Advertisment

PARENTING TIPS: शिशु के लिए पहले 6 महीने तक स्तनपान क्यों जरूरी है?

नवजात शिशु के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है। यह शिशु को आवश्यक पोषक तत्व, एंटीबॉडी और रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है।यहां शिशु को पहले 6 महीने तक स्तनपान कराने के 5 महत्वपूर्ण लाभों को विस्तार से बताया गया है।

author-image
Shivani verma
New Update
breastfeeding

Credit: यूएनएम स्वास्थ्य

Crucial Role of Breastfeeding in Infants First 6 Months: नवजात शिशु के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है। यह शिशु को आवश्यक पोषक तत्व, एंटीबॉडी और रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और UNICEF दोनों ही शिशु के जन्म के शुरुआती 6 महीने तक केवल स्तनपान कराने की सलाह देते हैं। इसके बाद, 2 साल तक स्तनपान जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। यहां शिशु को पहले 6 महीने तक स्तनपान कराने के 5 महत्वपूर्ण लाभों को विस्तार से बताया गया है।

Advertisment

शिशु के लिए स्तनपान के 5 फायदे 

संक्रमण से लड़ने में मदद करता है

मां का दूध प्रकृति का शिशुओं के लिए बनाया गया सबसे संतुलित आहार है। इसमें वसा, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन ए, सी, और डी, कैल्शियम और आयरन का सही मिश्रण होता है, जो शिशु के स्वस्थ विकास और मस्तिष्क के विकास के लिए आवश्यक होते हैं। मां का दूध आसानी से पच जाता है और इसमें लैक्टोज नामक चीनी होती है जो विशेष रूप से शिशुओं के पाचन तंत्र के लिए बनाई गई होती है। यह शिशु को पेट दर्द, गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से बचाता है।

Advertisment

मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता

मां का दूध एंटीबॉडी और antimicrobial कारकों से भरपूर होता है जो शिशु को संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं। ये एंटीबॉडी मां की अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली से आते हैं और शिशु को तुरंत सुरक्षा प्रदान करते हैं। स्तनपान कराने वाले शिशुओं को कान के संक्रमण, दस्त, निमोनिया और सांस की बीमारियों जैसी कई आम बचपन की बीमारियों का खतरा कम होता है। इसके अलावा, मां का दूध शिशु को एलर्जी से भी बचा सकता है।

भावनात्मक विकास और मजबूत बंधन

Advertisment

स्तनपान शिशु और मां के बीच एक मजबूत भावनात्मक बंधन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। त्वचा से त्वचा का संपर्क, माँ की आवाज़ और गंध और स्तनपान के दौरान निकलने वाले हार्मोन शिशु को सुरक्षित, गर्म और प्यार महसूस कराते हैं। यह शिशु के आत्म-विश्वास और सामाजिक विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है। नियमित रूप से स्तनपान कराने से माँ को भी खुशी और तनाव कम करने वाले हार्मोन निकलते हैं, जो उनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

मां के लिए शारीरिक लाभ

स्तनपान न केवल शिशु के लिए, बल्कि मां के लिए भी शारीरिक रूप से फायदेमंद है। यह गर्भाशय को जन्म के बाद जल्दी सिकुड़ने में मदद करता है, जिससे bleeding कम होता है और गर्भाशय जल्दी से अपने सामान्य आकार में वापस आ जाता है। स्तनपान कराने से स्तन कैंसर, ओवरी (ovary) के कैंसर और टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करने में भी मदद मिलती है। इसके अलावा, स्तनपान कराने वाली महिलाओं में ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम होता है।

Advertisment

वजन घटाने में फायदेमंद

स्तनपान से अतिरिक्त कैलोरी बर्न होती है, इसलिए यह आपको गर्भावस्था के दौरान वजन तेजी से कम करने में मदद कर सकता है। यह हार्मोन ऑक्सीटोसिन जारी करता है, जो आपके गर्भाशय को गर्भावस्था से पहले के आकार में लौटने में मदद करता है और जन्म के बाद uterine bleeding को कम कर सकता है। स्तनपान से एक वर्ष से अधिक और दो वर्ष तक निरंतर लाभ मिलता है, विशेषकर माता-पिता को। स्तनपान से स्तन और ovarian के कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है । यह आपके ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) के खतरे को भी कम कर सकता है।

आर्थिक लाभ

स्तनपान एक किफायती और टिकाऊ तरीका है। यह शिशु को स्वस्थ रखने में मदद करता है, जिससे डॉक्टर के दौरे और अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता कम होती है। इसके अलावा, स्तनपान कराने से महिलाओं को पैसे बचाने में भी मदद मिलती है, क्योंकि उन्हें शिशु फार्मूला और अन्य आर्टिफीसियल आहार खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है। मां का दूध हमेशा उपलब्ध होता है और इसे तैयार करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है, जिससे समय और ऊर्जा की भी बचत होती है। यह विशेष रूप से उन परिवारों के लिए फायदेमंद है जिनके लिए शिशु फार्मूला खरीदना आर्थिक रूप से बोझ हो सकता है।

breastfeeding स्तनपान एंटीबॉडी कार्बोहाइड्रेट
Advertisment