टी एंड सी | गोपनीयता पालिसी

संचालित द्वारा Publive

Lack of Sex Education: सेक्स एड्युकेशन की कमी समस्या क्यों है?

Lack of Sex Education: सेक्स एड्युकेशन की कमी समस्या क्यों है?
Nikita Mohanty

23 Jun 2022

सेक्स एड्युकेशन, जैसा की नाम से पता चलता है, सेक्स से रिलेटेड एड्युकेशन है। कुछ लोग सोचते हैं कि इसका मतलब है की सेक्स करना सिखाया जाता है, पर ऐसा नहीं है। सेक्स एड्युकेशन में, कंसेंट, सेक्स ऑर्गन के फंक्शन, सेक्स से फैलने वाली बीमारियां, सेक्सुअल और रिप्रोडक्टिव हेल्थ को ठीक रखने की सीख, आदि आता है। इस समय भारत में 45%लोग सोचते हैं कि पीरियड्स श्राप के कारण होता है। यह सेक्स एड्युकेशन की कमी को दर्शाता है।

सेक्स एड्युकेशन की कमी समस्या क्यों है?

  • लोग सेक्स के बारे में सीखने के लिए पोर्न का सहारा लेते हैं, जिससे अनरियलिस्टिक एक्सपेक्टेशन होते हैं 
  • लड़की को बच्चे की फैक्ट्री माना जाता है 
  • मैरिटल रेप होता है 
  • लोग कंसेंट नहीं समझते हैं, जिसके कारण रेप रेट्स हाई हैं
  • सेक्स को ख़राब माना जाता है 
  • कंट्रासेप्शन, यानी प्रेगनेंसी से बचाव की जानकारी न होने के कारण पॉप्युलेशन इतनी है 
  • STD और STI से लोग बचाव नहीं करते 
  • लोग पीरियड्स को नहीं समझते, जिसके कारण औरतों को ओपरेस किया जाता है
  • कॉन्डोम के प्रयोग को बुरा मन जाता है
  • सेक्सुअल डिस्फंक्शन, यानी सेक्स ऑर्गन का काम न करना, का इलाज नहीं होता 
  • ब्रेस्ट कैंसर, टेस्टिकुलर कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर जैसे सीरियस बीमारी का इलाज सिर्फ इसलिए नहीं होता, क्योंकि लोग जानते ही नहीं की संकेत क्या हैं 
  • होमोसेक्सुअलिटी या समलैंगिकता को लोग नहीं समझते, इसलिए गलत मानते हैं
  • पाया गया है की रेप और सेक्सुअल अब्यूस उन देशों में सबसे ज़्यादा हैं, जहाँ सेक्स एड्युकेशन कम है

हम क्या कर सकते हैं?

1. अपने बच्चों को सही सेक्स एड्युकेशन दे सकते हैं

बच्चों के लिए सेक्स एजुकेशन के टिप्स इस पोस्ट में मिलेंगे: https://hindi.shethepeople.tv/revolutionist/why-is-sex-education-for-children-important-and-some-tips-for-parents 

2. आप खुद सेक्सुअल हेल्थ के बारे में पढाई कर सकते हैं

आज के ज़माने में इंटरनेट पर सब अवेलबल है। आप अपने खाली समय में रेपरडुक्टिव और सेक्सुअल हेल्थ के बारे में पढ़ सकते हैं, जान सकते हैं की किन चीज़ों से आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। आप अपने पार्टनर के लिए भी यह रिसर्च कर सकते हैं।

3. कंसेंट लीजिये 

आप अपने जीवन में कंसेंट लेना और देना प्रैक्टिस करें। अपने आस पास के लोगों को भी इस टॉपिक पर एड्यूकेट करें। आप स्त्री हैं या पुरुष, इससे फर्क नहीं पड़ता। आप हेट्रोसेक्सुअल रिलेशनशिप में है या होमोसेक्सुअल, इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता। आप चाहे 15 साल पुराने रिश्ते में हो, आपको हर बार सेक्स से पहले कंसेंट लेनी होगी।

अनुशंसित लेख