सेक्शुअल डिस्फंक्शन की समस्या किसी भी उम्र के महिलाओं और पुरुषों में हो सकती है। आजकल की जीवनशैली भी कहीं न कहीं लोगों की सेक्शुअल लाइफ को प्रभावित कर रही है। इन समस्याओं के कारण एक हेल्दी सेक्स लाइफ में भी परेशानी होती है।
फीमेल सेक्शुअल डिसफंक्शन (Female Sexual Dysfunction) क्या है? आसान शब्दों में समझा जाए तो महिलाओं को सेक्स करने में दिक्कत आने को फीमेल सेक्शुअल डिस्फंक्शन कहते हैं।

फीमेल सेक्शुअल डिस्फंक्शन से जुड़े ये 5 लक्षण:

1) सेक्स करने की इच्छा का न होना (Low Sex Drive)

इसे लो लिबिडो (Low Libido) भी कहते हैं। यह सेक्सुअल एक्टिविटी में हमारी कम रुचि को बताता है। समय-समय पर सेक्स में रुचि कम होना आम बात है। डायबिटीज, लो ब्लड प्रेशर, किसी तरह की साइकोलॉजिकल समस्या या फिर अनहैप्पी रिलेशनशिप की वजह से लो लिबिडो की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है।

2) ऑर्गेज्म संबंधी समस्या (Anorgasmia)

सेक्शुअल इंटरकोर्स के दौरान ऑर्गेज्म (क्लाइमैक्स) प्राप्त करने में कठिनाई को एनोर्गास्मिया कहते हैं। सेक्स करने के बावजूद महिलाओं को अंदर से संतुष्टि नहीं मिल पाती। ऑर्गेज्म की कमी आपको परेशान करती है या आपके साथी के साथ आपके रिश्ते में बाधा उत्पन्न करती है।

एनोर्गास्मिया के कई कारण हैं, जिनमें हार्मोन्स में बदलाव, अपर्याप्त फोरप्ले, तनाव, डिप्रेशन, थकान, प्रेगनेंसी का डर, एक साथी का अपनी इच्छा के विरुद्ध सेक्स करना आदि शामिल हैं। ऐसी अवस्था में डॉक्टर से परामर्श बेहद जरूरी है।

3) Persistent Genital Arousal Disorder (PGAD)

इसे परसिस्टेंट सेक्सुअल अराउसल सिंड्रोम (PSAS) भी कहते हैं। यह स्थिति वाले लोग बिना किसी सेक्शुअल एक्टिविटी या स्टिमुलेशन के सेक्शुअली अराउस्ड महसूस करते हैं। यहां तक कि जब सेक्शुअली अराउस्ड महसूस होने का कोई कारण नहीं है, तब भी आप सेक्सुअल अराउसल के सभी लक्षण महसूस कर सकते हैं, जैसे कि इरेक्शन या वजाइना में सूजन।

4) सेक्स के दौरान दर्द होना (Dyspareunia)

डिस्परेयूनिया सेक्शुअल इंटरकोर्स के दौरान वजाइना में या पेल्विक एरिया के भीतर दर्द को कहते हैं। दर्द तेज या तीव्र हो सकता है। यह इंटरकोर्स से पहले, दौरान या बाद में हो सकता है। कई महिलाओं को इस वजह से भी सेक्स करने की इच्छा नहीं होती है।

5) वैजिनिज़्मस (Vaginismus)

वैजिनिज़्मस वह समस्या है जब एक महिला के लिए बार-बार अपने वजाइना में पेनिस, उंगली या कोई और वस्तु जैसे टैम्पोन आदि के पेनेट्रेशन से परेशानी और दर्द होना। इस अवस्था में महिला सेक्स करना चाहती है परंतु दर्द और उसके डर के कारण नहीं कर पाती।
जिन महिलाओं को यह समस्या होती है, वे अक्सर इंटरकोर्स से डरती है और उन्हें अवॉइड करती हैं।

** Disclaimer – यह सार्वजनिक रूप से एकत्रित की हुई जानकारी है। यदि आपको किसी विशिष्ट सलाह की आवश्यकता है, तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें।

Email us at connect@shethepeople.tv