Advertisment

Monisha Chhabra: जानिए मोनिशा का सैलून से सशक्तिकरण तक का सफर

1980 के दशक में समाज की रूढ़ियों को तोड़ते हुए ब्यूटी सैलून खोलने वाली मोनिशा जी की कहानी पढ़ें। जानें उनके संघर्षों, "मोनालिसा इंस्टीट्यूट ऑफ ब्यूटी कल्चर" के जरिए महिला सशक्तिकरण के प्रयासों और कैसे उन्होंने हजारों महिलाओं का जीवन संवारा।

author-image
Vaishali Garg
एडिट
New Update
Nisha Chhabra

Monisha Chhabra Interview: 1980 का दशक, वह दौर जब महिलाओं के लिए सजना-संवरना सामाजिक बंधनों में जकड़ा हुआ था। ऐसे वातावरण में मोनिशा छाबड़ा जी का नाम एक प्रेरणा बनकर उभरता है। आज हम उन्हीं निशा छाबड़ा के बारे में बात कर रहे हैं, जिन्होंने उस वक्त देश के एक कोने में पहला ब्यूटी सैलून खोला और फिर "मोनालिसा इंस्टीट्यूट ऑफ ब्यूटी कल्चर" की स्थापना कर हजारों महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का बीड़ा उठाया। 

Advertisment

इस संस्थान के माध्यम से उन्होंने न सिर्फ महिलाओं को सौंदर्य का कौशल सिखाया बल्कि उन्हें आत्मविश्वास और आर्थिक आजादी भी दिलाई। टूटे परिवारों से ताल्लुक रखने वाली कई महिलाएं उनके संस्थान से निकलकर न सिर्फ सफल व्यवसायी बनीं बल्कि उन्होंने अपना खुद का सैलून खोला, गाड़ी खरीदी और अपने सपनों को साकार किया। मोनिशा जी की कहानी उद्यमशीलता और सामाजिक सरोकार का एक अद्भुत संगम है। आइए जानते हैं मोनिशा जी के इस प्रेरक सफर के बारे में, जहां उन्होंने चुनौतियों का सामना किया, समाज की रूढ़ियों को तोड़ा और एक सफल उद्यमी बनकर उभरीं। 

जानिए मोनिशा का सैलून से सशक्तिकरण तक का सफर

आपने 1980 में एक सैलून खोला था, ऐसे समय में जब बहुत कम महिलाएं काम करती थीं, उद्यमिता की बात तो दूर थी। आपको सैलून खोलने की प्रेरणा कहाँ से मिली? 

Advertisment

मैं मूल रूप से मुंबई से हूं और एक रेडियो कलाकार भी थी। मुझे पढ़ने का भी बहुत शौक था। मैंने लंबे समय तक मुंबई के सिद्दार्थ कॉलेज से लाइब्रेरी साइंस की पढ़ाई की और अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए लाइब्रेरियन के रूप में भी काम किया। मेरे भी बड़े सपने थे; मैं कुछ हासिल करना चाहती थी, लेकिन फिर मेरी शादी हो गई और मैं उज्जैन के छोटे से शहर में रहने लगी। बच्चों की देखभाल करने में मेरा पूरा समय लग जाता था और मेरे सपने कहीं खो से गए। मैं सिर्फ परिवार संभालने में व्यस्त थी और अपने लिए कुछ करने के बारे में सोचा भी नहीं।

मेरी जिंदगी में तब मोड़ आया जब मेरी शादी फिल्मों के हीरो माहिपाल से हुई। उनकी बेटी की शादी थी और मैं खुद को बिलकुल साधारण सी महसूस कर रही थी। मेकअप आर्टिस्ट ने उनकी खूबसूरती को इतना नाटकीय रूप से बदल दिया कि मैं दंग रह गई; मुझे एहसास हुआ कि यह भी एक कला है जो एक साधारण व्यक्ति को भी अद्भुत बना सकती है। यह देखकर मेरी ख्वाहिशें और जुनून फिर से जाग उठे। मुझे लगा कि मुझे भी कुछ करना चाहिए। इससे पहले मुझे ये भी नहीं पता था कि मुझमें ऐसी ख्वाहिश है या सिर्फ एक जुनून है। फिर मैंने इसके लिए प्रशिक्षण लेने का फैसला किया। मैंने अपने पति को इस बारे में बताया और उन्होंने मेरा समर्थन किया। इसके बाद, मैंने अपने छोटे बच्चों को छोड़कर छह महीने के लिए प्रशिक्षण के लिए मुंबई आ गई। इस घटना ने मुझे बहुत प्रोत्साहित किया।

शुरुआत से लेकर अब तक, आपके विकास को किन कारकों ने सबसे अधिक प्रभावित किया है?

Advertisment

ज्ञान, अच्छा काम, ईमानदारी और नई चीजों का इस्तेमाल करना हमारे विकास के लिए जरूरी है। मेरे पास छह महीने की बच्ची थी। मैंने उससे कहा कि मैं उसे आर्थिक रूप से सहायता नहीं दूंगी, लेकिन उसे यहाँ आना चाहिए, मुझसे काम सीखना चाहिए और पैसा कमाना चाहिए। यह उस चीज के लिए एक बीज था। उसने मेरे साथ काम सीखा और आज वह अपनी बेटी को कॉलेज भेज रही है। उसने कार खरीदी, अपना खुद का घर बनाया और आज वह बहुत खुश है। उस महिला को देखकर और महिलाओं के बारे में सोचकर मुझे लगता है कि हमें कुछ सीखना चाहिए और इसे अपना पेशा बनाने के लिए प्रशिक्षण पर भी विचार करना चाहिए। हम कम से कम थोड़े से पैसे से भी यह व्यवसाय चला सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं। इसके साथ ही हम आर्थिक रूप से सक्षम भी बन सकती हैं। कुछ महिलाएं भी हमारे पास प्रशिक्षण के लिए आईं, जिसने मेरे संस्थान की नींव रखी। मैंने एक NGO खोला जो उन महिलाओं के लिए है जो विकलांग, पिछड़ी हुई हैं या अपने पैरों पर खड़ा होना चाहती हैं। 

आपने हजारों महिलाओं को प्रशिक्षित किया है और उनके जीवन को संवारा है। आपके लिए यह पहल कितनी महत्वपूर्ण थी और आपको क्या प्रेरित करता रहा?

जीवन में जुनून कभी नहीं मरता। शुरुआत में मेरे पास बहुत सारे संसाधन नहीं थे, लेकिन अब मीडिया और विभिन्न अन्य संसाधनों के साथ, हम उन चीजों के बारे में अपडेट रह सकते हैं जिनके बारे में हम पहले नहीं जानते थे। मैं नई चीजें सीखना चाहती हूं। इसके साथ ही मैं अपने पार्लर को भी नए ट्रेंड्स के साथ अपडेट करती रहती हूं। मेरे पार्लर में हमेशा लेटेस्ट ट्रेंड सबसे पहले अपनाए जाते हैं। यह जुनून जीवन भर मेरे साथ रहेगा, जब तक मैं जिंदा हूं, यह जुनून मेरे साथ रहेगा। 

Advertisment

आज महिलाओं को पुरुषवादी व्यवस्था को हराने और परिवारों के अधिक खुले, जागरूक और सहायक बनने के मामले में आप क्या सकारात्मक बदलाव देख रही हैं?

आज महिलाएं हर क्षेत्र में सफलतापूर्वक अपना काम कर रही हैं। पहले यह माना जाता था कि महिलाएं घर पर रहेंगी और पुरुष काम करेंगे। महिलाएं घर का कामकाज संभालती थीं, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब महिलाएं बाहर निकल आई हैं और वे पुरुषवादी मानदंडों के खिलाफ भी खड़ी हो रही हैं और उनकी आवाज सुनी जा रही है। आज सबसे बड़ी बात यह है कि सरकार भी महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए नियम बना रही है। 

आपके विचार में हमारे समाज में अभी भी क्या बदलावों की आवश्यकता है ताकि महिलाओं के साथ समान और निष्पक्ष व्यवहार किया जा सके और पुरातन पितृसत्तात्मक प्रथाओं को खत्म किया जा सके?

Advertisment

आप ये नहीं कह सकतीं कि आपको कोई समर्थन नहीं मिला या आपको अपने परिवार का साथ नहीं मिला। आप वही करें जो आप करना चाहती हैं। जो कोई भी इसे करना चाहता है वह करेगा।

कवि दुष्यंत कुमार ने कहा है, "कौन कहता है आकाश में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तोड़कर मारो यारों, ज़ोर से।" 

मोनिशा जी की कहानी निष्कर्ष के तौर पर उनके दृढ़ संकल्प और महिलाओं के प्रति समर्पण को दर्शाती है। उनका मानना है कि सफलता के लिए समर्थन की प्रतीक्षा न करें, बल्कि खुद पहल करें। उनके शब्दों में, " आप वही करें जो आप करना चाहती हैं। जो कोई भी इसे करना चाहता है वह करेगा।"

मोनिशा जी का जीवन यह प्रमाण है कि उम्र केवल एक संख्या है। 85 साल की उम्र में भी उनका जुनून कम नहीं हुआ है। वह कहती हैं, "यह जुनून जीवन भर मेरे साथ रहेगा, जब तक मैं जिंदा हूं, यह जुनून मेरे साथ रहेगा।"

मोनिशा जी का सफर उन सभी महिलाओं के लिए प्रेरणा है जो अपना सपना पूरा करना चाहती हैं। उन्होंने न सिर्फ खुद को सशक्त बनाया बल्कि हजारों महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने का मार्ग दिखाया। मोनिशा जी का नाम सौंदर्य और उद्यमशीलता के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में भी अग्रणी के रूप में लिया जाता है।

सशक्तिकरण सैलून Monisha Chhabra
Advertisment