Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच? Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

SheThePeople Team

05 Aug 2021


स्लट शेमिंग बहुत आम बात है-





इंडिया में स्लट शेमिंग - स्लट शेमिंग (Slut Shaming) क्यों है आम बात  इंडिया में, उनकी छोटी सोच की वहज से? या फिर उन्हें लगता है की छोटे कपड़ों की वजह से रेप जैसे हादसे होते है। ऐसा कहकर वो अपनी घटिया सोच को ना ही केवल उचित सिद्ध करना चाहते है बल्कि रेप जैसे अपराध का समर्थन भी कर रहे है। हर लड़की को, महिला को अधिकार है अपने पसंद के कपड़े पहनने का  बिना किसी की अनुमति के, मगर हकीकत तो ये है की रेप जैसे घिनौने अपराध बुरखे में, सूट,60 साल की बुजुर्ग महिला और यहां तक कि 6 महीने या 3 साल की बच्चियों तक के  भी होते है। जो इन सब से परे है जिसने अभी दुनिया नही देखी वो खुद इन सबका शिकार बन जाते है।





इंडिया में स्लट शेमिंग





सब अपने पसंद के कपड़े पहनते है। फिर क्यों जब बात लड़कियों पर आती है तो ये सब आम हो जाता है क्यो लोग इसे नजरंदाज कर देते है मानो कुछ हुआ ही ना हो।





लड़कियों को क्या पहनना चाहिए क्या नही, ये सब हमें कोई और क्यो बताए। मेट्रो में, पब्लिक बसों में और हर जगह लड़कियों को घूरा जाता हैं, उन्हे जगह बदलनी पड़ जाती हैं।





स्लट शेमिंग क्यों है आम बात इसकी वजह से की वजह से आज कल सोशल मीडिया में भी कोई भी एक्ट्रेस या इनफ्लुएंसर जब अपनी फोटो पोस्ट करते है तो कॉमेंट सैक्शन सारी नकारात्मकता से भर जाता है, उनके चरित्र पर सवाल उठाया जाता है, उनके पहनावे पर उन्हें गालियां भी दी जाती है। इंडिया में स्लट शेमिंग  इंडिया में स्लट शेमिंग 







स्लट शेमिंग क्यों है आम बात आख़िर कब बदलेगी लोगो सोच ?

सोच बदलने का सिसिला घर से शुरू होता है। अगर हम घर पर ही लड़को से सवाल करें बजाएं लड़की को ये कहने की पूरा ढके हुए कपड़े पहन कर बाहर जाओ, या फिर किसी बड़े के साथ बाहर जाओ। लड़कों को सिखाना ज़रूरी है, किसी भी लड़की या महिला की इज़्ज़त कैसे करनी है । बाहर, घर या ऑफिस कहीं भी अगर कोई मिले जो किसी लड़की के पहनावे पर कॉमेंट कर रहा हो, उसे वही विरोध करना । समान रूप से लड़कियां या महिला को सहयोग देना और आवाज़ उठाना स्लट शेमिंग के खिलाफ़।

 

अनुशंसित लेख