भारतीय समाज में एक सिंगल लड़की का अकेले रहना एक नामुमकिन सी बात है । लोग हर वक़्त उसे जज करेंगे, उसे अपनी उम्मीदों पे खरे उतरने के लिए मजबूर करेंगे और लगातार आपको शादी करके किसी के साथ रहने के लिए मजबूर करेंगे । भारत जैसे देश में लोगों की सिंगल लड़की को लेकर बहुत ही अजीब राय है । लोगों को लगता है सिंगल लड़कियों का कोई करैक्टर नहीं होता और वो बहुत ज़्यादा बिगड़ी हुई होती हैं । लगातार उनके कपड़ों और रहन-सहन के तरीके को क्रिटिसाइज किया जाता है ।

image

अगर आप एक सिंगल वुमन हैं तो आपके घर से आने और जाने के समय पर नज़र राखी जायेगी और तो और आपके कपड़ों पर तो बहुत ही ज़्यादा ध्यान रखा जाएगा। आप किससे मिलती हैं यह तो लोगों की गॉसिप का मैन टॉपिक होगा । लोग आपसे उम्मीद रखेंगे की आप एक वेल बेहवड और मोरल वैल्यूज से भरी हुई लड़की हों, पर क्यों ?

अक्सर सिंगल लड़की जो इंडिपेंडेंट है और अपनी शर्तों पर ज़िन्दगी जीती है उसे उसके पड़ोसियों और रिश्तेदारों की और से अक्सर यह पूछा जाता है की वो अपनी लाइफ में सेटल कब होगी ? क्या एक लड़की जो अपने खर्चे उठाना जानती है, कमाना जानती है और अपनी सभी ज़रूरतों का ख्याल रख सकती है क्या वो सेटल नहीं है ? क्यों सेटल होने के लिए शादी नाम का ठप्पा ज़रूरी है ?

सिंगल वीमेन होने के नाते आपसे हर समय मौरली करेक्ट होने की उम्मीद रखी जाती है

कुछ ज़रूरी फैक्ट्स

फैक्ट यह है की किसी भी महिला के लिए अपने लाइफस्टाइल के लिए किसी को जवाब देना ज़रूरी नहीं है. वह पार्टी कर सकती है अगर वो चाहती है, वह जो चाहे पहन सकती है, और वह प्यार, मातृत्व कुछ भी फील कर सकती है । वो हर वो काम कर सकती है जो वो करना चाहती है या उसे ख़ुशी देती है। शादी करना या न करना और कब करना, प्यार करना है या नहीं और किससे, सिंगल पैरेंट बनना है या एक पेट को अपनाना है, ये सभी सिर्फ उसके फैसले हैं जो उसके जीवन को शेप दे सकते हैं, और वो जो चाहे वो कर सकती है।

Email us at connect@shethepeople.tv