जुड़ी ज़रूरी बातें

झारखंड में एक प्रमुख त्योहार कर्मा पूजा के बाद लड़कियां तालाब में विसर्जन के लिए…

2 days ago

झारखंड: लातेहार जिले में कर्मा पूजा विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां तालाब में डूबी

झारखंड के लातेहार जिले के एक गांव में शनिवार को सात लड़कियां तालाब में डूब…

2 days ago

This website uses cookies.