Advertisment

Pride Month: जानिए भारत की पहली लिखित Lesbian Marriage की कहानी

1987 में, मध्य प्रदेश पुलिस बल की दो महिला पुलिसकर्मियों उर्मिला श्रीवास्तव और लीला नामदेव ने भारत में विवाह करने वाली पहली लिखित समलैंगिक जोड़ी बनकर इतिहास रच दिया।

author-image
Priya Singh
New Update
The story of India's first Documented lesbian marriage

(Image Credit: fiftytwo)

The story of India's first Documented lesbian marriage: 1987 में, मध्य प्रदेश पुलिस बल की दो महिला पुलिसकर्मियों उर्मिला श्रीवास्तव और लीला नामदेव (Urmila Shrivastava and Leela Namdev) ने भारत में विवाह करने वाली पहली लिखित समलैंगिक जोड़ी बनकर इतिहास रच दिया। गंधर्व अनुष्ठान - एक पारंपरिक हिंदू समारोह - के माध्यम से उनके मिलन में कुछ करीबी दोस्तों और परिवार के सदस्यों की उपस्थिति में उन्हें एक-दूसरे को माला पहनाते हुए देखा गया। यह छोटा लेकिन महत्वपूर्ण समारोह भारत में LGBTQIA+ अधिकारों के इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण था।

Advertisment

Pride Month: जानिए भारत की पहली लिखित Lesbian Marriage की कहानी

उर्मिला और लीला की शादी लंबे समय तक एक निजी मामला नहीं रही। 24 फरवरी, 1988 को, उनकी शादी की तस्वीरें सनसनीखेज शीर्षक "लेस्बियन कॉप्स" के तहत पहले पन्नों पर छपीं। यह खुलासा तब हुआ जब एक साथी कैडेट ने उनकी शादी की तस्वीरें एक पर्यवेक्षक अधिकारी को दिखाईं, जिसने फिर जोड़े के खिलाफ कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी। उर्मिला और लीला को उत्पीड़न, धमकियों और यातनाओं का सामना करना पड़ा, जिसके कारण अंततः उन्हें पुलिस बल से बर्खास्त कर दिया गया।

LGBTQIA+ आंदोलन के लिए बदलाव की उत्प्रेरक

Advertisment

कड़ी प्रतिक्रिया के बावजूद, उर्मिला और लीला की बहादुरी ने भारत में LGBTQIA+ समुदाय के भीतर एक चिंगारी जलाई। उनकी शादी LGBTQIA+ अधिकारों के लिए लड़ने वाले कार्यकर्ताओं के लिए एक रैली बिंदु बन गई, जिसने समलैंगिक जोड़ों द्वारा सामना किए जाने वाले संघर्षों और भेदभाव को उजागर किया। हालाँकि, आंदोलन के बाहर, कई संशयवादियों ने उनके मिलन को खारिज कर दिया, उनके रिश्ते को पश्चिमी संस्कृति के प्रभाव के लिए जिम्मेदार ठहराया, एक ऐसी धारणा जिसने उन्हें और अधिक हाशिए पर डाल दिया और कलंकित कर दिया।

अदालती लड़ाई और गलतफहमियाँ

उर्मिला और लीला "लेस्बियन" शब्द से खुद को नहीं जोड़ती थीं, एक ऐसा लेबल जो मीडिया और समाज द्वारा उन पर थोपा गया था। बर्खास्तगी के बाद उनकी प्राथमिक चिंता उनकी भविष्य की आय और आजीविका के लिए खतरा थी। परिणामस्वरूप, उन्होंने न्याय और बहाली की मांग करते हुए अपना मामला अदालत में पेश किया। उनकी कहानी को अक्सर गलत समझा जाता है और गलत तरीके से पेश किया जाता है।

Advertisment

उर्मिला और लीला की कहानी के केंद्र में एक साथ रहने की एक साधारण इच्छा थी। उनके लिए, विवाह उनकी प्रतिबद्धता और प्रेम की स्वाभाविक प्रगति थी। निंदा और समर्थन दोनों से भरी उनकी उम्मीद भरी कहानी, उनके साहस और भारत में समलैंगिक संबंधों की विकसित होती समझ का प्रमाण है।

विरासत और निरंतर प्रासंगिकता

उर्मिला और लीला के अनुभवों को माया शर्मा की पुस्तक "लविंग वीमेन" में सावधानीपूर्वक प्रलेखित और विश्लेषित किया गया है। उनकी कहानी भारत में LGBTQIA+ अधिकारों के लिए चल रही लड़ाई में एक महत्वपूर्ण अध्याय बनी हुई है, जो समलैंगिक जोड़ों द्वारा सामना किए जाने वाले व्यक्तिगत और सामूहिक संघर्षों की याद दिलाती है। प्रतिकूलताओं के बावजूद उनका मिलन LGBTQIA+ समुदाय और उसके सहयोगियों को समानता और स्वीकृति की खोज में प्रेरित करता है।

Urmila Shrivastava and Leela Namdev India's first Documented lesbian marriage Lesbian Marriage Pride Month
Advertisment