क्या शर्म हमारा गहना है ? हमारी इंडियन सोसाइटी में शर्म और चुप रहना एक अच्छी लड़की होने के गुड़ माने जातें हैं। हमारे यहां अगर कोई बड़ा कुछ गलत भी कह रहा हो तो उसे चुप करके सुन्ना ही चाइए। क्या हमारी सोसाइटी में हमारे विचार और ओपिनियन कुछ मटर नहीं करते? चलिए आज बात करतें हैं शर्म के बारें में –

ऐसी विमेंस जो खुलकर अपनी बात को रखें हमारी सोसाइटी मे ख़राब विमेंस मानी जाती है। इसलिए जब मेंस और लोग कहते हैं की विमेंस को समझना मुश्किल ही नहीं ना मुमकिन है। ये कही ना कहीं इसी वजह से भी है क्योंकि ज्यादातर विमेंस तो शांत और चुप ही रहती हैं। जब कम्युनिकेशन ही नहीं होगा तो समझ कहा से होगी ?

क्या भारतीय महिलाएं शाय हैं ?

विमेंस का शाइनेस और साइलेंस का मतलब क्या है ? की वो कभी अपनी बात को रख नहीं सकती या फिर उनको क्या चाहिए ये कह नहीं सकती क्यूंकि हमारी सोसाइटी में मेंस का ओपिनियन ही मैटर करता है मेंस को शाय लडकियां ही पसंद आती हैं ये सब सिर्फ एक सोच जिससे आप तुरंत बाहर निकल आएं। भारतीय महिलाएं शाइनेस

शाइनेस के फायदे भी होते है क्योंकि शाइनेस मतलब है आप जो भी बोलते हो वो बहुत सोच और समझकर बोलते है जो की एक अच्छी पर्सनालिटी की निशानी है। शाय होने का मतलब है आप के अंदर ज्यादा धीरज है और अंडरस्टैंडिंग है और आप फ्रेंडली हैं। इसको आप कई चीज़ों मे इस्तेमाल कर सकतें है जैसे की रिलेशनशिप्स मेन्टेन करने में।

कितनी शयनेस ठीक है ?

शाइनेस की भी एक लिमिट होती है। अगर आप आपका पॉइंट नहीं रख रहे हो, आपके अचीवमेंट्स दबा रहे हो और अपने काम को बढ़ावा नहीं दे रहे तो फिर वो एक गलत बात हो जाती है। इसलिए ध्यान रखें की आप लिमिट तो क्रॉस नहीं कर रहे हैं और अपने आपको पीछे तो नहीं कर रहे हैं। भारतीय महिलाएं शाइनेस

Email us at connect@shethepeople.tv